यूरिया घोटालाः पीसीएफ का बड़ा खेल उजागर, कार्रवाई के लिए भेजी गई रिपोर्ट

3000 टन यूरिया वितरण में धांधली का मामला, तीन सदस्यीय टीम ने सौंपी रिपोर्ट

पूर्व में भी जिले में हो चुका है यूरिया घोटाला, 14 के खिलाफ दर्ज हुई है एफआईआर

आजमगढ़. जिले में यूरिया घोटाले की परत-दर परत खुलने लगी है। हाल में साधन सहकारी समिति के सचिवों व निजी दुकानदारों द्वारा यूरिया की कालाबाजारी करने की पुष्टि हुई थी। इस मामले में तीन सचिव, तीन निजी दुकानदारों व आठ किसानों के खिलाफ एफआईआर दर्ज करायी थी। अब पीसीएफ में 3000 टन यूरिया वितरण में धांधली पुष्टि हुई है। मामले की जांच के लिए गठित समिति की निपोर्ट आने के बाद एआर कोआपरेटिव ने कार्रवाई के लिए रिपोर्ट डीएम को भेजी है। इस मामले में कई अधिकारी-कर्मचारियों पर गांज गिरनी तय है।

बता दे कि अभी पिछले महीने जिले में यूरिया की भारी कमी देखने को मिली थी। उस समय मामला प्रकाश में आया था कि साधन सहकारी समिति के सचिव, निजी दुकानदार व कुछ किसान मिलकर लाखों रूपये की यूरिया की कालाबाजारी किये है। कालाबाजारी की पुष्टि होने के बाद साधन सहकारी समितियों के तीन सचिव, तीन निजी लाइसेंसी उर्वरक विक्रेता और आठ किसानों के खिलाफ एफआइआर दर्ज कराई गई थी। अब पीसीएफ द्वारा 3000 टन यूरिया विरतण में धाधली से हड़कंप मचा है।

जिला प्रबंधक पीसीएफ द्वारा पैक्स (समिति) को 8542 टन एवं अन्य को 5532 टन यूरिया प्रेषित करने की सूचना पिछले दिनों दी गयी थी। चार सितंबर को सहायक विकास अधिकारी सहकारिता और अपर जिला सहकारी अधिकारी के साथ बैठक में सहायक आयुक्त एवं सहायक निबंधक सहकारिता ने पाया कि पीसीएफ द्वारा लगभग 3000 टन यूरिया का प्रेषण समितियों को नहीं किया गया है। धांधली की आशंका होने पर चालू खरीफ अभियान में यूरिया 14074 टन प्रेषण किन-किन उर्वरक बिक्री केंद्रों पर कितनी-कितनी मात्रा में किया गया है, की जांच के लिए कमेटी गठित की गई।


अपर जिला सहकारी अधिकारी बैंकिग अबुल हसन की अध्यक्षता में गठित तीन सदस्यीय टीम में अपर जिला सहकारी अधिकारी तहसील प्रभारी लालगंज शिव प्रसाद यादव एवं सर्किल अधिकारी बैंकिग इलियास अहमद सदस्य नामित किए गए थे। उक्त समिति ने जांच पूरी कर रिपोर्ट सम्मिट कर दी है। सहायक आयुक्त एवं सहायक निबंधक सहकारिता रामकिकर द्विवेदी ने बताया जांच टीम ने रिपोर्ट दे दी है। इसमें अनियमितता की पुष्टि हुई है। मामले की गंभीरता को देखते हुए अग्रिम कार्रवाई के लिए जांच आख्या जिलाधिकारी को भेज दी गयी है।

BY Ran vijay singh

रफतउद्दीन फरीद
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned