सरकार का बड़ा फैसला, माटीकला के कारीगरों को मिलेगा निःशुल्क टूल किट्स

माटी कला को बढ़ावा देने तथा मिट्टी के बर्तनों के उत्पादन में तेजी लाने के लिए माटी कला बोर्ड ने बड़ा फैसला लिया है। माटी कला बोर्ड से जुड़े कुम्हारों को निःशुल्क टूल किट्स उपलब्ध करायी जाएगी। इसके लिए 25 जून तक आवेदन लिए जाएंगे।

पत्रिका न्यूज नेटवर्क
आजमगढ़. माटी कला को बढ़ावा देने तथा मिट्टी के बर्तनों के उत्पादन में तेजी लाने के लिए माटी कला बोर्ड ने बड़ा फैसला लिया है। माटी कला बोर्ड से जुड़े कुम्हारों को निःशुल्क टूल किट्स उपलब्ध करायी जाएगी। इसके लिए 25 जून तक आवेदन लिए जाएंगे। माना जा रहा है कि कुम्हारों के पास आधुनिक संसाधन होंगे तो वे बेहतर कार्य कर पाएंगे।

जिला ग्रामोद्योग अधिकारी राजेंद्र प्रसाद ने बताया कि शासन द्वारा गठित उप्र माटीकला बोर्ड जिसका संचालन खादी तथा ग्रामोद्योग बोर्ड द्वारा किया जा रहा है। खादी तथा ग्रामोद्योग बोर्ड द्वारा संचालित माटीकला टूलकिट्स वितरण रोजगार योजना के अन्तर्गत वित्तीय वर्ष 2021-22 हेतु शासन द्वारा जनपदों को लक्ष्य आवंटित किये गये है।

इसका मुख्य उद्देश्य पर्यावरण को हो रहे नुकसान को रोकना है। प्रदेश में प्लास्टिक से निर्मित कप प्लेट आदि के उपयोग को प्रतिबंधित कर दिया गया है। इसके विकल्प के रूप में मिट्टी से निर्मित पात्रों के उपयोग एवं उसके औद्योगिक उत्पादन को बढ़ावा देने तथा कुम्हार माटीकला से सम्बन्धित परम्परागत कारीगरों को वर्तमान में अपेक्षा के अनुरूप प्रशिक्षित कराते हुये माटीकला के उत्पादों को विपणन सुविधा उपलब्ध कराना है।

जिसके लिए विभाग द्वारा माटीकला के कारीगरों को निःशुल्क टूल किट्स का वितरण किया जायेगा। इसके लिये ऑफलाईन आवेदन पत्र जिला ग्रामोद्योग कार्यालय सिधारी आजमगढ़ से प्राप्त किया जा सकता है। आवेदक ग्रामीण क्षेत्र का निवासी होना चाहिए तथा माटीकला का परम्परागत कारीगर एवं वर्तमान में कार्य कर रहे हो यह जरूरी है। आवेदन की अन्तिम तिथि 25 जून 2021 निर्धारित की गयी है। अधिक जानकारी के लिए कार्य दिवस में जिला ग्रामोद्योग कार्यालय सिधारी आजमगढ़ पर सम्पर्क किया जा सकता है।

BY Ran vijay singh

रफतउद्दीन फरीद
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned