चुनाव ड्यूटी से लौट रहे सीआरपीएफ व होमगार्ड जवान की हादसे में मौत

चुनाव ड्यूटी से लौट रहे सीआरपीएफ व होमगार्ड जवान की हादसे में मौत
चुनाव ड्यूटी से लौट रहे सीआरपीएफ व होमगार्ड जवान की हादसे में मौत

Ashish Kumar Shukla | Publish: May, 13 2019 08:23:47 PM (IST) Azamgarh, Azamgarh, Uttar Pradesh, India

होमगार्ड की मौत से परिवार में कोहराम मचा हुआ है

आजमगढ़. लोकसभा चुनाव में लगे ड्यूटी से वापस लौट रहे सीआरपीएफ व होमगार्ड जवान की रविवार की रात को सड़क हादसे में मौत हो गयी। वहीं दूसरा होमगार्ड जवान घायल हो गया। उक्त दुर्घटना जहानागंज व गंभीरपुर क्षेत्र में हुई। दोनों शवों को पुलिस ने पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। मृत सीआरपीएफ जवान मेरठ जिले का व होमागर्ड का जवान इसी जिले के दीदारगंज क्षेत्र का निवासी था। होमगार्ड की मौत से परिवार में कोहराम मचा हुआ है।

मेरठ जिले के सरधना गांव के मूल निवासी 34 वर्षीय चंद्रशेखर पुत्र देवी सिंह 95 बटालियन सीआरपीएफ वाराणसी में आरक्षी के पद पर तैनात था। वह जिले में चुनाव ड्यूटी पर एक दिन पूर्व आया था। उसकी ड्यूटी गोपालपुर विधानसभा क्षेत्र के पोलिग बूथ पर लगी थी। वह चुनाव ड्यूटी कर रविवार की रात को पोलिग पार्टी के साथ बस पर सवार होकर वापस शहर की ओर आ रहा था। जहानागंज के समीप बस अनियंत्रित होकर बिजली के खंभा से टकरा गयी। इस हादसे में बस पर सवार उक्त जवान गंभीर रूप से घायल हो गया। जबकि अन्य मतदान कर्मी बाल-बाल बच गए। घायल जवान को अस्पताल लेकर कर्मी जा रहे थे कि रास्ते में ही उसकी मौत हो गयी। सूचना पाकर मौके पर पहुंची पुलिस ने घटना की सूचना परिजनों को दी। सूचना पाकर दूसरे दिन परिजन भी पोस्टमार्टम हाउस आ गए थे।

दीदारगंज थाना क्षेत्र के गुवाई गांव निवासी 53 वर्षीय राधेश्याम मौर्य पुत्र स्व. जयराम मौर्य मार्टीनगंज कंपनी में होमगार्ड के पद पर कार्यरत था। वह रविवार की रात को तरवां थाना क्षेत्र के जमुआ गांव स्थित मतदान केंद्र से ड्यूटी कर एक अन्य होमगार्ड जवान 40 वर्षीय प्रेमचंद यादव पुत्र तिलकधारी यादव के साथ वापस लौट रहा था। रास्ते में गंभीरपुर क्षेत्र के बिद्रा बाजार के समीप पहुंचा था। उसी दौरान अज्ञात वाहन की चपेट में आ जाने से दोनों होमगार्ड के जवान घायल हो गए। लोग उन्हें अस्पताल ले जाने की तैयारी कर रहे थे कि राधेश्याम की मौके पर ही मौत हो गयी। घायल प्रेमचंद को अस्पताल में भर्ती कराया गया है। प्रेमचंद फूलपुर कोतवाली क्षेत्र के युसुफपुर खानपुर गांव का निवासी है। पोस्टमार्टम के बाद सोमवार की शाम को उसका शव घर पहुंचा तो परिवार में कोहराम मच गया। मां भागीरथी देवी, पत्नी उषा का रो रो कर बुरा हाल है। उसके दो पुत्र अनिल व सुनील है। अनिल की शादी हो चुकी है और छोटा पुत्र सुनील नोएडा में किसी प्राइवेट कंपनी में नौकरी करता है। माटींनगंज होमगार्ड्स कंपनी कमांडर अनिल कुमार यादव के साथ अन्य होमगार्ड्स के जवान मृत राधेश्याम के घर पहुंच कर परिजनों को ढांढस बंधाया।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned