अखिर क्यों? अभिलेखों की जांच से भाग रहे हैं आजमगढ़ के 410 शिक्षक

विभाग के कई रिमाइंडर के बाद भी मानव संपदा पोर्टल पर नहीं अपलोड किया अभिलेख

सरकार ने एसटीएफ से इन शिक्षकों के अभिलेख की जांच कराने का किया है फैसला

आजमगढ़. आखिर ऐसा क्या है कि जिले के 410 शिक्षक अभिलेखों के सत्यापन से भाग रहे है। इन्होंने कई रिमाइंडर के बाद भी अभिलेखों का सत्यापन नहीं कराया है कुछ ने तो अभिलेख मानव संपदा पोर्टल पर अपलोड ही नहीं किया है। ऐसे शिक्षक कर्मचारियों पर गाज गिर सकती है। सरकार ने इन शिक्षकों की विशेष जांच के लिए मामला एसटीएफ को सौंपने की तैयारी शुरू हो गई है। इस संबंध में बीएसए को दिशा-निर्देश जारी कर दिए गए हैं। सरकार की ओर से पत्र आने के बाद शिक्षा विभाग में हड़कंप मच गया है।

शिक्षा निदेशक बेसिक डा. सर्वेंद्र विक्रम बहादुर सिंह ने बीएसए अम्बरीष कुमार को पत्र भेजकर निर्देश दिए हैं कि मानव संपदा पोर्टल पर जिन शिक्षकों ने सेवा विवरण एवं सेवा पुस्तिका अपलोड नहीं की है उन्हें सरकार ने एक आखिरी मौका दिया है।

वे 10 नवंबर तक अभिलेख मानव संपदा पोर्टल पर अपलोड करा दें। इसके बाद जो भी शिक्षक-शिक्षिकाएं अभिलेख अपलोड नहीं कराएंगे ऐसे शिक्षक-शिक्षिकाओं के खिलाफ कड़ी कार्रवाई होगी। अभिलेख अपलोड न कराने वाले शिक्षक-शिक्षिकाओं की विशेष जांच एसटीएफ से कराई जाएगी। जनपद में 16 हजार 398 शिक्षक है इनमें से 410 ने अब तक अपने अभिलेख वेरिफाइ नहीं कराए हैं।

जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी ने बताया कि जिले में मानव संपदा पोर्टल पर अभिलेख सत्यापन कराने की स्थिति ठीक है। 410 शिक्षकों, कर्मियों ने अभिलेख सत्यापन नहीं कराए हैं। वहीं कुछ ने अभी तक डाटा भी अपलोड नहीं किया है। यदि 10 नवंबर तक ये लोग अभिलेख अपलोड नहीं करते है तो रिपोर्ट शासन को भेज दी जाएगी। इसके बाद शासन इनके अभिलेखों की जांच एसटीएफ से कराएगा।

BY Ran vijay singh

रफतउद्दीन फरीद
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned