पूर्व विधायक सर्वेश सिंह सीपू हत्याकांड में जल्द आ सकता है फैसला, पैरबी के लिए जिले में पहुंची सीबीआई

सर्वोच्च न्यायालय ने 31 दिसंबर तक फैसला सुनाने का दिया है आदेश

जनपद न्यायालय में सीपू हत्याकांड में प्रतिदिन चल रही है सुनवाई

माफिया ध्रुव कुमार सिंह कुंटू सहित कई बनाये गए हैं हत्याकांड में आरोपी

पत्रिका न्यूज नेटवर्क
आजमगढ़. वर्ष 2013 में हुई पूर्व विधायक सर्वेश सिंह सीपू व उनके सहयोगियों की हत्या के मामले में कोर्ट का फैसला जल्द आ सकता है। इस हत्याकांड में माफिया ध्रुव कुमार सिंह कुंटू व उसके साथियों को आरोपी बनाया गया है। सर्वोच्च न्यायालय द्वारा 31 दिसंबर तक फैसला सुनाने के आदेश के बाद इस मामले में जिला न्यायालय में प्रतिदिन सुनवाई हो रही है। सोमवार को सीबीआई के एक इंस्पेक्टर व वकील भी जिले में पहुंच गए हैं।

बात दें कि बसपा नेता पूर्व विधायक सर्वेश सिंह सीपू की 19 जुलाई 2013 को बाइक सवार बदमाशों ने उनके आवास के सामने गोली मारकर हत्या कर दी थी। सीपू के साथ ही उनके दो सहयोगियों को भी बदमाशों ने मौत के घाट उतार दिया था। इस हत्याकांड के बाद स्थानीय लोगों ने जीयनपुर कस्बे में जमकर बवाल किया था। उस समय हुई तोड़फोड व आगजनी में भारी क्षति हुई थी।

इस ममाले को लेकर पूर्व सांसद अमर सिंह ने बड़े आंदोलन की चेतावनी दी तो प्रदेश सरकार ने सीबीआई जांच की सिफारिश की थी। हत्याकांड में कुख्यात अपराधी ध्रुव कुमार सिंह कुंटू समेत उसके कई सहयोगियों को आरोपी बनाया गया था। सात साल पहले हुए इस हत्याकांड में दर्ज मुकदमे में कुछ हिस्से की विवेचना जहां जनपद पुलिस द्वारा की गयी तो कुछ हिस्से की विवेचना सीबीआई ने की।

ममाले में चार्जशी दाखिल होने के बाद न्यायालय में मुकदमें की सुनवाई चल रही है। सर्वोच्च न्यायालय ने इस मामले की जल्द सुनवाई कर 31 दिसंबर तक फैसला सुनाने का आदेश दिया है। इसके चलते प्रतिदिन सुनवाई हो रही है। मुकदमें में करीब 20 लोगों की गवाही होनी है। इसमें सर्वेश सिंह के भाई संतोष सिंह टीपू की गवाही हो चुकी है। अब सीबीआई इंस्पेक्टर बलजीत वशिष्ठ के साथ ही वकील पंकज गुप्ता व दीपनरायन भी सुनवाई के लिए जिले में पहुंच चुके हैं। माना जा रहा है कि अब सुनवाई में और तेजी आयेगी।

BY Ran vijay singh

Show More
रफतउद्दीन फरीद
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned