बीजेपी ने मुलायम के गढ़ में सपा को दिया बड़ा झटका, पार्टी के नेता से छीन ली यह बड़ी कुर्सी

बीजेपी ने मुलायम के गढ़ में सपा को दिया बड़ा झटका, पार्टी के नेता से छीन ली यह बड़ी कुर्सी
Harraiya block

ब्‍लॉक प्रमुख की कुछ और सीटों भाजपा के सहयोग से आ सकता है अविश्‍वास प्रस्‍ताव

आजमगढ़.  मुलायम के गढ़ में पिछले दो दशक में पहली बार समाजवादी पार्टी को भाजपा के हाथों करारी मात खानी पड़ी है। हरैया ब्‍लॉक से ब्‍लॉक प्रमुख चुनी गई भोलवा देवी अविश्वास प्रस्ताव में हार गई। भाजपा के समर्थन से हरैया ब्‍लॉक में क्षेत्र पंचायत सदस्‍य सुनील सिंह व उपविजेता रही दुलारी देवी ने यह अविश्वास प्रस्ताव लाया था। भोलवा देवी को 57 के मुकाबले मात्र 2 मत मिला। राजनीति के जानकार इसे महज एक शुरूआत मान रहे है। चर्चा है कि बीजेपी के सहयोग से कुछ और सीटों पर अविश्‍वास प्रस्‍ताव लाने की तैयारी चल रही है।  

 

बता दें कि पिछले दिनों हुए त्रिस्‍तरीय पंचायत चुनाव में हरैया ब्‍लॉक से सपा नेत्री भोलवा देवी ब्‍लॉक प्रमुख चुनी गई थी। जबकि दुलारी देवी उपविजेता रही थी। यूपी में 19 मार्च को सत्‍ता परिवर्तन के बाद से ही ब्‍लॉक स्‍तर तक सत्‍ता परिवर्तन की कवायद शुरू हो गयी।


यह भी पढ़ें:

PM के संसदीय क्षेत्र के विकास को एशियन बैंक देगा धन, एशियन विकास बैंक के अध्यक्ष ने किया वादा

 

जिले में सबसे पहले हरैया ब्‍लॉक प्रमुख भोलवा देवी का तख्‍ता पलट करने के लिए 99 सदस्‍यों में से आधे से ज्‍यादा भाजपा जिलाध्‍यक्ष प्रेमप्रकाश राय के साथ डीएम से मुलाकात कर अविश्‍वास प्रस्‍ताव की नोटिस दी।  इसके बाद बुधवार को निर्वाचन अधिकारी एसडीएम रविरंजन, उपायुक्त स्वतः रोजगार इंद्रमणि त्रिपाठी की देखरेख में क्षेत्र पंचायत सभागार में अविश्‍वास प्रस्‍ताव पर चर्चा शुरू हुई। इस दौरान जमकर नोकझोंक हुई। बैठक में मात्र 57 सदस्‍यों ने भाग लिया। सदन की कार्यवाही शुरू होते ही ब्‍लॉक प्रमुख भोलवा देवी के समर्थक सदस्‍य रमेश यादव व चंद्रकेश यादव वोटिंग का बहिष्‍कार कर सदन से बाहर निकल गये। 12 बजे अविश्वास प्रस्ताव पढ़कर सदस्यों को सुनाया गया । प्रस्ताव सुनने के बाद 55 सदस्यों ने ध्‍वनिमत से अविश्वास प्रस्ताव का समर्थन किया । इसके बाद वोटिंग करायी गई।

 

इन 57 सदस्यों में 28 महिला और 29 पुरुष सदस्य भाग लिए जिसमें 7 सदस्यों का कंपेनियन वोट डाला। वोटिंग के बाद मतगणना हुई जिसमें 55 सदस्यों ने अविश्वास के पक्ष में वोट किया। हरैया में हुई तख्‍तापलट के बाद यह चर्चा जोरशोर से चल रही है कि अब किसकी बारी है।
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned