अब एम्बुलेंस चालक नहीं कर सकेंगे मनमानी, फोन के 5 मिनट के भीतर घर पहुंचेगी एम्बुलेंस

व्यवस्था में सुधार के लिए जीपीएस सिस्टम में किया गया बदलाव

एम्बुलेंस में लगा जीपीएस सिस्टम किया गया अपग्रेड

जिले में 108, 102 और एएलएस की मौजूद हैं 105 एम्बुलेंस

आजमगढ़. अब एंबुलेंस चालक मनमानी नहीं कर पाएंगे। कारण कि जिले में मौजूद 108, 102 और एएलएस की सभी 105 एम्बुलेंसों के जीपीएस सिस्टम को अपग्रेड कर दिया गया है। अब हर कदम पर इनकी मानीटरिंग होगी। मरीज के एक काल पर इन्हें तत्काल पहुंचना होगा।

बता दें कि जिले की आबाद 50 लाख से अधिक है। स्वास्थ्य सेवाओं को बेहतर बनाने के लिए जिले में 102, 108 व एएलएस की 105 एंबुलेंस संचालित हैं। एंबुलेंस संचालकों की मनमानी से मरीजों को काफी दिक्कत का सामना करना पड़ता है। फोन के बाद एम्बुलेंस को मौके पर पहुंचने में घंटों का समय लग जाता है जिससे कभी कभी मरीज की हालत या तो ज्यादा बिगड़ जाती है। कई बार लोग अस्पताल पहंुचने से पहले ही दम तोड़ देते हैं। कहने के लिए सभी एम्बुलेंस में जीपीएस लगा है लेकिन यह उतना प्रभावी नहीं था। जिसके कारण एम्बुलेंस कर्मी आसानी से बहाने ढ़ूढ लेते थे।

स्वास्थ्य सेवाओं को बेहतर बनाने के लिए अब सभी एम्बुलेंसों का जीपीएस सिस्टम अपग्रेड किया गया है ताकि उनकी जानकारी लगातार मिलती रहे। एम्बुलेंस सेवा के नोडल अधिकारी तथा अपर मुख्य चिकित्सा अधिकारी डाॅ. एके सिंह ने बताया कि जीपीएस सिस्टम अपग्रेड करने का एकमात्र उद्देश्य एम्बुलेंस की लोकेशन और कॉलर की लोकेशन में तालमेल बनाना है। जितनी सटीक जानकारी दोनों के बारे में हो सकेगी एम्बुलेंस उतनी ही शीघ्रता से पहुंच सकेगी। अपग्रेड होने से यह काम आसान हो गया है। इससे आम लोगों को जल्द से जल्द सुविधा मिल सकेगी और समय रहते उनकी जान बचाई जा सकेगी।

108 व 102 नम्बर एम्बुलेंस के प्रोग्राम मैनेजर प्रभाकर यादव ने बताया कि एम्बुलेंस में लगे जीपीएस सिस्टम को लगभग तीन माह पहले (जुलाई 2020) से ही एक-एक कर अपग्रेड किया जा रहा था। अब लगभग सभी में सिस्टम को अपग्रेड कर दिया गया। हालांकि थोड़ी-बहुत दिक्कत आती है लेकिन टेक्नीशियन उसका समाधान कर लेते हैं। जीपीएस सिस्टम अपग्रेड होने का सबसे बड़ा फायदा यह होगा कि अब मरीज के लिए दूर की नहीं नजदीक की एम्बुलेंस भेजी जाएगी। जैसे ही कालर फोन लगाएगा जो एम्बुलेंस तुरंत उसके नजदीक रहेगी वही पहुंच जाएगी। अभी तक कालर के फोन करने पर यह देखा जाता था कि कौन सी एम्बुलेंस किस लोकेशन पर है लेकिन अब जीपीएस सिस्टम ही बता देगा कि यही एम्बुलेंस सबसे नजदीक है और उसे ही मौके पर भेज दिया जाएगा। इससे मरीज के समय की बचत होगी।

उन्होंने बताया कि इस समय जिले में 108 की 51 एम्बुलेंस, 102 की 52 एम्बुलेंस और एडवांस लाइफ सपोर्ट (एएलएस) की दो एम्बुलेंस, कुल मिलाकर 105 एम्बुलेंस हैं। सभी अपग्रेड हो चुकी हैं।

BY Ran vijay singh

रफतउद्दीन फरीद
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned