आजमगढ़ में फिर तोड़ी गई अंबेडकर की मूर्ती, मौके पर पहुंची भीड़, तनाव

यूपी के आजमगढ़ में पिछले कई महीनों से अंबेडकर प्रतिमा तोड़े जाने की घटना लगातार हो रही है। शुक्रवार को भी ईरनी गांव में अंबेडकर प्रतिमा तोड़ी गई।

आजमगढ़. बरदह थाना क्षेत्र में इन दिनों अमन-चैन में खलल की कोशिश बदस्तूर जारी है। क्षेत्र के ईरनी गांव में अराजक तत्वों द्वारा बीते दिनों अंबेडकर प्रतिमा खंडित किए जाने के बाद असमाजिक तत्वों ने शुक्रवार की रात क्षेत्र के भैंसकुर गांव में स्थापित एक और अंबेडकर प्रतिमा को खंडित कर दिया। क्षेत्र में आएदिन हो रही इस तरह की घटनाओं से जनाक्रोश बढ़ता जा रहा है। शनिवार की सुबह प्रतिमा खंडित किए जाने की खबर से मौके पर जुट कर विरोध प्रदर्शन कर रहे लोगों के बीच प्रशासन ने नई प्रतिमा लगवाने की जिम्मेदारी ली। साथ ही असमाजिक तत्वों के खिलाफ कार्रवाई करने का आश्वासन देकर मामले को शांत कराया।

 

 

भैंसकुर गांव की दलित बस्ती के पास स्थापित की गई डॉक्टर भीमराव अंबेडकर की प्रतिमा को शुक्रवार की रात शरारती तत्वों ने खंडित कर दिया। शनिवार की सुबह इसकी जानकारी होते ही लोगों में आक्रोश व्याप्त हो गया। खबर पाकर क्षेत्र के तमाम गांव के लोग घटनास्थल पर पहुंचे और प्रतिमा खंडित किए जाने का विरोध करते हुए दोषियों के गिरफ्तारी की मांग करने लगे।

 

 

सूचना पाकर बसपा के मंडल कोआर्डिनेटर हरिश्चंद्र गौतम, सीओ लालगंज रविशंकर प्रसाद, तहसीलदार लालगंज कृष्ण तिवारी तथा थानाध्यक्ष बरदह सुरेशचंद मयफोर्स मौके पर पहुंच गए। प्रशासनिक अधिकारियों ने ग्रामीणों की मांग पर तत्काल नई प्रतिमा की स्थापना एवं दोषियों को चिन्हित कर उनके खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने का आश्वासन दिया, तब जाकर लोग शांत हुए।

 

 

एसओ सुरेश चंद्र ने आर्थिक मदद प्रदान कर स्थानीय लोगों को नई प्रतिमा लाने की जिम्मेदारी दी। उन्होंने कहा कि क्षेत्र का माहौल बिगाड़ने वालों को कत्तई छोड़ा नहीं जाएगा। अभी इस मामले में अज्ञात के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज की जा रही है। शीघ्र ही उन्हें चिन्हित कर कड़ी कार्रवाई की जाएगी।

 

 

 

इस दौरान बसपा नेता हरिश्चंद गौतम ने कहा कि वर्तमान प्रदेश सरकार में कानून व्यवस्था चौपट होती जा रही है। वर्ग विशेष को हतोत्साहित करने के लिए लगातार इस तरह की घटनाएं हो रही हैं। ऐसे में यदि प्रशासन नहीं चेता तो शीघ्र ही बहुजन समाज पार्टी सड़क पर उतर कर विरोध प्रदर्शन करने को मजबूर होगी।

रफतउद्दीन फरीद Desk/Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned