मुलायम के गढ़ में समाजवादी पेंशन के नाम पर बड़ा घोटाला, दर्ज होगी एफआईआर

मुलायम के गढ़ में समाजवादी पेंशन के नाम पर बड़ा घोटाला, दर्ज होगी एफआईआर
Samajwadi pension

दोषी अधिकारी कर्मचारियों के खिलाफ भी कार्रवाई का निर्देश

आजमगढ़. योगी सरकार की आशंका सच साबित हो रही है। मुलायम सिंह यादव के संसदीय जिले व सपा का गढ़ कहे जाने वाले आजमगढ़ में अखिलेश सरकार की महत्‍वाकांक्षी योजना समाजवादी पेंशन में घोटाला हुआ है। इसका खुलासा सत्‍यापन में हुआ है। जिले में करीब एक हजार लोग ऐसे पाये गये है जो धोखाधड़ी कर पेंशन हासिल कर रहे है। डीएम ने ऐसे लोगों के खिलाफ एफआईआर दर्ज करने कार्रवाई का निर्देश दिया है।

 

जिलाधिकारी चन्द्रभूषण सिंह ने बताया कि शासन के निर्देशानुसार समाजवादी पेंशन योजना के अन्तर्गत जनपद के लाभार्थियों की पात्रता का सत्यापन किया जा रहा है। समाजवादी पेंशन के लाभार्थियों के 506 ऐसे खाते पाये गये है जिनमें अलग-अलग बैंक खातों के आधार पर एक ही नाम के लाभार्थी लाभ प्राप्त कर रहे है। 481 ऐसे लाभार्थी चिन्हित किए गये है जो अलग-अलग नामों से एक ही खाते में लाभ प्राप्त कर रहे है तथा समाजवादी पेंशन एवं विधवा पेंशन के रूप में दोहरा लाभ प्राप्त करने वाले 22 लाभार्थियों को चिन्हित किया गया है।.


यह भी पढ़ें:
बीजेपी नेता के होटल में चल रही थी रेव पार्टी, पुलिस की छापेमारी में कई विदेशी लड़कियां और..

 

जिलाधिकारी ने पेंशन योजनाओं में पायी गयी अनियमितताओं पर सख्त कदम उठाते हुए सत्यापन सम्बन्धी प्रक्रिया के जुड़े अधिकारियों एवं कर्मचारियों को निर्देशित करते हुए कहा कि यदि कोई अधिकारी/कर्मचारी को अनियमितताओं के सम्बन्ध में दोषी पाया जाता है तो उसके विरूद्ध सख्त कार्रवाई की जायेगी तथा यदि कोई लाभार्थी योजनाओं का लाभ गलत तरीके से प्राप्त कर रहा है तो उनके ऊपर एफआईआर दर्ज कराते हुए वसूली सम्बन्धी प्रक्रिया की जायेगी।

 

उन्होंने बताया कि शासन के निर्देशानुसार समाजवादी पेंशन के सत्यापन की प्रक्रिया दो चरणों में करायी जा रही है। प्रथम चरण में लेखपाल, ग्राम पंचायत अधिकारी तथा आगंनवाड़ी कार्यकर्ता  के द्वारा जांच करायी जा रही है और इस सत्यापन के उपरान्त सत्यापित डाटा का 25 प्रतिशत सत्यापन जिला स्तरीय अधिकारियों द्वारा कराये जाने की व्यवस्था की गयी है। जिलाधिकारी ने कहा कि जन कल्याणकारी योजनाओं के अन्तर्गत प्रदान की जाने वाली पेंशन योजनाओं का लाभ पात्रों तक पहुंचाने के लिए आवश्यक कदम उठाये जायेगें तथा इससे सम्बन्धित अधिकारियों/कर्मचारियों की लापरवाही बर्दाश्‍त नही की जायेगी।
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned