यूपी के तीन जिलों में जहरीली शराब पीने से 26 की मौत, आधा दर्जन की हालत गंभीर

लॉकडाउन में जहरीली शराब की बिक्री चरम पर रही जिसके कारण 26 लोगों की मौत हो चुकी है जबकि आधा दर्जन लोग विभिन्न अस्पतालों में जिंदगी और मौत से जूझ रहे है। प्रशासन मामले की लीपापोती में जुटा है।

पत्रिका न्यूज नेटवर्क
आजमगढ़. अंबेडकर नगर, आजमगढ व बदायूं जिले में जहरीली शराब पीने से मौत का सिलसिला जारी है। अब तक इन जिलों में 26 लोगों की मौत हो चुकी है जबकि आधा दर्जन से अधिक लोग जिंदगी और मौत से जूझ रहे है। कई लोगों के आंख की रोशनी कम हो गयी है। परिवार के लोग जहरीली शराब से मौत की बात कह रहे है लेकिन प्रशासन जांच के नाम पर पूरे मामले में लीपापोती में जुटा है।

बता दें कि लॉकडाउन के कारण शराब दुकानें बंद हैं। नशे की लत के शिकार लोग इस दौरान अवैध रूप से तैयार की जाने वाली शराब जमकर पी रहे हैं। आजमगढ़ अंबेडकर नगर जिले के बाॅर्डर पर इस शराब की खूब बिक्री हो रही थी। इसका खुलासा तब हुआ जब सोमवार को जहरीली शराब पीने से लोगों की मौत शुरू हो गयी। बुधवार को भी मौत का सिलसिला जारी रहा।

आजमगढ़ जिले के पवई थाना क्षेत्र के मित्तूपुर गांव निवासी पप्पू सोनकर (28) पुत्र सीताराम व रामपुर मित्तूपुर निवासी राम प्यारे (45) की भी बुधवार की सुबह ही मौत हो गई। इसके साथ ही जिले में मृतकों की संख्या 17 से बढ़ कर 19 पर पहुंच गई है। वहीं अंबेडकर नगर में जहरीली शराब पीने से अब तक 05 लोगों की मौत हो चुकी है। दो मौत बदायूं जनपद में हुई है। इस तरह जहरीली शराब से मृतकों की संख्या 26 पहुंच गयी है। जिन घरों में मौत हुई है वहां कोहराम मचा है। जो बीमार है उनकी भी हालत गंभीर है। कई के आंखों की रोशनी कम हो गई है। शराब की अवैध रूप से बिक्री में पवई थाने के एक आरक्षी की भूमिका को लेकर भी सवाल उठाये जा रहे हैं।

वहीं प्रशासन मौत का कारण शराब मानने के बजाय जांच की बात कर रहा है। पुलिस अधीक्षक सुधीर कुमार सिंह ने तो आजमगढ़ में घटना होने से ही इनकार कर दिया है। उनका कहना है कि घटनास्थल अंबेडकरनगर जनपद में है मामले की जांच जारी है। लगातार हो रही मौतों से दोनों जिलों के बार्डर के गांवों में हड़कंप की स्थिति बनी हुई है।

BY Ran vijay singh

रफतउद्दीन फरीद
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned