अखिलेश यादव और निरहुआ सहित 30 प्रत्याशियों की किस्मत ईवीएम में बंद, जानिये दिन भर का पूरा घटनाक्रम

आजमगढ़ सीट पर 56.2 प्रतिशत और लालगंज सीट पर 54.84 प्रतिशत वोटिंग

35,35,517 मतदाताओं ने ईवीएम में कैद की तीस प्रत्याशियों की किस्मत

आजमगढ़ संसदीय सीट के एक केंद्र पर ग्रामीणों ने पुल की मांग को लेकर किया चुनाव बहिष्कार

By: Akhilesh Tripathi

Published: 12 May 2019, 08:40 PM IST

आजमगढ़. छिटपुट घटनाओं के बीच जिले की दो सीटों के लिए मतदान रविवार को संपन्न हुआ। तेज गर्मी के बाद भी बूथों पर मतदाताओं की लंबी लाइन दिखी। वैसे आजमगढ़ में वर्ष 2014 से कम मतदान हुआ। पिछले चुनाव में यहां 56.47 प्रतिशत मतदाताओं ने अपने मताधिकार का प्रयोग किया था जबकि इस बार केवल 56.2 प्रतिशत लोगों ने वोट डाला।

आजमगढ़ में एक बूथ पर लोगों ने पुल की मांग को लेकर चुनाव बहिष्कार भी किया है। लालगंज संसदीय सीट पर वोटों की बरसात हुई। सीट के अस्तित्व में आने के बाद से अब तक पहली बार यहां 54.84 प्रतिशत वोटिंग हुई है। इसके पूर्व सर्वाधिक पोलिंग वर्ष 2014 में 54.19 प्रतिशत रही थी।


बता दें कि जिले की दो लोकसभा सीटों के लिए मतदान रविवार को निर्धारित समय पर शुरू हुआ। आधा दर्जन पोलिंग बूथों पर ईवीएम में गड़बड़ी के कारण मतदान देर से शुरू हुआ। मतदान को देखते हुए सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए गये है। आजमगढ़ संसदीय सीट से सपा मुखिया अखिलेश यादव, बीजेपी के दिनेश लाल यादव निरहुआ सहित 15 प्रत्याशी मैदान में है। सीधा मुकाबला अखिलेश और निरहुआ में माना जा रहा है। रमजान और तेज गर्मी के बाद भी मतदान केंद्रों पर सुबह से लंबी लाइन दिखी। आजमगढ़ संसदीय क्षेत्र में 17 लाख 85 हजार 624 मतदाताओं को प्रत्याशियों की भाग्य का फैसला करना था लेकिन निर्धारित समय तक 56.02 प्रतिशत ही मतदाता बूथ तक पहुंचे। वैसे छह बजे के बाद भी कुछ बूथों पर मतदाता देखे गए। ऐसे में माना जा रहा है कि मत प्रतिशत एक फीसदी तक बढ़ सकता है। अगर ऐसा होगा तो वर्ष 1977 के बाद आजमगढ़ में यह सर्वाधिक मतदान होगा। विधानसभावार देखें तो गोपालपुर में 3,49,209 मतदाताओं के सापेक्ष 56 प्रतिशत, सगड़ी में 3,29,004 के सापेक्ष 56, मुबारकपुर में 3,36,409 के सापेक्ष 58 प्रतिशत, आजमगढ़ में 3,81,517 के सापेक्ष 58 प्रतिशत और मेंहनगर में 3,98,465 के सापेक्ष 53 प्रतिशत मतदाताओं ने मताधिकार का प्रयोग किया।


वहीं लालगंज में बसपा की संगीता आजाद और भाजपा की नीलम सोनकर सहित कुल 15 प्रत्याशी चुनाव मैदान में हैं। यहां पर भी मुख्य लड़ाई बसपा और भाजपा के बीच ही मानी जा रही है। इस सीट के गठन के बाद सर्वाधिक मतदान वर्ष वर्ष 2014 में 54.19 प्रतिशत हुआ था लेकिन इस बार मतदान बढ़कर 54.84 प्रतिशत हो गया है। यहां 17 लाख 49 हजार 893 मतदाताओं में 54.84 प्रतिशत ने वोट डाला है। विधानसभावार देखे तो अतरौलिया विधानसभा में 3,68,945 मतदाताओं के सापेक्ष 56 प्रतिशत, निजामाबाद में 3,20,443 मतदाताओं के सापेक्ष 55 प्रतिशत, फूलपुर-पवई में 3,17,945 के सापेक्ष 56 प्रतिशत, दीदारगंज में 3,52,720 के सापेक्ष 52 और लालगंज विधानसभा में 3,89,840 मतदाताओं के सापेक्ष 55 प्रतिशत ने मतदान किया हैं।


रहा सवाल हार जीत का तो यह अंदाजा लगाना मुश्किल है कि सेहरा किसके सिर बधेंगा। गठबंधन और भाजपा के लोग अपनी अपनी जीत का दावा कर रहे है। वहीं इस चुनाव में मतदान का बहिष्कार भी देखने को मिला। आजमगढ़ संसदीय सीट के महाजी देवारा जदीद गांव के लोगों ने पुल के लिए मतदान का बहिष्कार किया। जानकारी होने पर अधिकारी मौके पर पहुंचे और लोगों को मनाने का प्रयास भी किया लेकिन लोग अपनी जिद पर अड़े रहे। इससे भी पोलिंग परसेंटेज प्रभावित हुआ।

 

पुल के लिए महाजी देवारा जदीद के ग्रामीणों ने किया मतदान का बहिष्कार
आजमगढ़। गोपालपुर विधानसभा क्षेत्र के महाजी देवारा जदीद देवरा के ग्रामीणों ने रविवार को मतदान नहीं किया। तहसील से लेकर जिले के अधिकारियों ने भी ग्रामीणों को मनाने का प्रयास किया लेकिन ग्रामीण मतदान बहिष्कार की जिद पर अड़े रहे। ग्रामीण वर्षों से पुल की मांग कर रहे थे लेकिन किसी सरकार ने नहीं सुनी। इससे आक्रोशित ग्रामीणों ने लोकसभा मतदान का बहिष्कार किया। जानकारी के मुताबिक गोपालपुर विधानसभा क्षेत्र की मतदान केंद्र संख्या एक महाजी देवारा जदीद देवरा क्षेत्र में पड़ता है। इसमें कुल 1120 मत हैं। 2007 से पुल का निर्माण किया जा रहा था जो अब तक अधूरा है। चिकनहवां बाजार से नया पुरवा तक पुल का निर्माण कार्य किया जा रहा था जो रुक गया है। इस लेकर ग्रामीणों ने कई बार धरना प्रदर्शन भी कर चुके हैं लेकिन शासन-प्रशासन ने कभी ध्यान नहीं दिया। इससे थक हार कर उन्होंने लोकसभा मतदान न करने का निर्णय लिया। पूर्व में ग्रामीणों के प्रार्थना पत्र पर उप जिलाधिकारी दिनेश मिश्रा द्वारा आश्वासन व पत्र उच्चाधिकारियों को दिया गया था। इसकी जानकारी होने पर एसडीएम ने क्षेत्राधिकारी शिवाकांत पांडेय, ग्रामीण पुलिस अधीक्षक नरेंद्र प्रताप सिंह, एडीएम गुरु प्रसाद गुप्ता के अतिरिक्त भाजपा जिलाध्यक्ष जयनाथ सिंह ने भी ग्रामीणों को मतदान करने के लिए काफी प्रयास किया लेकिन नाराज ग्रामीणों ने किसी की भी बात नहीं सुनी और मतदान का बहिष्कार कर दिया।

 

 

दिन भर का घटनाक्रम:

-लालगंज के अमिलिया बूथ पर 7.45 बजे मतदान शुरू हुआ।

-लालगंज सिविल लाइन व चिउटहरा बूथ पर 7.30 बजे मतदान शुरू।

-लालगंज राजकीय महिला इंटर कालेज बूथ संख्या 279 पर 8.30 बजे मतदान शुरू।

-लालगंज के जीरिकपुर बूथ संख्या 178 पर मशीन खराब होने से एक घंटा तक मतदान बाधित रहा।

-लालगंज के कटघर बूथ संख्या 279 पर दो घंटे बाद मतदान शुरू हुआ।

-रौनापार के धुनसीनपुर बूथ नंबर 19 पर 57 मिनट देर से शुरू हुआ मतदान।

-दीदारगंज के मुंहचुरा में 7.45 बजे मतदान शुरू हुआ।

-रानी की सराय के शाहखजुरा में 7.30 बजे मतदान शुरू हुआ।

-फरिहां के शाहपुर बूथ पर 7.22 बजे मतदान शुरू हुआ।

-जहानागंज के इस्लामिया मदरसे के बूथ संख्या 178 पर मशीन खराब होने से एक घंटे बाद मतदान शुरू हुआ।

-जहानागंज जूनियर हाईस्कूल बूथ संख्या 256 पर सात बजे शुरू हुआ मतदान आठ बजे के बाद इवीएम खराब होने से एक घंटे बाधित रहा मतदान।

-मार्टीनगंज के वनगांवा बूथ पर दिव्यांगों के लिए व्यवस्था न होने से आक्रोश।

-निजामाबाद बूथ संख्या 22 पर मशीन खराब होने से सवा घंटे बाधित रहा मतदान।

-अतरौलिया के रतुआपार में 8.20 बजे मशीन खराब, एक घंटे तक बाधित रहा मतदान।

-तहबरपुर के मधसिया में मतदान देर से शुरू होने पर आक्रोशित ग्रामीणों ने किया प्रदर्शन।

-तहबरपुर के चकमजनू में इवीएम खराब होने से दस बजे शुरू हुआ मतदान।

-तहबरपुर के बसही जरमजेपुर बूथ संख्या छह पर इवीएम खराब होने से दस बजे शुरू हुआ मतदान।

-सगड़ी विधानसभा क्षेत्र में नौ बजे तक सात इवीएम व गोपालपुर विधानसभा क्षेत्र में आठ इवीएम बदली गई।

-फूलपुर विधानसभा क्षेत्र के जोमा बूथ संख्या 295 पर 2.05 बजे वीवीपैट गर्म होने से बंद, बदला गया

BY- RANVIJAY SINGH

Show More
Akhilesh Tripathi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned