scriptMLC election 2022 son contest election Bahubali father future at stake | MLC election 2022: यहां बेटों की हार-जीत तय करेगी पिता का राजनीतिक भविष्य | Patrika News

MLC election 2022: यहां बेटों की हार-जीत तय करेगी पिता का राजनीतिक भविष्य

MLC election 2022 आजमगढ़-मऊ स्थानीय प्राधिकारी निर्वाचन क्षेत्र के लिए चुनाव मैदान में पुत्र हैं लेकिन भविष्य पिता का दाव पर लगा है। पार्टी से बगावत के आरोप में एमएलसी यशवंत सिंह को बीजेपी से निष्कासित कर दिया गया है और पुत्र प्रेम में बाहुबली रमाकांत यादव बीजेपी खेमे में बैठ अपने लिए मुसीबत खड़ी कर लिए है।

आजमगढ़

Published: April 11, 2022 12:48:45 pm

पत्रिका न्यूज नेटवर्क
आजमगढ़. MLC election 2022 आजमगढ़-मऊ स्थानीय प्राधिकारी निर्वाचन क्षेत्र के लिए मतगणना मंगलवार को होगी लेकिन यहां चुनाव काफी दिलचस्प हो गया है। कारण कि यह एकलौती सीट है जहां पुत्र चुनाव लड़ रहे हैं और दाव पर पिता का राजनीतिक भविष्य लगा हुआ है। त्रिकोणीय सघर्ष में फंसी इस सीट पर सपा के सामने भी करो या मरो की स्थिति है। कारण कि इस क्षेत्र में आने वाली 14 में से 13 विधानसभा सीटों पर सपा का कब्जा है। ऐसे में देखना दिलचस्प होगा कि बाजी किसके हाथ लगती है।

प्रतीकात्मक फोटो
प्रतीकात्मक फोटो

बता दें कि एमएलसी चुनाव में बीजेपी ने सपा विधायक बाहुबली रमाकांत यादव के पुत्र अरुणकांत यादव को मैदान में उतारा है तो सपा से एमएलसी राकेश यादव मैदान में है। वहीं बीजेपी से बगावत कर एमएलसी यशवंत सिंह ने अपने पुत्र विक्रांत सिंह को निर्दल मैदान में उतार दिया है। इसके अलावा दो अन्य निर्दल प्रत्याशी अंब्रेश व सिकंदर प्रसाद कुशवाह भी भाग्य आजमा रहे हैं लेकिन यहां सीधी लड़ाई अरुणकांत यादव, राकेश यादव और विक्रांत सिंह के बीच मानी जा रही है।

राकेश यादव पिछले चुनाव में इस सीट से एमएलसी चुने गए थे। उन्होंने बीजेपी के राजेश महुआरी को बड़े अंतर से हराया था। यूपी विधानसभा चुनाव 2022 में सपा एमएलसी क्षेत्र में आने वाली 14 विधानसभा सीटों में से 13 पर जीत हासिल की है। इससे सपा का हौसला बुलंद है। वहीं दूसरी तरफ बीजेपी ने पार्टी से बगावत के कारण यशवंत सिंह को छह साल के लिए निष्कासित कर दिया है। विक्रांत की जीत का दारोमदार उनके पिता पर ही टिका हुआ है।

वहीं दूसरी तरफ अरुणकांत का भी मजबूत पक्ष उनके पिता रमाकांत यादव है। वैसे तो रमाकांत सपा के विधायक है लेकिन मतदान के दिन वे बीजेपी के खेमे में दिखे। यह भी कहा जा सकता है कि अंदरखाने से उन्होंने चुनाव में अपने पुत्र का खुलकर साथ दिया है। इससे सपा में उनके विरोधी सक्रिय हो गए है। अगर अरुणकांत जीत जाते हैं तो निश्चित तौर पर रमाकांत का कद बढ़ेगा। उनके लिए बीजेपी के साथ जाने के भी दरवाजे खुल सकते हैं। कारण कि सपा में खुद को अलग-थलग महसूस कर रहे हैं। अगर अरुण हारते हैं तो रमाकांत का राजनीतिक कैरियर निश्चित तौर पर प्रभावित होगा। कारण कि फूलपुर क्षेत्र के लोग इसे उनके पूर्वांचल में वर्चश्व को जोड़कर देख रहे हैं।

वहीं दूसरी तरफ अगर विक्रांत जीतते हैं तो यशवंत सिंह का राजनीति में कद काफी बढ़ जाएगा। कारण कि वर्ष 1996 में यशवंत ने बसपा को तोड़कर यूपी में बीजेपी की सरकार बनाई थी। इसके बाद 2017 में सीएम योगी के लिए एमएलसी की कुर्सी छोड़ी थी। योगी के करीबी होने के बाद भी पुत्र को चुनाव लड़ाने के कारण उन्हें पार्टी से निष्कासित किया गया है। ऐसे में अगर विक्रांत चुनाव जीतते हैं तो यशवंत का पार्टी से निष्कासन रद्द हो सकता है। वहीं अगर सपा जीतती है तो लोकसभा उपचुनाव के पहले उसका वर्चश्व क्षेत्र में बढ़ जाएगा।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Veer Mahan जिसनें WWE में मचा दिया है कोहराम, क्या बनेंगे भारत के तीसरे WWE चैंपियनName Astrology: इन नाम वाले लोगों के जीवन में अचानक से धनवान बनने का होता है योगफटाफट बनवा लीजिए घर, कम हो गए सरिया के दाम, जानिए बिल्डिंग मटेरियल के नए रेटबुध जल्द वृषभ राशि में होंगे मार्गी, इन 4 राशियों के लिए बेहद शुभ समय, बनेगा हर कामबेहद शार्प माइंड होते हैं इन 4 राशियों के लोग, बुध और शनि देव की रहती है इन पर कृपाज्योतिष: रूठे हुए भाग्य का फिर से पाना है साथ तो करें ये 3 आसन से कामराजस्थान में देर रात उत्पात मचा सकता है अंधड़, ओलावृष्टि की भी संभावनाशादी के 3 दिन बाद तक दूल्हा-दुल्हन नहीं जा सकते टॉयलेट! वजह जानकर हैरान हो जाएंगे आप

बड़ी खबरें

कश्मीर में आतंकी हमले में टीवी एक्ट्रेस की मौत, 10 साल के भतीजे पर भी हुई फायरिंगसुरक्षा एजेंसियों ने यासीन मलिक की सजा के बाद जारी किया आतंकी हमले का अलर्टIPL 2022, LSG vs RCB Eliminator Match Result: पाटीदार के दम पर जीता RCB, नॉकआउट मुकाबले में LSG को 14 रनों से हरायाटेरर फंडिंग केस में यासीन मलिक को उम्र कैद की सजा, 10 लाख का जुर्मानायासीन मलिक की सजा से तिलमिलाया पाकिस्तान, PM शहबाज शरीफ, इमरान खान, शाहिद आफरीदी को आई मानवाधिकार की यादAir Force के 4 अधिकारियों की हत्या, पूर्व गृहमंत्री की बेटी का अपहरण सहित इन मामलों में था यासीन मलिक का हाथअमरनाथ यात्रियों को तीन लेयर में मिलेगी सिक्योरिटी, ड्रोन व CCTV कैमरों के जरिए भी रखी जाएगी नजरमहबूबा मुफ्ती ने बीजेपी पर हमला करते हुए कहा- आप बता दो कि मुसलमानों के साथ क्या करना चाहते हो
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.