यूपी के अस्पताल में एक घंटे में दो महिलाओं की मौत के बाद हंगामा

यूपी के अस्पताल में एक घंटे में दो महिलाओं की मौत के बाद हंगामा

Sarweshwari Mishra | Publish: Sep, 05 2018 04:11:26 PM (IST) Azamgarh, Uttar Pradesh, India

परिजन चिकित्सकों के खिलाफ कार्रवाई की मांग कर रहे हैं जबकि चिकित्सकों का दावा है कि दोनों ही महिलाएं पहले से ही सीरियस थी

आजमगढ़. जिला महिला चिकित्सालय में मंगलवार रात एक घंटे के अंदर दो महिलाओं की मौत हो गई। इसके बाद परिजनों ने चिकित्सकों पर लापरवाही का आरोप लगाते हुए जमकर हंगामा किया। देर रात धटना की जानकारी होने पर कोतवाली पुलिस मौके पर पहुंची और किसी तरह स्थित पर नियंत्रण किया। परिजन चिकित्सकों के खिलाफ कार्रवाई की मांग कर रहे हैं जबकि चिकित्सकों का दावा है कि दोनों ही महिलाएं पहले से ही सीरियस थी।

 

कंधरापुर थाना क्षेत्र के दुबरहन खुर्द गांव निवासी माधुरी (22) पत्नी बीडी सिंह को प्रसव पीड़ा शुरू होने पर सोमवार को जिला महिला चिकित्सालय में भर्ती कराया गया था। रात दो बजे महिला ने बेटी को जन्म दिया था। मंगलवार शाम को महिला की हालत अचानक बिगड़ने लगी। परिवार के लोगों के मुताबिक हालत बिगड़ने पर उन्होंने और उनके साथ आई आशा ने बार-बार डॉक्टर को महिला को देखने के लिए बुलाया, लेकिन डाक्टर नहीं और रात करीब 11 बजे माधुरी की मौत हो गई। अगर डॉक्टर समय पर माधुरी का इलाज करते तो उसकी मौत नहीं होती।

 

इसी तरह शहर कोतवाली क्षेत्र के एलवल मोहल्ला निवासी गुड़िया विश्वकर्मा उर्फ सीमा (35) पत्नी गब्बू विश्वकर्मा को प्रसव पीड़ा होने पर मंगलवार रात आठ बजे जिला महिला अस्पताल में भर्ती कराया गया। परिजनों का आरोप है कि डॉक्टर ने एक इंजेक्शन लगाया और इसके बाद महिला की हालत बिगड़ने लगी। उसके मुंह से झाग निकलने लगा। महिला की हालत बिगड़ती देख डॉक्टर उसे किसी अन्य अस्पताल में ले जाने के लिए कहने लगे। इस पर परिजनों ने हंगामा शुरू कर दिया।

 

परिजनों के अनुसार महिला की मौत हो गई है, लेकिन कोई डॉक्टर बोलने के लिए तैयार नहीं है।इस मामले में संबंधित डॉक्टर असलम का कहना है कि महिला को कोई इंजेक्शन नहीं लगाया गया। उसकी स्थिति पहले से ही गंभीर थी। इलाज से पहले ही उसको हार्ट अटैक आया इसलिए उसके मुंह से झाग निकलने लगा। महिला को किसी हृदय रोग विशेषज्ञ के पास ले जाने के लिए कहा गया था। वही सीएमएस अमिता अग्रवाल का कहना है कि लापरवाही जैसा कोई मामला नहीं है। आरोपों की उन्होंने अपने स्तर पर जांच करायी है।

By - Ranvijay Singh

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned