UP Assembly Election 2022: बीजेपी को लगेगा झटका, जिलाध्यक्ष ऋषिकांत की टीम दे सकती है सामुहिक त्यागपत्र

-UP Assembly Election 2022: यूपी विधानसभा चुनाव 2022 से पहले बढ़ती दिख रही है बीजेपी की मुश्किल

-आजमगढ़ में युवा टीम से बीजेपी को है काफी आस, अब तक नहीं कर पाई है जिले में अच्छा प्रदर्शन

By: Ranvijay Singh

Updated: 25 Sep 2021, 11:08 AM IST

पत्रिका न्यूज नेटवर्क
आजमगढ़. UP Assembly Election 2022: खुद को दुनियां की सबसे अनुशासित पार्टी बताने वाली बीजेपी की गुटबंदी खुलकर सामने आ गई है। वह भी विधानसभा चुनाव से ठीक पहले। पार्टी में वर्चश्व की लड़ाई इस कदर बढ़ चुकी है कि लालगंज जिलाध्यक्ष ऋषिकांत राय ने क्षेत्रीय अध्यक्ष को पत्र लिखकर सामुहिक त्यागपत्र की धमकी दे डाली है। अगर ऐसा हुआ तो भाजपा के लिए बड़ा झटका होगा। कारण कि आजमगढ़ में ऐसे भी बीजेपी की हालत हमेंशा खराब रही है। यदि संगठन में बिखराव होता है तो इसका सीधा फायदा सपा व बसपा को मिलेगा।

बता दें कि आजमगढ़ जिला हमेंशा से सपा बसपा का गढ़ रहा है। वर्ष 1991 की राम लहर में भी बीजेपी यहां कोई करिश्मा नहीं कर पाई थी। जिले की 10 विधानसभा सीटों में से उसे आठ सीट पर हार का सामना करना पड़ा था। सिर्फ सुरक्षित सीट सरायमीर व मेंहनगर में बीजेपी को जीत मिली थी। इसके बाद 1996 में लालगंज सीट जीतने में सफल रही थी। इसके बाद उसे विधानसभा में खाता खोलने के लिए वर्ष 2017 तक इंतजार करना पड़ा। यूपी में प्रचंड बहुमत हासिल करने वाली बीजेपी को आजमगढ़ में मात्र एक सीट फूलपुर पर जीत मिली थी।

अब विधानसभा चुनाव 2022 में चंद महीने बाकी हैं। राजनीतिक दल चुनाव तैयारी में जुटे हुए हैं। वहीं भाजपा आपस में ही लड़ती नजर आ रही है। दरअसल एक सप्ताह पूर्व जिले के प्रभारी मंत्री सुरेश राणा का यहां आगमन हुआ था। उसी दौरान शहर के बवाली मोड़ पर भाजयुमो जिलाध्यक्ष निखिल राय और भाजपा लालगंज जिलाध्यक्ष ऋषिकांत राय के बीच विवाद हो गया था।

मामला मामला मारपीट तक पहुंच गया था। उस समय पार्टी के वरिष्ठ लोगों के हस्तक्षेप के बाद मामला शांत हो गया था। लेकिन अब यह विवाद काफी बढ़ चुका है। भाजपा लालगंज जिलाध्यक्ष ऋषिकांत राय ने इस मामले की शिकायत क्षेत्रीय अध्यक्ष डा. धर्मेंद्र से की है। उन्होंने भाजयुमो जिलाध्यक्ष निखिल राय के खिलाफ अनुशासनात्मक कार्रवाई करने की मांग की है। साथ ही कार्रवाई न करने की दशा में लालगंज इकाई का सामूहिक इस्तीफा स्वीकार करने का अनुरोध किया है।

Show More
Ranvijay Singh
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned