बेटी की डोली से पहले उठी बहन की अर्थी, सड़क हादसे में एक ही परिवार के तीन लोगों की मौत

बेटी की डोली से पहले उठी बहन की अर्थी, सड़क हादसे में एक ही परिवार के तीन लोगों की मौत
Road accident

जौनपुर से खरीदारी कर बाइक से लौट रहे थे, बरदह थाना क्षेत्र के जिवली मोड़ के पास हुई दुर्घटना

आजमगढ़.  बरदह थाना क्षेत्र के जीवनी मोड़ के पास मंगलवार तेज रफ्तार स्कार्पियो की चपेट में आ जाने से बाइक सवार भाई- बहन व मां की मौके पर ही मौत हो गई। दुर्घटना के बाद भाग रही स्कार्पियो को बरदह थाने की पुलिस ने कब्जे में ले लिया है तीनों मृतक जौनपुर शहर कोतवाली क्षेत्र के निवासी थे और शादी समारोह में आजमगढ़ आये हुए थे।


क्षेत्र के बरदह ग्राम निवासी ओमप्रकाश राम की बहन शशिकला (42) पत्नी राजमन राम की शादी जौनपुर शहर कोतवाली क्षेत्र के जमालपुर गांव में हुई थी। शशिकला अपने दो पुत्र व एक पुत्री के साथ अपने घर रहती थी। जबकि उसका बड़ा पुत्र रंजीत (22) लगभग दो वर्षों से बरदह ग्राम स्थित अपने ननिहाल में रहता था। आगामी गुरुवार को ओमप्रकाश की पुत्री सोनी की शादी सुनिश्चित की थी। वैवाहिक कार्यक्रम में शामिल होने के लिए शशिकला अपनी इकलौती पुत्री खुशी (12) के साथ मायके आई हुई थी। मंगलवार को शादी से संबंधित खरीदारी करने के लिए शशीकला अपने पुत्र रंजीत व पुत्री खुशी के साथ बाइक से जौनपुर जिले के गौराबादशाहपुर बाजार गई थी। खरीददारी कर के तीनों बाइक से वापस लौट रहे थे।


जिवली गांव स्थित इंधन गैस एजेंसी के समीप सामने से आ रहे ट्रक से बचने के प्रयास में जौनपुर की ओर से आ रही तेज रफ्तार स्कॉर्पियो आगे चल रही बाइक में टक्कर मार दी। इस हादसे में बाइक सवार भाई-बहन व मां तीनों सड़क पर गिरे और मौके पर ही उनकी मौत हो गई। दुर्घटना होते देख स्थानीय लोगों ने भाग रही स्कार्पियो के बारे में बरदह थाने को सूचना दी। पुलिस ने सड़क पर अवरोध खड़ा कर वाहन को अपने कब्जे में ले लिया। साथ ही बरदह थाना प्रभारी सुरेश चंद तत्काल फोर्स के साथ दुर्घटना स्थल पर पहुंच गए।  पुलिस ने मौके पर पड़ी बाइक व तीनों शवों को लेकर थाने पहुंची। उधर हादसे की जानकारी पाकर मृतकों के रिश्तेदार रोते-बिलखते बरदह थाने पहुंच गए। घटना के संबंध में मृतका शशिकला के पति राजमन ने स्कार्पियो चालक के खिलाफ बरदह थाने में रिपोर्ट दर्ज कराई है।


यह भी पढ़ें:
इंटर पास चला रहा था छह साल से क्लीनिक, करता था मरीजों का ऑपरेशन



बेटी की डोली से पहले उठी बहन और भांजे- भांजी की आर्थी
बरदह थाना क्षेत्र में मंगलवार को हुई दुर्घटना में मां बेटे व बेटी केशव को देख वहां मौजूद हर किसी की आंखें नम हो जा रही थी परिजनों व रिश्तेदारों का करुण क्रंदन हर किसी के कलेजे को हिला कर रख दे रहा था बहन के शव से लिपट कर रो रहे भाई ओमप्रकाश की आंखों से आंसू झर झर बह रहे थे बहन के वियोग में विलाप कर रहे ओमप्रकाश को उसके परिजनों के मुख से निकली हर बात लोगों को हिला कर रख दे रही थी।

मंगलवार की शाम ओम प्रकाश के घर मत मंगरा रस्म की अदायगी होने वाली थी रस्म में शामिल होने से पूर्व सफी कला भाई के पुत्री को उपहार देने के लिए खरीददारी का मन बनाया और अपने पुत्र वो पुत्री के साथ जौनपुर जिले के गोरा बादशाहपुर में खरीददारी करने के लिए निकल गई। घर से निकलने से पूर्व उसके भाई व भाभी ने बाद में जाने को कहा लेकिन शायद शशिकला और उसके बच्चों को मौत खींच कर ले गई। कारण कि उसने मायके वालों से कहा कि फिर समय नहीं मिलेगा और यही बात कहकर शशीकला बच्चों के साथ मायके से निकली और यह उसकी अंतिम यात्रा साबित हुई। ओम प्रकाश के घर मंगल गीतों की जगह चीख-पुकार मची हुई है मृतका शशीकला के पति राजमन को मानो काठ मर गया हो, पत्नी पुत्र व पुत्री के शव को देख वह बेसुध पड़ा हुआ है।
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned