सीएम की अगवानी में जुटा रहा स्वास्थ्य महकमा, भटकते रहे मरीज, नहीं खुला अस्पताल का ऑपरेशन थिएटर

.

आजमगढ़. पूर्वांचल एक्सप्रेस वे का निरीक्षण करने सोमवार को जनपद में आए मुख्यमंत्री की अगवानी में जुटे स्वास्थ्य महकमे की वजह से जनपद की स्वास्थ्य व्यवस्था पूरी तरह चरमरा गई। सीएम की अगवानी में जुटे स्वास्थ्य कर्मियों की वजह से अस्पताल में दूर-दराज से आने वाले मरीज चिकित्सा के अभाव में भटकते नजर आए। चिकित्सकों का चेंबर खाली देख व सीएम के आगमन की जानकारी के बाद लोग शासन-प्रशासन व स्वास्थ्य महकमे को कोसते नजर आए।

 

जिला अस्पताल में रोज की भांति सोमवार की सुबह मरीजों की भीड़ उमड़ पड़ी थी, जबकि चिकित्सकों के चेंबर खाली थे। काफी भागदौड़ के बाद ईलाज के लिए अस्पताल आए लोगों को जब जानकारी मिली की मुख्यमंत्री के आगमन की वजह से तमाम चिकित्सक उनकी अगवानी में लगे हुए हैं। इस बात की जानकारी होने पर तमाम मरीजों के चेहरे बुझ गए। इसी दौरान मऊ जनपद के बड़रांव ब्लाक में कार्यरत आशा कार्यकत्री सुनीता (32) पत्नी श्रीराम परिजनों की मदद से अस्पताल में ईलाज के लिए आई थी।

 

अस्पताल का आपरेशन थिएटर बंद देख उसकी आंखों में आंसू छलक पड़े। मरीज की पीड़ा देख अस्पताल में मौजूद सपा नेत्री बबिता चौहान ने उसका ईलाज कराने के लिए हाथ आगे बढ़ाया लेकिन उनकी कोशिश नाकाम रही। कारण कि अस्पताल में आपरेशन थिएटर बंद था और चिकित्सक नदारद थे। पूछे जाने पर अस्पताल के स्ट्रेचर पर परी सुनीता ने बताया कि वह मऊ जिले के बड़गांव ब्लाक में आशा कार्यकत्री के पद पर कार्यरत है। बीते 6 फरवरी को हुई मार्ग दुर्घटना में उसके कमर व पैर में काफी चोटें आई हैं। जिसका ईलाज मंडलीय अस्पताल में चल रहा है। पट्टी बदलवाने के लिए वह परिजनों के साथ अस्पताल पहुंची लेकिन बंद आपरेशन थिएटर व अनुपस्थित चिकित्सक की वजह से उसकी आंखों में आंसू आ गए। इस दौरान अस्पताल में उपचार कराने के लिए चिकित्सक की बाट जोह रहे तमाम मरीज एवं उनके परिजन शासन-प्रशासन व स्वास्थ्य महकमे को कोसते नजर आए।

By Ran Vijay Singh

रफतउद्दीन फरीद Desk/Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned