अब हफ्ते में एक दिन न्यायिक कार्य नहीं करेंगे दीवानी के अधिवक्ता... यह है वजह

-ग्रामीण न्यायालय के विरोध में दीवानी न्यायालय अभिभाषक संघ के बैनर तले अधिवक्ताओं ने किया प्रदर्शन

-मांग पूरी न होने तक विरोध स्वरूप प्रत्येक बुधवार को न्यायिक कार्यों से विरत रहेंगे अधिवक्ता

पत्रिका न्यूज नेटवर्क
आजमगढ़. ग्रामीण न्यायालय की स्थापना का विरोध थमने का नाम नहीं ले रहा है। अधिवक्ता इसके खिलाफ लामबंद हो गए है। ग्रामीण न्यायालय के विरोध में दीवानी न्यायालय अभिभाषक संघ के अधिवक्ताओं ने बुधवार को न्यायिक कार्य से विरत रहकर गिरजाघर चैराहे पर सड़क जाम कर प्रदर्शन किया। इस दौरान सरकार की नीतियों के खिलाफ जमकर नारेबाजी की गई। मांग पूरी न होने पर प्रत्येक बुधवार को न्यायिक कार्य से विरत रहने का निर्णय लिया गया।

अधिवक्ताओं ने बुधवार की पूर्वांह्न पुस्तकालय भवन में बैठक की। इसके बाद संघ के अध्यक्ष रामप्यारे सिंह व मंत्री देव नारायण शुक्ला के नेतृत्व में विचार-विमर्श के बाद न्यायालय परिसर का भ्रमण किया और गिरजाघर चैराहे पर पहुंचकर सरकार की नीतियों का विरोध किया। इस दौरान अधिवक्ताओं द्वारा सड़क जाम करने से अफरा तफरी का माहौल रहा। जाम की सूचना के बाद भारी संख्या में फोर्स मौके पर पहुंच गयी तथा समझा बुझाकर जाम समाप्त कराया। अधिवक्ताओं ने कहा कि ग्रामीण न्यायालय के फैसले को शासन को बदलना होगा। नहीं तो अधिवक्ता बड़ा आंदोलन खड़ा करेंगे। जब तक मांग पूरी नहीं होती है अधिवक्ता प्रत्येक बुधवार को न्यायिक कार्य से विरत रहकर प्रदर्शन करेंगे।

बता दे कि अधिवक्ता ग्रामीण न्यायालय के विरोध में लगातार 15 दिनों तक न्यायिक कार्य से विरत रहने के बाद अब यह निर्णय लिये हैं कि शनिवार की जगह बुधवार को पूरे दिन न्यायिक कार्य से विरत रहते हुए मांग पूरी होने तक प्रत्येक बुधवार को सरकार का विरोध करेंगे। जाम के दौरान बृजेश नंदन पांडेय, प्रभाकर सिंह, दयाराम यादव, रितेश कुमार द्विवेदी, सुभाष सिंह, पूर्व मंत्री अनिल राय, अरुण कुमार श्रीवास्तव, ओमप्रकाश मिश्रा, अनिल सिंह, नीरज द्विवेदी, अमरीश मिश्रा, एलके पांडेय, पंकज सिंह, ज्योति श्रीवास्तव आदि मौजूद रहे।

BY Ran vijay singh

रफतउद्दीन फरीद
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned