scriptMission 2024 BJP take out MP MLA army on defeated booths | हारे हुए बूथों पर बीजेपी उतारेगी एमपी-एमएलए की फौज, इस तरह फतह करेगी मिशन-2024 | Patrika News

हारे हुए बूथों पर बीजेपी उतारेगी एमपी-एमएलए की फौज, इस तरह फतह करेगी मिशन-2024

अभी विपक्ष जहां उपचुनाव में हार की समीक्षा में जुटा है वहीं बीजेपी ने वर्ष 2024 में होने वाले लोकसभा चुनाव की तैयारियां शुरू कर दी। बीजेपी का फोकश उन बूथों पर है जहां उसे लगातार हार मिल रही है। इन बूथों को साधने के लिए बीजेपी ने सरल एप लांच किया है। साथ ही एमपी-एमएलए से लेकर मंत्री तक की जिम्मेदारी तय कर दी गयी है। एप पर चुनाव की कई महत्वपूर्ण जानकारियां भी उपलब्ध होंगी।

आजमगढ़

Published: July 02, 2022 04:53:13 pm

पत्रिका न्यूज नेटवर्क
आजमगढ़. जीत का सिलसिला जारी और आजमगढ़ जैसे जिले में लगातार मिल रही हार के क्रम को तोड़ने के लिए बीजेपी ने वर्ष 2024 में होने वाले लोकसभा चुनाव को लेकर खास योजना तैयार की है। पार्टी कमजोर बूथ जहां उसे लगातार हार मिल रही है उसे मजबूत कर बड़ी जीत हासिल करने की कोशिश करेगी। इसके लिए पार्टी ने सरल एप लांच किया है। यह एप पार्टी की जीत की नींव रखेगा। एप पर विभिन्न बिंदुओं पर बूथ के कमजोर होने का डाटा अपलोड किया जा रहा है। एमपी एमएलए के साथ ही मंत्रियों को इसकी जिम्मेदारी सौंपी गयी है।

प्रतीकात्मक फोटो
प्रतीकात्मक फोटो

बता दें कि अपने बूथ प्रबंधन के दम पर ही बीजेपी वर्ष 2014 से अब तक लगातार बड़ी जीत हासिल कर सत्ता पर काबिज होती रही है लेकिन पूर्वांचल में आजमगढ़ सहित कई जिले ऐसे हैं जहां पार्टी आज तक बेहतर नहीं कर पाई है। लोकसभा उपचुनाव में भले ही आजमगढ़ सीट बीजेपी ने जीती हो लेकिन हारजीत का अंतर मात्र साढ़े आठ हजार वोटों का है। वहीं बीजेपी को 600 से अधिक बूथों पर करारी हार का सामना करना पड़ा है।

अब बीजेपी ने पूरे प्रदेश में ऐसे बूथों को चिन्हित किया जहां जहां उसे हार का सामना करना पड़ता है अथवा बूथ कमजोर है। ऐसे बूथों को मजबूत कर बीजेपी ने वर्ष 2024 में बड़ी जीत हासिल करने का प्लान बनाया है। इसके लिए पार्टी ने सरल एप लांच किया है। एप पर कमजोर बूथों का डाटा अपलोड किया जा रहा है। डाटा अपलोड कराने की जिम्मेदारी सांसद, विधायक, एमएलसी और मंत्रियों को सौंपी गयी है। एक सांसद को अधिकतम 200 और विधायक को 50 कमजोर बूथ का डाटा अपलोड करने के लिए पार्टी की ओर कहा गया है। यह कार्य शुरू भी हो गया है।

पार्टी नेतृत्व ने पिछले चार चुनावों लोकसभा चुनाव 2014, 2019 और विधानसभा चुनाव 2017 व 2022 के परिणाम पर कार्यकर्ताओं से मिले फीडबैक के मुताबिक कमजोर बूथों की सूची सांसदों और विधायकों को उपलब्ध करा दी है। उसी आधार पर डाटा अपलोड करने का कार्य किया जा रहा है। डाटा अपलोड होने के बाद पार्टी नेतृत्व संबंधित बूथों के कमजोर होने की वजहों को दूर करने के लिए मार्गदर्शन करेगा। एप पर पूरी जानकारी उपलब्ध रहने से बूथ स्तर की मानिटरिंग प्रदेश और राष्ट्रीय स्तर पर हो रही है।

भाजपा जिलाध्यक्ष ऋषिकांत राय ने बताया कि लालगंज लोकसभा क्षेत्र में 550 बूथ चिन्हित किए गए हैं। यहां चुंकि पार्टी का सांसद नहीं है इसलिए डाटा अपलोड की जिम्मेदारी राज्यसभा सदस्य संगीता यादव, कैबिनेट मंत्री एके शर्मा, एमएलसी सीपी चंद को सौंपी गयी है। कार्यकर्ताओं की मदद से काम किया जा रहा है। वहीं आजमगढ़ संसदीय क्षेत्र की कमान खुद नव निर्वाचति सांसद निरहुआ ने संभाल रखी है। उन्होंने बताया कि पिछले चार चुनाव में बूथ पर भाजपा को मिले वोटों की संख्या। बूथ पर जाति व धर्मवार मतदाताओं का विवरण। बूथ क्षेत्र में मनाए जाने वाले प्रमुख त्योहारों की सूची, बूथ क्षेत्र के प्रभावशाली लोगों की सूची और उनका पार्टी के प्रति रुझान आदि ब्यौरा इसमें शामिल है।

वहीं क्षेत्रीय अध्यक्ष धर्मेंद्र सिंह का कहना है कि सरल एप पर कमजोर बूथों का डाटा अपलोड करने की प्रक्रिया शुरू कर दी गई है। हमारे आईटी कार्यकर्ता इस कार्य में सांसदों व विधायकों का सहयोग कर रहे हैं। एक बार जब एप पर जब डाटा अपलोड हो जाएगा तो बूथों के कमजोर होने की वजह एक प्लेटफार्म पर मौजूद रहेगी। इससे उन्हें मजबूत करने की दिशा में कार्य करना आसान हो जाएगा।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Monsoon Alert : राजस्थान के आधे जिलों में कमजोर पड़ेगा मानसून, दो संभागों में ही भारी बारिश का अलर्टमुस्कुराए बांध: प्रदेश के बांधों में पानी की आवक जारी, बीसलपुर बांध के जलस्तर में छह सेंटीमीटर की हुई बढ़ोतरीराजस्थान में राशन की दुकानों पर अब गार्ड सिस्टम, मिलेगी ये सुविधाधन दायक मानी जाती हैं ये 5 अंगूठियां, लेकिन इस तरह से पहनने पर हो सकता है नुकसानस्वप्न शास्त्र: सपने में खुद को बार-बार ऊंचाई से गिरते देखना नहीं है बेवजह, जानें क्या है इसका मतलबराखी पर बेटियों को तोहफे में देना चाहता था भाई, बेटे की लालसा में दूसरे का बच्चा चुरा एक पिता बना किडनैपरबंटी-बबली ने मकान मालिक को लगाई 8 लाख रुपए की चपत, बलात्कार के केस में फंसाने की दी थी धमकीराजस्थान में ईडी की एन्ट्री, शेयर ब्रोकर को किया गिरफ्तार, पैसे लगाए बिना करोड़ों की दौलत

बड़ी खबरें

Bihar Political Crisis Live Updates: CM नीतीश कुमार ने राज्यपाल से मांगा समय, BJP के सभी 16 मंत्री आज देंगे इस्तीफाबिहारः जदयू और भाजपा के बीच तकरार की वो पांच वजहें, जिससे टूटने के कगार पर पहुंची नीतीश कुमार सरकारMaharashtra Cabinet Expansion Live Updates: महाराष्ट्र कैबिनेट का शपथ ग्रहण समारोह खत्म, शिवसेना और बीजेपी के 18 विधायकों ने ली शपथताइवान का चीन समेत दुनिया को संदेश: चीन के सैन्य अभ्यास के तुरंत बाद ताइवान ने भी शुरू की Live Fire Artillery Drill, बज गए युद्ध के नगाड़े18 से 22 अक्टूबर तक गुजरात के गांधीनगर में दिखाई जाएगी भारत की सबसे बड़ी रक्षा प्रदर्शनी, गुजरात चुनाव से पहले बदली तारीखहिंदुओं को अल्पसंख्यक घोषित करना अदालत का काम नहीं: सुप्रीम कोर्टFBI का छापा : अमरीका में भी भारत की तरह छापेमारी, Donald Trump के फ्लोरिडा वाले घर पर FBI की रेडCWG 2022: शूटिंग के बिना भारत ने जीते 61 मेडल, चौथे नंबर पर खत्म किया कॉमनवेल्थ का सफर
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.