मानसून में ऐसे करेंगे अपने नवजात बच्चे की देखभाल, तो नहीं प​ड़ेगा बीमार

मानसून में ऐसे करेंगे अपने नवजात बच्चे की देखभाल, तो नहीं प​ड़ेगा बीमार
baby care in mansoon

Kamal Singh Rajpoot | Updated: 25 Jun 2017, 02:48:00 PM (IST) बेबी

यदि आप यह चाहते है कि मानसून के मौसम में आपका बच्चा स्वस्थ रहे तो इन टिप्सों को ध्यान से पढ़े

मानसून का मौसम अपने साथ ढ़ेर सारी ​बीमारियों को आमंत्रण देता है। ऐसे में अपने आप का अच्छे ढ़ंग से ख्याल रख लेते है लेकिन छोटे बच्चे की देखभाल में हम लापरवाही बरत लेतें है जिसका कई बार तो बड़ा खामियाजा भी उठाना पड़ जाता है। तो यदि आप यह चाहते है कि मानसून के मौसम में आपका बच्चा स्वस्थ रहे तो इन टिप्सों को ध्यान से पढ़े। 

1. सफाई का विशेष ध्यान रखें
मौनसून में शिशु की सफाई का पूरा ख्‍याल रखना चाहिये। इस समय उनको पसीना बहुत होता है इसलिये यह जरुरी है कि उन्‍हें एन्टिसेप्‍टिक साबुन से रोज एक बार जरुर नहलाया जाए। अगर सफाई का ध्‍यान नहीं दिया गया तो बाद में यही पसीना फंगल इन्‍फेक्‍शन, रैश और एलर्जी का रूप ले लेगी।

घर पर बच्चों के बिस्तर आदि की साफ-सफाई का भी ध्यान रखें और उन्हें बाहर की हवा लगवाते रहें। बच्चा जहां सोता है वह जगह सूखी और साफ होनी चाहिए। अगर आप का बच्चा बहुत छोटा है और रात में नींद में पेशाब करता है तो बेहतर होगा कि इन दिनों उसे डायपर बांध कर सुलाएं।

2. बच्चों को पूरे कपड़े पहनाएं
बारिश के मौसम में कीड़े-मकाड़े काफी अधिक बढ़ जाते है, ​इसलिए बच्चों को सोते समय पूरा ढ़ककर रखे। इसके अलावा दिन में उसे शार्ट कपड़े न पहनाए। चूंकि इस मौसम में पसीना ज्यादा आता है इसलिए उन्हें सूती कपड़े पहनाए जिन से उन की त्वचा को हवा लग सके। बच्चे घर से बाहर जाएं तो उन्हें जूते भी पहनाएं ताकि कीड़े-मकौड़ों के अलावा घास व पौधों से निकलने वाले रसायनों से उन्हें बचाया जा सके। यह भी ध्यान रखें कि बच्चों के कपड़े और जूते पूरी तरह से सूखे हों।

3. आहार- मौनसून में ज्‍यादातर बीमारियां केवल पानी से ही होती हैं। इस समय अपने बच्‍चे का खाने-पीने के मामले में बहुत ख्‍याल रखें नहीं तो उसे पेट संबंधी बीमारी हो सकती है। इस मौसम बच्चे को उबला पानी ही पिलाएं और उसके दूध पीने की बोतल को गर्म पानी से धोकर रखें। 

4. मच्‍छरों से बचाएं- शिशु को खतरा पहुंचाने वाले मच्‍छरों से बचाए क्‍योंकि यह अपने साथ कई बीमारियां ले कर आते हैं। बच्‍चे के पैर और हाथ पूरी तरह से कपड़े से ढंक दें तथा रात में सुलाते वक्‍त मच्‍छरदानी में ही सुलाएं। बच्‍चे के कमरे में कभी भी कोई हानिकारक कीटनाषक ना छिड़के। 

5. सामान्य देखभाल- इन दिनों आपको हमेशा ख्‍याल रखना होगा कि कभी भी आपका बच्‍चा गीली नैपी में ना रहे वरना उसे रैश की समस्‍या हो जाएगी। हफ्ते में एक बार उसमें नाखूनों को जरुर काटें। अपने घर को साफ-सुथरा और मच्‍छरों से मुक्‍त रखें।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned