बाजार पर हावी हुआ फैशन, समाप्ती की ओर ऊन का कारोबार

बाजार पर हावी हुआ फैशन, समाप्ती की ओर ऊन का कारोबार
ऊन

Mohd Rafatuddin Faridi | Publish: Jan, 01 2018 11:45:13 PM (IST) Azamgarh, Uttar Pradesh, India

रेडिमेड गर्म कपड़ों के चलते ऊन का कारोबार 75 फीसदी तक गिरा।

आजमगढ़. एक दशक पहले ठंड आने के साथ ही महिलाओं के हाथ में ऊन और सलाई दिखने लगती थी। अधिकांश लोग स्वेटर भी घर का बुना पहनते थे लेकिन अब फैशन इस कदर हाबी है कि यह बीते दिनों की बात हो चुकी है। फैशन की दुनिया में स्मार्ट जैकेट, कोट व ब्रांडेड स्वेटर का जमाना आ गया है। हालत यह है कि ऊन चलन से लगभग बाहर होता जा रहा है। दूसरी ओर कामकाजी महिलाओं के पास समयाभाव ने भी ऊन बाजार को प्रभावित किया है।


ऊन की बिक्री में पिछले पांच साल में करीब 75 फीसद तक की गिरावट आई है। रेडिमेड ने हाथ के बुने स्वेटर को चलन से बाहर कर दिया। घरों में स्वेटर बुनने का चलन समाप्त हो रहा है। दूसरी तरफ रेडीमेड स्वेटर और जैकेट के बढ़ते फैशन के चलते भी हाथ से बुने स्वेटर कम दिखते हैं। हालांकि हाथ के बुने स्वेटर के शौकीन अभी भी हैं, भले ही उनकी सीमित संख्या है। बाजार में ऊन के ब्रांडेड और लोकल कई रेंज हैं। लुधियाना का ऊन पहली पसंद रहा है। अमृतसर, दिल्ली, जम्मू कश्मीर के बने ऊन भी उपलब्ध हैं।


ऊन के कारोबारी अनिल जायसवाल, मनीष जायसवाल, रहमान शेख कहते हैं कि बाजार में इस समय ऊन की दुकानें कम होती जा रही है। कारण की अब इसकी बिक्री ही नहीं है। माल मंगाने के बाद पैसा फंस जा जाता है। फिर भी कारोबार है तो सभी तरह के ब्रांड रखने ही पड़ेते लेकिन अब ग्राहक कम ही नजर आते है। गत वर्ष की तुलना में रेट में करीब दस फीसद वृद्धि भी हुई है। बाजार में 450 से 900 रुपये प्रति किलो के उन उपलब्ध हैं। जबकि ऊन का प्रति पचास ग्राम गोला 50, 75, 100 रुपये में उपलब्ध हैं। बाजार में फेदर ऊन भी प्रचलन में है। यह काफी नरम होता है। वहीं फेदर ग्लाब, गालसम, क्रिसिटिना, जुगनू, प्लेन गाला, फैशन, बेबी केयर, लिटिल लिंगर प्रमुख है।


इस बारे में पूछने पर गृहणी उमा जायसवाल, पूनम सिंह, साधना गुप्ता, प्रिया आदि कहती है कि पहले तो आज किसी के पास इतना समय नहीं है कि बुनाई कर सके, दूसरे बच्चे से लेकर बड़े तक ब्रांडेड रेडीमेट स्वेटर ही पसंद करते है। पिछले कुछ समय में स्वेटर से ज्यादा बच्चो का रूझान जैकेट की तरफ बढ़ा है। बुजुर्ग ही बुना हुआ स्वेटर पंसद करते है। ऐसे में अगर बुनाई भी की जाय तो पहनने वाले नहीं मिलेंगे।
by Ran Vijay Singh

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned