scriptsix percent voters left SP for four months In Azamgarh | बसपा नहीं खुद सपा है धर्मेंद्र की हार के लिए जिम्मेदार, चार माह में छह प्रतिशत मतदाता सपा से हुए दूर | Patrika News

बसपा नहीं खुद सपा है धर्मेंद्र की हार के लिए जिम्मेदार, चार माह में छह प्रतिशत मतदाता सपा से हुए दूर

लोकसभा उपचुनाव का परिणाम आने के बाद से ही सपाई हार का ठिकरा बसपा पर फोड़ रहे हैं लेकिन हकीकत विल्कुल ही इसके विपरीत है। बसपा को उपचुनाव में वर्ष 2014 से भी कम वोट मिले जबकि उस समय मुकाबला मुलायम सिंह से था। आंकड़ों पर गौर करें तो सपा के हार का एक मात्र कारण उसका वोट बैंक खिसकना है। पार्टी को 2022 विधानसभा चुनाव के मुकाबले उपचुनाव में छह प्रतिशत कम वोट मिले हैं, जो हार का मुख्य कारण है।

आजमगढ़

Published: July 01, 2022 04:36:27 pm

पत्रिका न्यूज नेटवर्क
आजमगढ़. लोकसभा उपचुनाव में सपा की हार के बाद जहां गठबंधन की सहयोगी पार्टियां अखिलेश यादव को हार के लिए जिम्मेदार ठहरा रहे हैं वहीं सपा के नेता हार का ठिकरा बसपा पर फोड़ने में कोई कसर नहीं छोड़ रहे लेकिन चुनावी आंकड़े कुछ और ही गवाही कर रहे हैं। अगर राजनीतिक दलों के मत प्रतिशत पर गौर करें तो सपा की की हार का प्रमुख कारण उसका वोटबैंक दरकना है। पार्टी को उपचुनाव में वर्ष 2022 के मुकाबले छह प्रतिशत कम वोट मिला है। जबकि बसपा वर्ष 2014 का प्रदर्शन भी नहीं दोहरा पाई है।

प्रतीकात्मक फोटो
प्रतीकात्मक फोटो

बाता दें कि आजमगढ़ व रामपुर सीट पर हाल में हुए लोकसभा उपचुनाव में सपा को हार का सामना करना पड़ा था। हार के बाद से ही प्रत्याशी से लेकर पार्टी के नेता हार के लिए बसपा को जिम्मेदार बता रहे हैं। दावा किया जा रहा है कि बसपा ने अंदर खानेे बीजेपी को समर्थन दिया था। वहीं सपा गठबंधन की सहयोगी पार्टियां हार के लिए अखिलेश यादव को जिम्मेदार बताते हुए एसी कमरे से निकलने की हिदायत दे रही है। ऐसे में यह चर्चा लालजी में है कि आखिर सपा की हार के लिए वास्तव में जिम्मेदार है कौन?।

गौर करें तो वर्ष 2014 में आजमगढ़ सीट से सपा मुखिया मुलायम सिंह यादव चुनाव लड़े थे। 340306 मत हासिल कर मुलायम सिंह सांसद चुने गए थे। बसपा के शाह आलम उर्फ गुड्डू जमाली को 266528 मत मिला था। उस समय बीजेपी को 277102 मत मिला था। जमाली तीसरे स्थान पर थे। वर्ष 2019 में सपा बसपा गठबंधन में अखिलेश यादव ने 621578 मत हासिल किया था। जबकि बीजेपी के निरहुआ को 361704 मत मिले थे। अब उपचुनाव की बात करें तो बसपा के जमाली को 266210 मत मिला है जो वर्ष 2014 से कम है। वहीं निरहुआ 312432 मत पाकर विजई रहे। सपा को 304089 मत मिला। गौर करे तो बसपा ने अपना 2014 का प्रदर्शन दोहराया था। उस चुनाव में मुसलमानों ने एकजुट होकर मुलायम सिंह को वोटिंग की थी।

रहा सवाल सपा का तो उसका मत प्रतिशत गिरा है। 2019 के लोकसभा चुनाव में सपा को 60.04 फीसदी वोट प्राप्त हुए थे। जबकि बीजेपी को 35.10 फीसदी वोट मिला था। सपा बसपा गठबंधन टूटने के बाद सपा वर्ष 2022 में अकेले विधानसभा चुनाव लड़ी तो उसे जिले की सभी दस विधानसभा सीटों पर जीत मिली थी। पार्टी ने 40 प्रतिशत मत हासिल किया था। जबकि बसपा को 24 फीसदी वोट प्राप्त हुआ। वहीं बीजेपी को 30 फ़ीसदी वोट प्राप्त हुआ लेकिन उपचुनाव में सपा को मात्र 33.44 फ़ीसदी वोट मिला जबकि बीजेपी को 34.39 फीसदी वोट मिला। वहीं बीएसपी को 29.27 फीसदी वोट मिला। अगर विधानसभा चुनाव और लोकसभा उपचुनाव पर नजर डालें तो आंकड़ों से पता चलता है कि सपा के वोटों में करीब 6 फीसदी की गिरावट आई है। मतों की यही गिरावट सपा की हार का मुख्य कारण हैं।

राजनीति के जानकार आलोक तिवारी, ओंकार नाथ सिंह का कहना है कि सपा का वोट बैंक उपचुनाव में खिसका है। खासतौर पर अदर बैकवर्ड पार्टी के साथ नहीं खड़े हुए। इसके अलावा पार्टी के नेता से लेकर कार्यकर्ता तक ओवर कांफीडेंस के शिकार थे। उन्होंने पहले ही मान लिया था कि वे चुनाव जीत चुके हैं। यही वजह है कि अखिलेश यादव भी प्रचार के लिए नहीं आए। वहीं दूसरी तरह जिन लोगों को योजनाओं का लाभा मिला था खासतौर पर आवास का उनमें से कुछ प्रतिशत लोग बीजेपी के साथ खड़े हुए। सपा की हार में कहीं से बसपा फैक्टर नहीं है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Monsoon Alert : राजस्थान के आधे जिलों में कमजोर पड़ेगा मानसून, दो संभागों में ही भारी बारिश का अलर्टमुस्कुराए बांध: प्रदेश के बांधों में पानी की आवक जारी, बीसलपुर बांध के जलस्तर में छह सेंटीमीटर की हुई बढ़ोतरीराजस्थान में राशन की दुकानों पर अब गार्ड सिस्टम, मिलेगी ये सुविधाधन दायक मानी जाती हैं ये 5 अंगूठियां, लेकिन इस तरह से पहनने पर हो सकता है नुकसानस्वप्न शास्त्र: सपने में खुद को बार-बार ऊंचाई से गिरते देखना नहीं है बेवजह, जानें क्या है इसका मतलबराखी पर बेटियों को तोहफे में देना चाहता था भाई, बेटे की लालसा में दूसरे का बच्चा चुरा एक पिता बना किडनैपरबंटी-बबली ने मकान मालिक को लगाई 8 लाख रुपए की चपत, बलात्कार के केस में फंसाने की दी थी धमकीराजस्थान में ईडी की एन्ट्री, शेयर ब्रोकर को किया गिरफ्तार, पैसे लगाए बिना करोड़ों की दौलत

बड़ी खबरें

जाने-माने लेखक सलमान रुश्दी पर न्यूयॉर्क में जानलेवा हमला, चाकुओं से गोदकर किया घायलमनीष सिसोदिया का BJP पर निशाना, कहा - 'रेवड़ी बोलकर मजाक उड़ाने वाले चला रहे दोस्तवादी मॉडल'सोनिया गांधी से मुलाकात के बाद बोले तेजस्वी यादव- 'नीतीश जी का हमसे हाथ मिलाना BJP के मुंह पर तमाचे की तरह''स्मोक वार्निंग' के कारण मालदीव जा रही 'गो फर्स्ट' की फ्लाइट की हुई कोयंबटूर में इमरजेंसी लैंडिंगHimachal Pradesh News: रामपुर के रनपु गांव में लैंडस्लाइड से एक महिला की मौत, 4 घायलMaharashtra Politics: चंद्रशेखर बावनकुले बने महाराष्ट्र बीजेपी के अध्यक्ष, आशीष शेलार को मिली मुंबई की कमानममता बनर्जी को बड़ा झटका, TMC के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष पवन वर्मा ने पार्टी से दिया इस्तीफामाकपा विधायक ने दिया विवादित बयान, जम्मू-कश्मीर को बताया 'भारत अधिकृत जम्मू-कश्मीर'
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.