अब सहेली ट्रेन में करेंगी महिला यात्रियों की सुरक्षा, मनचलों की आएगी शामत

आरपीएफ की महिला आरक्षियों की सभी ट्रेनों के कोचों में की जा रही है तैनाती

सहायत के साथ ही महिलाओं में आत्मविश्वास पैदा करेंगी सहेली

आजमगढ़. अब अकेले ट्रेन में सफर करते समय महिलाओं को डरने की जरूरत नहीं है। कारण कि अब आपकी सुरक्षा सहेली करेंगी। रेलवे ने महिलाओं की सुरक्षा व उनकी कुशलता जानने के लिए ‘‘मेरी सहेली‘‘ अभियान की शुरुआत की है। इस अभियान के तहत सभी ट्रेनों की कोचों में आरपीएफ के महिला आरक्षियों की तैनाती की जा रही है। ये आरक्षी सभी कोचों में भ्रमण करेंगी और अकेली सफर करने वाली महिलाओं की सुरक्षा करेंगी। सफर कर रही महिलाओं से उनका नंबर लेकर सहायता के लिए हर संभव प्रयास करेंगी और उनके मन में आत्मविश्वास को पैदा करेंगी। इसे रेलवे की बड़ी पहल के रूप में देखा जा रहा है।

 

बता दें कि ट्रेन में अकेले यात्रा के दौरान महिलाओं के साथ अक्सर छेड़खानी, उचक्कागिरी के मामले प्रकाश में आते हैं। इसकी वजह से महिलाएं अकेले यात्रा में असुरक्षित महसूस करती हैं। अकेले यात्रा करने वाली महिलाओं की सुरक्षा के लिए आरपीएफ ने मेरी सहेली स्क्वायड टीम बनाई है।

 

पूर्वोत्तर रेलवे वाराणसी के मंडल सुरक्षा आयुक्त वीसी पांडेय ने बताया कि टीम पूरे देश में अलग-अलग डिविजन व मंडलों में काम करेंगी। कुछ थानों पर महिला आरक्षियों की अभी तैनाती नहीं है। इसलिए उच्चाधिकारियों से मांग की गई है। जहां-जहां महिला स्टाफ नहीं हैं वहां तैनाती की जाए।

 

फिलहाल जिस स्टेशन पर ट्रेन रुकेगी वहां आरपीएफ की टीम तैनात रहेगी और ट्रेनों में यात्रा कर रही महिलाओं से बात करेगी और उन्हें जागरूक करेगी। खास कर उनसे जो अकेली यात्रा कर रही हैं। बातचीत से उनमें आत्मविश्वास पैदा किया जाएगा।

 

जिस स्थान से ट्रेन शुरू होती है उस डिविजन की टीम जिम्मेदारी संभालेगी। ट्रेन के छूटने से एक घंटे पहले टीम महिला यात्रियों की डिटेल लेकर अगले आरपीएफ थानों को उपलब्ध कराई जाएगी। उन्हें यह भी जानकारी दी जाएगी कि यात्रा के दौरान किसी भी समय सुरक्षा संबंधी समस्या पर महिला सुरक्षा हेल्पलाइन 182 पर संपर्क करें।

 

उन्होंने बताया कि टीम की निगरानी हमारी उच्चाधिकारियों की टीम करेगी। रेलवे का प्रयास है कि महिलाएं सुरक्षित यात्रा करें। उनके मन में अकेले यात्रा को लेकर किसी तरह का संसय न हो।

BY Ran vijay singh

रफतउद्दीन फरीद
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned