scriptMaharishi Durvasa had establish Shivling in Azamgarh situated at equal distance from Kashi and Ayodhya | काशी और अयोध्या से सामान दूरी पर स्थित है यह शिव मंदिर, महर्षि दुर्वासा ने सतयुग में की थी स्थापना, खंडित शिवलिंग की होती है पूजा | Patrika News

काशी और अयोध्या से सामान दूरी पर स्थित है यह शिव मंदिर, महर्षि दुर्वासा ने सतयुग में की थी स्थापना, खंडित शिवलिंग की होती है पूजा

सतयुग में महर्षि दुर्वासा ने अपने तपोस्थली दुर्वासा धाम में शिवलिंग की स्थापना की थी। यह शिवलिंग अन्य ज्योतिर्लिंग से से विल्कुल अगल है। देश में यह पहला ऐसा शिवलिंग है जो खंडित है लेकिन इसकी पूजा के लिए देश के विभिन्न हिस्सोें से लोग पहुंचते हैं। खासबात है कि यह काशी और अयोध्या से समान दूरी पर स्थित है।

आजमगढ़

Published: July 23, 2022 09:24:14 am

पत्रिका न्यूज नेटवर्क
आजमगढ़. जिला मुख्यालय से 36 किमी की दूरी पर स्थित दुर्वासा धाम पौराणिक महत्व रखता है। सरकार ने भी इसेे पर्यटन स्थल के रूप में विकसित किया है। इसकी पौराणित महत्ता ही है कि देश के विभिन्न स्थानों से लाखों लोेग यहां प्रति वर्ष दर्शन के लिए पहुंचते है। इस स्थान का नाम दर्वासा धाम इसलिए पड़ा क्योंकि सतयुग में सती अनुसुइया एवं अत्रि मुनि के बड़े पुत्र महर्षि दुर्वासा ने स्वयं इसकी स्थापना की और यहीं पर तप किया। देश में यह पहला स्थान है जहां खंडित शिवलिंग है और यह काशी और अयोध्या से समान दूरी पर स्थित है।

महर्षि दुर्वासा द्वारा तप स्थली पर स्थापित शिवलिंग
महर्षि दुर्वासा द्वारा तप स्थली पर स्थापित शिवलिंग

पौराणिक कथाओं के मुताबिक सती अनुसुइया एवं अत्रि मुनि के बड़े पुत्र महर्षि दुर्वासा 12 वर्ष की आयुु में चित्रकूट से फूलपुर तहसील क्षेत्र के वर्तमान गांव बनहर मय चक गजड़ी में तमसा-मंजूसा नदी के संगम स्थल पर पहुंचे थे। यहां उन्होंने वर्षों तक तप किया। सतयुग, त्रेतायुग और द्वापर युग में महर्षि दुर्वासा उक्त स्थान पर रहे। कलयुग के प्रारम्भिक काल में वे तप स्थल पर ही अन्तर्ध्यान हो गये। वहां आज उनकी भव्य प्राचीन प्रतिमा है। जिस स्थान पर वे शिव की आराधना करते थे वहां आज भी खंडित शिवलिंग मौजूद है। देेश में यही एक स्थान है जहां खंडित शिवलिंग की पूजा होती है।

दुर्वासा धाम पर भक्तों की भीड़

उक्त शिवलिंग तमसा-मंजुसा के संगम तट पर स्थित है। यह बीच से फटा हुआ है। अभिलेखों के अनुसार शिवलिंग के एक सिरे से जितनी दूरी पर अयोध्या है दूसरे सिरे से उतनी दूरी पर ही काशी। कार्तिक पूर्णिमा पर यहां तीन दिवसीय भव्य मेले का आयोजन होता है जिसमें देश के विभिन्न हिस्सों से लाखों लोग पहुंचते है। मान्यता है कि कार्तिक पूर्णिमा के दिन तमसा मंजुसा के संगम में स्नान से 100 पापों से मुक्ति मिलती है। यहां प्रतिदिन भक्तों की भीड़ देखने को मिलती है।

कथाओं के अनुसार एक बार नदी में स्नान करते समय दुर्वासा ऋषि का वस्त्र नदी की धारा में प्रवाहित हो गया था। उस समय कुछ ही दूरी पर स्नान कर रही द्रोपदी ने अपना आंचल फाड़ कर उन्हें प्रदान किया था। उस समय दुर्वासा ऋषि ने उन्हें वर दिया था कि यह वस्त्र खंड वृद्धि प्राप्त कर तुम्हारी लज्जा के रक्षा का कारण बनेगा। इसी वर का प्रभाव रहा कि महाभारत काल में जब दुशासन ने द्रोपदी की साड़ी खींचनी शुरू की तो वह बढ़ती गयी। इसी प्रकार अनेक भक्तों की इनके द्वारा रक्षा की गयी। शिव मंदिर से कुछ दूरी पर ही गुरु द्रोणाचार्य का आश्रम भी है जिसे सरकार पर्यटन स्थल के रूप में विकसित कर रही है।

महर्षि दुर्वासा की प्रतिमा

अभिज्ञान शाकुन्तलम में दुर्वासा जी का शाप प्रसिद्ध है। आतिथ्य में त्रुटि रह जाने के कारण इन्होंने कण्व ऋषि के आश्रम में शकुन्तला को शाप दिया था कि उसका पति उसे भूल जायेगा। एक बार भगवान विष्णु स्वयं दुर्वासा ऋषि के शाप से पीड़ित हुए थे। माना जाता है कि जब दुर्वासा जी 12 वर्ष की आयु से कलयुग के उदय काल में अंर्तध्यान होने तक यहीं रहे तो द्रोपदी को श्राप भी यहीं दिया होगा। चुंकि द्रोणाचार्य का आश्रम कुछ ही दूरी पर है इसलिए इस कथा को और बल मिलता है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Monsoon : राजस्थान में 3 अगस्त से बारिश का नया सिस्टम, पूरे प्रदेश में होगी झमाझमNSA डोभाल की मौजूदगी में बोले मुस्लिम धर्मगुरु- 'सर तन से जुदा' हमारा नारा नहीं, PFI पर प्रतिबंध की बनी सहमतिकीमत 4.63 लाख रुपये से शुरू और देती हैं 26Km का माइलेज! बड़ी फैमिली के परफेक्ट हैं ये सस्ती 7-सीटर MPV कारेंराजस्थान में भारी बारिश का दौर जारी, स्कूलों की तीन दिन की छुट्टी, आज इन जिलों में झमाझम की चेतावनीWeather Update: राजस्थान में झमाझम बारिश को लेकर अब आई ये खबरराजस्थान में आज यहां होगी बारिश, एक सप्ताह तक के लिए बदलेगा मौसमएमपी में 220 करोड़ से बनेगा 62 किमी लंबा बायपास, कम हो जाएगी कई शहरों की दूरी, जारी हो गए टेंडरसरकारी नौकरी लगवा देंगे कहकर 10 युवाओं को लगाई 75 लाख रुपए की चपत, 2 गिरफ्तार

बड़ी खबरें

पाकिस्तानी नौसेना का वॉरशिप भारतीय इलाके में घुसा, फिर भारतीय एयरक्राफ्ट ने सिखाया सबकNITI Aayog Meeting: NITI आयोग की बैठक में हुई शिक्षा नीति समेत कई मुद्दों पर चर्चा, जानें क्या रहा खासBihar News: RCP सिंह के इस्तीफे के बाद गरजे अजय आलोक, कहा - 'ये नीतीश कुमार नहीं, बल्कि नाश कुमार है बिहार के CM'ISRO का SSLV-D1 की लॉन्चिंग हुई फेल, कहा- सैटेलाइट अब किसी काम का नहींगुजरात विधानसभा चुनाव से पहले अरविंद केजरीवाल ने आदिवासियों से किए 6 वादे, कहा- ट्राईबल एडवाइजरी कमिटी का इसी समाज से होगा चेयरमैनदिल्ली रोहतक रेलवे लाइन पर मालगाड़ी के 8 डिब्बे पटरी से उतरे, रेलवे ट्रैक जामजम्मू-कश्मीर : श्रद्धालुओं के आगमन में भारी गिरावट के बीच अमरनाथ यात्रा स्थगितPM मोदी की पाकिस्तानी बहन जो 27 साल से बांध रही राखी, इस बार 2024 के आम चुनावों के लिए दी शुभकामनाएं
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.