scriptUttar Pradesh Assembly Elections 2022 Most backward classes Purvanchal | दलित के बाद अति पिछड़े बने पूर्वांचल में राजनीति का केंद्र, इन्हें साधने के लिए सोशल इंजीनियरिंग शुरू | Patrika News

दलित के बाद अति पिछड़े बने पूर्वांचल में राजनीति का केंद्र, इन्हें साधने के लिए सोशल इंजीनियरिंग शुरू

दलित के बाद अब राजनीतिक दलों की नजर अति पिछड़ों पर है। अति पिछड़ों को पाले में करने के लिए जहां जोड़तोड़ शुरू हो गयी हैं। वहीं संगठन में इन्हेें खुलकर जगह दी जा रही है। भाजपा, सपा, कांग्रेस सोशल इंजीनियरिंग के जरिये इस वोट बैंक में सेंध लगाने की कोशिश में जुटी हैै। वहीं बसपा लगातार पार्टी नेताओं के साथ छोड़ने से बेजार नजर आ रही है।

आजमगढ़

Published: August 04, 2021 10:03:24 am

पत्रिका न्यूज नेटवर्क
आजमगढ़. वर्ष 2022 के विधानसभा चुनाव से पहले आजमगढ़ जिला राजनीति का केंद्र बन गया है। दलित के बाद अब इसे अति पिछड़ों की राजनीति का केंद्र बनानेे की कोशिश हो रही है। सभी एक दूसरे के वोट बैंक में सेंध लगाने की कोशिश में जुटे है लेकिन सपा अपने गढ़ में इस खेल में सर्वाधिक कामियाब दिख रही है लेकिन राजनीतिक दलों के नेताओं के दल बदल के खेल से गुटबंदी बढ़ने का भी खतरा बढ़ गया है।

प्रतीकात्मक फोटो
प्रतीकात्मक फोटो

बता दें कि 14 अगस्त 2020 कोे तरवां थाना क्षेेत्र में हुई दलित प्रधान सत्यमेंव जयते की हत्या के बाद से ही आजमगढ़ दलित राजनीति का केंद्र बन गया है। कांग्रेस, सपा, बसपा, भीम आर्मी सभी दलित उत्पीड़न के मुद्दे को पिछलेे एक साल से हवा दे रही है। वहीं जनवरी 2021 में रौनापार थाना क्षेत्र के पलिया गांव में प्रधान के घर पुलिस के हमले के बाद दलित उत्पीड़न का मामला और तूल पकड़ लिया है।

पार्टी सेे नाराज बीजेपी के कई दलित नेता कांग्रेस का हाथ थाम लिए हैं तो बीजेपी डैमेज कंट्रोल के लिए लगातार दलित और अति पिछड़ों को संगठन में प्रमोट कर रही है। पिछड़ी जाति के नेता आनंद गुप्ता सहित कई को जिले से हटाकर क्षेत्रीय संगठन में जगह दी गयी है। वहीं भीम आर्मी और सपा की नजर सीधे तौर पर बसपा के वोट बैंक पर है। भीम आर्मी चीफ आजमगढ़ मेें जल्द ही दलित महा पंचायत करने वाले हैं।

दूसरी तरफ सपा ने बसपा के सबसे मजबूत स्तभ पूर्व विधानसभा सुखदेव राजभर को तोड़ लिया है। वैसेे तो सुखदेव राजभर ने राजनीति से सन्यास ले लिया है लेकिन उन्होंनेे अपने पुत्र कमलाकांत को अखिलेश के हवाले कर व मायावती पर पत्र के माध्यम से गंभीर आरोप लगा राजनीतिक सरगर्मी बढ़ा दी है। कारण कि आजमगढ़ सहित पूर्वांचल में करीब 8 प्रतिशत राजभर वोट हैं। राजभरों में ओम प्रकाश राजभर के बाद अगर किसी की सर्वाधिक पैठ है तो वह सुखदेव राजभर की है। ऐसे में सपा खुद को फायदे में महसूस कर रही है।

लेकिन इस राजनीतिक उलटफेर का दूसरा पक्ष भी सामने आने लगा है। उदाहरण के तौर पर दीदारगंज विधानसभा क्षेत्र से पूर्व विधायक आदिल शेेख पहले से टिकट की दावेदारी कर रहे है। इसके अलावा पूर्व मंत्री राम आसरे विश्वकर्मा और पूर्व मंत्री राम दुलार राजभर की भी यहीं से टिकट की दावेदारी है। अब कमलाकांत अगर पार्टी में शामिल होंगे तो सुखदेव अपनी राजनीतिक विरासत को आगे बढ़ने के लिए उन्हें टिकट दिलाने की कोशिश करेंगे। चर्चा तो यहां तक है कि कमलाकांत पार्टी में शामिल ही टिकट के लिए होने वाले हैं ऐसे में सपा में गुटबंदी और भी बढ़ने का खतरा है। बहरहाल आगे क्या होगा यह तो समय बताएगा लेकिन आजमगढ़ दलित और पिछड़ों की राजनीति का केंद्र बनता जा रहा है। कारण कि ओमप्रकाश राजभर की भी सक्रियता इस समय सबसेे अधिक आजमगढ़ में दिख रही है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

धन-संपत्ति के मामले में बेहद लकी माने जाते हैं इन बर्थ डेट वाले लोगशाहरुख खान को अपना बेटा मानने वाले दिलीप कुमार की 6800 करोड़ की संपत्ति पर अब इस शख्स का हैं अधिकारजब 57 की उम्र में सनी देओल ने मचाई सनसनी, 38 साल छोटी एक्ट्रेस के साथ किए थे बोल्ड सीनMaruti Alto हुई टॉप 5 की लिस्ट से बाहर! इस कार पर देश ने दिखाया भरोसा, कम कीमत में देती है 32Km का माइलेज़UP School News: छुट्टियाँ खत्म यूपी में 17 जनवरी से खुलेंगे स्कूल! मैनेजमेंट बच्चों को स्कूल आने के लिए नहीं कर सकता बाध्यअब वायरल फ्लू का रूप लेने लगा कोरोना, रिकवरी के दिन भी घटेइन 12 जिलों में पड़ने वाल...कोहरा, जारी हुआ यलो अलर्ट2022 का पहला ग्रहण 4 राशि वालों की जिंदगी में लाएगा बड़े बदलाव
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.