लंबे समय से जिले में जमें लिपिकों का तबादला कर फंसी योगी सरकार, कर्मचारी करेंगे बड़ा आंदोलन

लंबे समय से एक ही जिले में डटे स्वास्थ्य विभाग के लिपिक संवर्ग के कर्मचारियों का स्थानान्तरण दूसरे जिलों में कर दिया गया है। इससे कर्मचारी नाराज हैं और उन्होंने सरकार के खिलाफ बड़े आंदोलन का फैसला किया किया। आंदोलन का कार्यक्रम भी कर्मचारियों ने जारी कर दिया है।

पत्रिका न्यूज नेटवर्क
आजमगढ़. जिले में लंबे समय से जमें स्वास्थ्य विभाग के लिपिक संवर्ग के 36 कार्मिकों का स्थानांतरण गैर जनपद में करनेे का मामला तूल पकड़ लिया है। कर्मचारी सरकार के फैसले को माननेे के लिए तैयार नहीं हैं। उन्होंने यूपी मेडिकल एंड पब्लिक हेल्थ मिनिस्ट्रियल एसोसिएशन ने के बैनर तले सरकार के फैसलेे के विरोध में आंदोलन का फैसला कर लिया है।

बता दें कि जिले में स्वास्थ्य कर्मचारियों के लापरवाही की शिकायत आम बात हो गयी है। आये दिन इस संबंध में शासन से शिकायत की जाती रही है। शासन ने व्यवस्था में सुधार के लिए लंबे समय से एक जिले में जमे कर्मचारियों के स्थानान्तरण का फैसला किया और जिले के लिपिक संवर्ग के 36 कर्मचारियों को गैर जनपद भेज दिया।

जिन कर्मचारियों का स्थानान्तरण किया गया है उनमें ओम प्रकाश, अरविद कुमार सिंह, सतीश कुमार राय, आनंद कमार राय, महेंद्र नाथ सिंह, विजय चंद्र राय, निजाम अहमद, दिग्विजय नाथ, विनोद सिंह, रवि, चंद्रभान यादव, रूपनारायण गिरि, गिरीश त्रिपाठी, प्रमोद कुमार, संजय कुमार सिंह, विनोद, विवेक श्रीवास्तव, दुर्गा प्रसाद राय, शेख मुस्तफा, बृजभान राम, मनोज यादव, सैयद वसीम हैदर, सुरेंद्र नाथ मिश्रा, सुरेश चंद्र मौर्य, मनीष तिवारी, सुरेश, अशोक यादव, विनोद तिवारी, मो. इरशाद, बृजेश कुमार राय, दिलीप मौर्य, संजय, मुनी राम, प्रभात कुमार सिंह, अंजना सिंह शामिल हैं

शासन की इस कार्रवाई सेे हड़कंप मचा हुआ है। कर्मचारी सरकार के फैसले से नाराज है और उन्होंने इसके खिलाफ आंदोेलन का मन बना लिया है। यूपी मेडिकल एंड पब्लिक हेल्थ मिनिस्ट्रियल एसोसिएशन के जिलाध्यक्ष सत्यपाल चौहान ने बताया कि स्थानांतरण नीति से विपरीत स्वास्थ्य विभाग के आह्वान पर 19 जुलाई से स्वास्थ्य विभाग लिपिक आंदोलन की शुरुआत करेंगे। आंदोलन के प्रथम चरण में सुबह 10 से दोपहर तीन बजे तक कार्य बहिष्कार करते हुए धरना देंगे।

इसके बाद भी मांग पूरी नहीं हुई तो 20 और 22 जुलाई को पूर्ण रूप से कार्य बहिष्कार किया जाएगा। धरने के पहले दिन 20 जुलाई को सीएमओ के माध्यम से मुख्यमंत्री को संबोधित ज्ञापन दिया जाएगा। फिर 26 जुलाई से स्वास्थ्य सेवा महानिदेशालय स्वास्थ्य भवन लखनऊ का घेराव किया जाएगा।

BY Ran vijay singh

रफतउद्दीन फरीद
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned