कोर्ट के फैसले से नाराज शिक्षा मित्र सड़कों पर उतरे

 कोर्ट के फैसले से नाराज शिक्षा मित्र सड़कों पर उतरे
Shiksha Mitra

सुप्रीमकोर्ट से समायोजन रद्द होने से नाराजगी

आजमगढ़. सुप्रीमकोर्ट से समायोजन रद्द होने से नाराज शिक्षामित्र बुधवार को सड़कों पर उतर आए। नाराज शिक्षामित्रों ने जिलाधिकारी कार्यालय पर प्रदर्शन कर विरोध जताया। और प्रदेश सरकार से पुनर्विचार याचिका दायर करने की मांग करते हुए चेतावनी भी दी कि अगर प्रदेश सरकार जल्द ही उनकी मांगों पर विचार नही किया तो वे सड़क से लेकर संसद तक आन्दोलन करेगें।


जिलाधिकारी कार्यालय पर शिक्षामित्रों ने समान कार्य, समान वेतन देने संग सीएम को संबोधित तीन सूत्री मांगो का ज्ञापन डीएम को सौंपा। सैकड़ों की संख्या में पुरूष और महिला शिक्षा मित्रों ने कोर्ट के निर्णय के खिलाफ जिलाधिकारी कार्यालय पर जोरदार प्रदर्शन किया। वही प्रदर्शन में शामिल महिला शिक्षा मित्रों की आंखों में आंसू थे। वे अपनी भविष्य को लेकर चिंतित नजर आयी। कोर्ट के निर्णय पर नाराजगी जताते हुए इस पर पुनर्विचार करने की मांग की।


यह भी पढ़ें:
पीएम मोदी के ड्रीम प्रोजेक्ट में अफसरों की लापरवाही, जा रही गाय की जान


शिक्षा मित्रों ने कलेक्ट्रेट स्थित कुंवर शहीद उद्यान चौराहे पर सड़कों पर बैठकर जाम लगाने की कोशिश की लेकिन पहले से मौजूद पुलिसकर्मियों ने जाम लगाने की कोशिश कर रहे शिक्षा मित्रों को समझा बुझाकर शान्त कराया और जाम को खुलवाया।





उत्तर प्रदेश शिक्षा मित्र संघ के जिलाध्यक्ष देवसी प्रसाद यादव ने कहा कि कोर्ट के निर्णय का वे सम्मान करते है लेकिन निर्णय आने के बाद से ही शिक्षा मित्र काफी हतोत्साहित है। इस निर्णय से शिक्षामित्रों के सामने भूखमरी की समस्या उत्पन्न हो जाएगी। कोर्ट के फैसले से प्राथमिक शिक्षा पर गहरा संकट उत्पन्न हो गया है। कोर्ट ने सरकार को शिक्षामित्रों का भविष्य सुरक्षित रखने का मौका दिया है। शिक्षामित्रों ने प्रदेश सरकार से मांग किया कि सर्वोच्च न्यायालय में पुनर्विचार याचिका दायर कर शिक्षामित्रों का भविष्य सुरक्षित रखने के लिए शीघ्र निर्णय ले। उन्होने चेतवानी देते हुए कहा कि अगर सरकार की ओर से जल्द निर्णय नहीं लिया गया तो प्रदेश भर के शिक्षामित्र सड़क से लेकर संसद तक अपनी आवाज बुलंद करेंगे।
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned