लखनऊ के व्यापारी से रूपये लेकर फरार हुआ ड्राईवर आजमगढ में गिरफ्तार, 17 लाख बरामद

पुलिस अधीक्षक ने पुलिस टीम को पांच हजार रूपये का दिया पुरस्कार 

आजमगढ़. लखनऊ से कार से तगादा करने चले व्यापारी के ड्राईवर की नीयत रूपया देखकर खराब हो गयी जिसके बाद ड्राइवर ने गोरखपुर में व्यापारी को छोड़ कर करीब साढ़े सत्रह लाख रूपये लेकर कार से फरार हो गया। व्यापारी की सूचना जैसे ही पुलिस को मिली गोरखपुर से लेकर आजमगढ़ तक के पुलिस महकमें में हडकम्प मचा गया। पुलिस ने जगह-जगह वाहन चेंकिग शुरू की तो जीयनपुर कोतवाली क्षेत्र के राजदेयपुर तिराहे के पास पुलिस ने स्वीफट कार को रोककर ड्राईवर को गिरफतार कर लिया और लूट का पूरा रूपया बरामद कर लिया।

पुलिस लाइन सभागार में शुक्रवार को आयोजित प्रेस वार्ता के दौरान पुलिस अधीक्षक कुन्तल किशोर ने बताया कि लखनऊ के एक व्यापारी ऋ़षभ चावला लखनऊ से तगादा करने के लिए स्वीफट कार नम्बर यूपी 32 एफबी 8883 के ड्राईवर चन्द्रशेखर राय पुत्र जगजीवन राय निवासी किशुनदासपुर थाना कंन्धरापुर आजमगढ को साथ में लेकर बुद्धवार को  गोरखपुर पहुचे और तगादा करने के बाद व्यापारी ने करीब साढ़े 17 लाख  रूपये एक भूरे रंग के बैग में रखकर कार में छोड़ दिया। व्यापारी के पास इतने रूपये देखकर ड्राइवर की नीयत खराब हो गयी। 

जब व्यापारी बुद्धवार की देर रात गोरखपुर से लखनउ के लिए चला तो रास्ते में ही व्यापारी पानी पीने के लिए जैसे की वाहन से नीचे उतरा ड्राइवर वाहन सहित रूपया लेकर फरार हो गया। जिसके बाद व्यापारी ने पुलिस को सूचना दी। सूचना मिलते ही दोनो जिलो की पुलिस हरकत में आ गयी। जगह-जगह वाहनो की चेंकि शुरू हुई । इसी दौरान जीयनपुर कोतवाली क्षेत्र के राजदेयपुर तिराहे के पास वाहन चेंकिग के दौरान पुलिस को एक कार तेजी से आती हुई दिखाई दी। पुलिस ने जैसे ही रूकने का ईशारा किया। कार पीछे की तरफ मुड़ने लगी। जिसके बाद पुलिस ने वाहन को घेर लिया और ड्राईवर को हिरासत में लेकर जब वाहन की तलाशी ली तो  बैग में रखे व्यापारी के तगादे के 17 लाख 25 हजार आठ सौ  रूपये बरामद हो गये। पुलिस ने आरोपी को गिरफतार कर जेल भेज दिया। 

पुलिस अधीक्षक कुंतल किशोर ने गिरफतार करने वाली पुलिस टीम को 5 हजार रूपये पुरस्कार देने की घोषणा की। साथ ही उन्हाने बताया कि गिरफतार ड्राईवर के अपराधिक रिकार्ड को खगाला जा रहा है । फिलहाल अभी तक इसका कोई अपराधिक रिकार्ड नही मिला है। इसने पुलिस को बताया कि रूपया देखकर उसकी नीयत खराब हो गयी थी।                   
Ashish Shukla
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned