मांग पूरी होने के बाद भी धरने पर बैठ गये शिक्षक

मांग पूरी होने के बाद भी धरने पर बैठ गये शिक्षक
protest

जेडी ने बताई हकीकत तो धरना किया स्‍थगित

आजमगढ़.  उत्तर प्रदेश माध्यमिक शिक्षक संघ (रामजन्म सिंह गुट) द्वारा इस वर्ष सेवानिवृत्त हुए शिक्षकों/कर्मचारियों के पेंशन एवं जीपीएफ के अंतिम भुगतान को लेकर शुक्रवार को संयुक्त शिक्षा निदेशक मंडल आजमगढ़ के कार्यालय पर धरना दिया गया। इस दौरान जब जेडी ने उन्‍हें बताया कि जिन समस्‍याओं को लेकर वे धरना दे रहे है उसका निस्‍तारण हो चुका है शिक्षकों ने धरना समाप्‍त कर दिया।
 


 धरने पर 11 बजे पहुंचे संयुक्त शिक्षा निदेशक रामचेत ने बताया कि संगठन के मांग पत्र के अनुसार शिक्षकों/कर्मचारियों के जीपीएफ/पेंशन प्रकरणों का निस्तारण कर दिया गया है। संयुक्त शिक्षा निदेशक ने बताया कि इस  वर्ष आजमगढ़ में सेवानिवृत्त 63 शिक्षकों में से 54 के पेंशन संबंधित प्रकरण कार्यालय को प्राप्त हुए थे, जिसमे से सभी को निस्तारित कर दिया गया हैं।
 
 मऊ में 47 सेवानिवृत्त शिक्षकों में से 44 के पेंशन प्रकरण कार्यालय को प्राप्त हुए सभी निस्तारित कर दिये गये। इसी प्रकार बलिया में 68 में से 42 प्रकरण कार्यालय को प्राप्त हुए जिसमे से 41 निस्तारित कर दिये गये। जीपीएफ के आजमगढ़ में प्राप्त 37 में से 34 प्रकरण, मऊ में 39 में 39 तथा बलिया में 23 में 18 प्रकरण निस्तारित किये जा चुके है। सामूहिक बीमा के प्राप्त सभी प्रकरणों को जिला विद्यालय निरीक्षक कार्यालय द्वारा इलाहाबाद कार्यालय को अग्रसारित कर दिया गया हैं।
 
संयुक्त शिक्षा निदेशक ने बताया कि शिक्षकों के पेंशन आदेश सम्बन्धितों के स्थायी/विद्यालय के पते पर पंजीकृत डाक के माध्यम से प्रेषित कर दिये गये है ताकि किसी भी अध्यापक को कार्यालय का चक्कर न लगाना पड़े। उन्होंने कहा कि अवशेष प्रकरणों का भी यथाशीध्र निस्तारित कर दिया जायेगा। विगत वर्ष सेवानिवृत्त शिक्षकों के पेंशन प्रकरणों का पुनरीक्षण अगले सप्ताह तक पूर्ण कर लेने का आश्वासन दिया।
 
जिलाध्यक्ष इरफान अहमद ने पेंशन व जीपीएफ के प्रकरणों का यथाशीध्र निस्तारण किये जाने के लिए जेडी एवं उनके सहायकों का आभार प्रकट किया। उन्होंने धरने पर उपस्थित शिक्षकों का भी आभार प्रकट किया। श्री अहमद ने कहा कि धरने का औचित्य समाप्त हो गया है लिहाजा संगठन की सहमति से धरना समाप्त कर लिये जाने का निर्णय लिया।
 
प्रांतीय अध्यक्ष रामजन्म सिंह ने पेंशन एवं जीपीएफ के मुद्दे पर संगठन द्वारा सत्याग्रह आयोजित करने हेतु संगठन की प्रशंसा करते हुए कहा कि सेवानिवृत्त शिक्षकों का कार्य संगठन की वरीयता सूची में प्रथम पायदान पर होना चाहिए। प्रांतीय मंत्री वीरेन्द्र सिंह, जिलामंत्री पंकज कुमार सिंह एवं कोषाध्यक्ष शेरबहादुर सिंह यादव ने जेडी, उनके कार्यालयों के सहायकों तथा शिक्षकों का आभार प्रकट किया। जो इस चिलचिलाती धूप में भी शिक्षक हितों के लिए संघर्ष करने के लिए उपस्थित हुए। 
 
 
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned