प्रधान की करतूत से परेशान ग्रामीणों ने कमिश्नर ऑफिस पर दिया धरना

Rafatuddin Faridi

Publish: Sep, 12 2018 02:34:44 AM (IST) | Updated: Sep, 12 2018 02:34:45 AM (IST)

Azamgarh, Uttar Pradesh, India

प्रदर्शन

1/2

कहा घोटालेबाज है प्रधान, एक सड़क का दो बार पैसा निकलवा लिया, तालाब की मिट्टी बेच दी।

आजमगढ़. प्रधान की मनमानी और उसके द्वारा विकास के नाम पर फर्जी भुगतान कराने से नाराज मिर्जापुर ब्लाक के सुरही बुजुर्ग के ग्रामीणों ने मंडलायुक्त कार्यालय पर प्रदर्शन किया। आयुक्त को ज्ञापन सौंप मामले की जांच कराने तथा प्रधान के खिलाफ कार्रवाई की मांग की। ग्रामीणों ने कार्रवाई न होने पर अनशन की चेतावनी दी।

 

जनार्दन चौहान के नेतृत्व में मंडलायुक्त कार्यालय पहुंचे ग्रामीणों ने आरोप लगाया कि प्रधान ने गांव में जो भी विकास कार्य कराया है उसे अधूरा छोड़ दिया है। यही नहीं एक ही सड़क की दो लोकेशन दिखाकर दो बार भुगतान कराया गया है। संबंधित अधिकारी और कर्मचारी भी धन के बंदरबाट में शामिल हैं। यही नहीं पोखरी खोदाई के नाम पर मिट्टी निकाल कर बेंच दी गयी है।

 

इसके बाद फर्जी कार्ययोजना बनाकर जाब कार्ड धारकों के खाते में फर्जी भुगतान कराया गया। गरीबों का धन प्रधान डकार रहा है और विरोध करने पर मारपीट पर उतारू हो जाता है। जो लोग प्रधान की शिकायत करते हैं उन्हें वह मारता पीटता भी है। गांव में मेनरोड के पास खड़न्जा मरम्मत का कार्य दिखाया गया है जो पूरी तरह फर्जी है। अन्त्योष्टि स्थल के निर्माण में गलत मूल्यांकन कर फर्जी ढंग से भुगतान कराया गया है। नाली आदि के निर्माण के नाम पर भी प्रधान ने फर्जी भुगतान कराया है। प्रधान सीधे तौर पर ग्रामीणों के हक पर डाका डाल रहा है।

 

स्थानीय अधिकारियों से जब शिकायत की जाती है तो वे जांच करने के बजाय प्रधान से सुविधा शुल्क लेकर उसे दबा देते है। पूर्व में उसकी शिकायत डीएम, सीडीओ से भी की गयी लेकिन किसी अधिकारी ने कार्रवाई नहीं की। कारण कि प्रधान की सत्ताधारी दल में गहरी पैठ है। प्रधान के खिलाफ दिये गए साक्ष्यों को संज्ञान में लेते हुए जांच टीम का गठन कर मामले की जांच करायी जाय।

 

इस मौके पर मूलचंद, उमाकांत चौहान, रम विलास, अमृत सिंह चौहान, कुलदीप चौहान, कुसुम, कल्पनाथ, आरती देवी, नंदलाल चौहान, राम चंद्र चौहान, विजयप्रकाश, शशिकला चौहान, संयोगिता, मनीता, सुधाकर आदि उपस्थित थे।

By Ran Vijay Singh

Ad Block is Banned