पंचायत चुनाव में बड़ी लापरवाही आयी सामने, कई प्रत्याशियों के गायब रहे चुनाव चिन्ह

-बिना चुनाव चिन्ह वाले बैलेट पेपर पर कई जगह शुरू हो गयी वोटिंग

-चुनाव इतिहास में पहली बार इतनी बड़ी लापरवाही आयी सामने, एक जगह पीठासीन ने दूसरे चिंह पर मतदान की दे डाली नसीहत

पत्रिका न्यूज नेटवर्क
आजमगढ़. त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव में बड़ी लापरवाही सामने आयी है। जिले में क्षेत्र पंचायत सदस्य के तीन प्रत्याशियों का चुनाव चिन्ह ही बैलेट पेपर से गायब रहा। एक जगह तो पीठासीन अधिकारी ने दूसरे चुनाव चिन्ह पर वोट की नसीहत तक दे डाली। वहीं कई बूथों पर सदस्यों का बैलेट पेपर न होने का मामला भी सामने आया है। वैसे इस मामले में अधिकारियों ने मौन साध लिया है।

बता दें कि त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव में दूसरे चरण का मतदान सोमवार को संपन्न हुआ। इस दौरान प्रशासन की लापरवाही सामने आयी। पल्हना ब्लाक के लहुवा खुर्द गांव बूथ संख्या 81 की वोटिंग प्राइमरी पाठशाला पल्हना में चल रही थी। जिसमें पांच क्षेत्र पंचायत सदस्य चुनाव लड़ रहे हैं। वार्ड नंबर तीन व चार में दो क्षेत्र पंचायत सदस्यों चुनाव चिन्ह ही बैलेट पेपर से गायब था। जबतक इसी जानकारी हुई पोलिंग शुरू हो चुकी थी। बूथ पर नौ लोग मतदान भी कर चुके थे। जानकारी होने पर प्रत्याशी और उसके समर्थकों ने हंगामा शुरू कर दिया। सूचना पर सेक्टर मजिस्ट्रेट सच्चिदानंद पांडेय ने किसी तरह मामले को संभाला। यहां पड़े वोटों को कैंसिल कर फिर से मतदान शुरू किया गया।

इसी तरह हरैया ब्लाक के चांदपट्टी से क्षेत्र पंचायत सदस्य का चुनाव लड़ रहीं सुमन साहनी के समर्थकों ने बैलेट पेपर में चुनाव चिह्न परिवर्तित होने का आरोप लगाते हुए बूथ पर हंगामा किया। सूचना पर पहुंचे सहायक निर्वाचन अधिकारी आमिर अली, नायब तहसीलदार प्रभाकर मिश्रा और थानाध्यक्ष रौनापार तारकेश्वर राय ने समझा-बुझाकर मामले को शांत कराया। सुमन साहनी के मुताबिक उन्हें सहायक निर्वाचन अधिकारी द्वारा आटा चक्की चुनाव चिह्न आवंटित किया गया था। सोमवार को जब मतदाता मतदान करने गए तो मतपत्र में आटा चक्की चुनाव निशान ही नहीं था। इससे लोग वापस आने लगे। इसकी शिकायत जब पीठासीन अधिकारी से की गई तो उन्होंने कोई संतोषजनक जवाब नहीं दिया। फिर इसकी शिकायत उपजिलाधिकारी से की गयी।

इस बीच पहुंचे अधिकारियों ने मतपत्र पर छपे अंगूठी के निशान पर ही मतदान कराने का की सलाह दे डाली। सहायक निर्वाचन अधिकारी आमिर खान ने बताया कि चांदपट्टी से तीन प्रत्याशी मैदान में थे। बैलट पेपर के क्रमांक के अनुसार प्रथम नंबर पर अनार, दूसरे नंबर पर अलाव और तीसरे नंबर पर अंगूठी थी। गलतफहमी में प्रत्याशी ने अपना निशान अंगूठी के स्थान पर आटा चक्की समझ लिया। इसके अलावा सिकरौर ग्राम पंचायत के बूथ संख्या 11 पर ग्राम पंचायत सदस्य का बैलेट पेपर ही नहीं पहुंचा था। इस तरह के कई अन्य मामले भी सामने आये।

BY Ran vijay singh

रफतउद्दीन फरीद
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned