scriptBooks not yet distributed in schools | आखिर कब बंटेंगी किताबें, ऑनलाइन पढ़ाई में किताबें खा रही धूल | Patrika News

आखिर कब बंटेंगी किताबें, ऑनलाइन पढ़ाई में किताबें खा रही धूल

जिले के डेढ़ लाख विद्यार्थियों को बंटना हैं आठ लाख से अधिक पुस्तकें, शालाओं में पहुंचा दी, विद्यार्थियों तक नहीं पहुंंची, 15 प्रतिशत किताबें आना शेष

बड़वानी

Updated: August 04, 2021 02:04:05 pm

बड़वानी. कोरोना के चलते बच्चों के स्कूल खुलने की उम्मीद नहीं दिख रही है। ऐसे में स्कूल शिक्षा विभाग ने ऑनलाइन पढ़ाई शुरु करवा दी है। वहीं बच्चों को नि:शुल्क पुस्तकों का वितरण होगा। ऑनलाइन पढ़ाई के चलते फिलहाल किताबें स्कूलों में धूल खा रही है। इसका कारण विद्यार्थियों को बांटने के लिए आदेश नहीं आना है।
उल्लेखनीय है कि पिछले वर्ष से अब तक कक्षा एक से आठवीं तक स्कूलों का संचालन ठप्प है। हालांकि कक्षा नौ से 12वीं तक की कक्षाओं को सप्ताह में एक-दो दिन शुरु करने की पहल की गई है। वहीं छोटे बच्चों की पढ़ाई ऑनलाइन ही होना तय है। बरहाल पढ़ाई के लिए पुस्तक निगम से जिले के एक लाख 52 हजार विद्यार्थियों के लिए आठ लाख 87 हजार 964 पुस्तकें बंटना है। इसमें से अब तक जिले में सात लाख 94 हजार 255 पुस्तकें पहुंच चुकी है। डीपीसी कार्यालय के माध्यम से यह पुस्तकें शालाओं में पहुंचा दी गई है। लेकिन विद्यार्थियों को वितरण के अब तक कोई आदेश नहीं आए है। ऐसे में यह पुस्तकें स्कूलों में धूल खा रही है।
एप्प पर ऑनलाइन एंट्री दर्ज होगी
कक्षा एक से आठ तक के विद्यार्थियों को शासन निशुल्क पुस्तकें उपलब्ध करवाता है। वर्तमान में विद्यार्थियों की संख्या के मान से जितनी पुस्तकों की आवश्यकता हैं, उसमें से 15 प्रतिशत पुस्तकें अब तक नहीं आई है। विभाग के अनुसार इस बार बच्चों को पुस्तक वितरण की प्रक्रिया ऑनलाइन होगी।
तीसरी लहर के मद्देनजर स्कूल खुलना संभव नहीं
पिछले वर्ष मार्च माह में कोरोना संक्रमण की शुरुआत के बाद से छोटे विद्यार्थियों की पढ़ाई पर खासा असर पड़ा है। पहली बार के बाद डिजिलेप एप्प से औपचारिक रुप से ऑनलाइन पढ़ाई करवाई गई, लेकिन यह नाकाफी ही साबित हुई है। इस बार दूसरी लहर में कोरोना संक्रमण का प्रभाव अधिक रहा। इससे बोर्ड परीक्षाएं रद करना पड़ी। हालांकि इसका प्रभाव कम होने से जुलाई में स्कूलों का संचालन शुरु होने की उम्मीदें थी, लेकिन वर्तमान में संभावित तीसरी लहर को देखते हुए स्कूलें खुलना संभव नहीं दिख रही है।
फेक्ट फाइल
जिले में कुल विद्यार्थी : 1.52 लाख
अब तक पुस्तकें आईं : 794255
पुस्तकें आना बाकी : 93709
संकुलवार स्थिति
संकुल- पुस्तक
बड़वानी : 105799
निवाली : 78917
पानसेमल : 97252
पाटी : 120056
राजपुर : 131641
सेंधवा : 192360
ठीकरी : 67983
अभी वितरण के निर्देश नहीं आए
जिले के डेढ़ लाख से अधिक विद्यार्थियों के लिए आठ लाख से अधिक पुस्तकें वितरित होना है। अब तक 85 प्रतिशत पुस्तकें प्राप्त हो चुकी हैं, जो शालाओं में पहुंचा भी दी है। शेष 15 प्रतिशत पुस्तकें निगम से आना बाकी है। पुस्तक वितरण प्रक्रिया एप्प के माध्यम से ऑनलाइन रहेगी। अभी विद्यार्थियों को वितरण के कोई आदेश नहीं आए है।
-अशरफ खान, डीपीसी कार्यालय

Books not yet distributed in schools
Books not yet distributed in schools

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Video Weather News: कल से प्रदेश में पूरी तरह से सक्रिय होगा पश्चिमी विक्षोभ, होगी बारिशVIDEO: राजस्थान में 24 घंटे के भीतर बारिश का दौर शुरू, शनिवार को 16 जिलों में बारिश, 5 में ओलावृष्टिदिल्ली-एनसीआर में बनेंगे छह नए मेट्रो कॉरिडोर, जानिए पूरी प्लानिंगश्री गणेश से जुड़ा उपाय : जो बनाता है धन लाभ का योग! बस ये एक कार्य करेगा आपकी रुकावटें दूर और दिलाएगा सफलता!पाकिस्तान से राजस्थान में हो रहा गंदा धंधाइन 4 राशि वाले लड़कों की सबसे ज्यादा दीवानी होती हैं लड़कियां, पत्नी के दिल पर करते हैं राजहार्दिक पांड्या ने चुनी ऑलटाइम IPL XI, रोहित शर्मा की जगह इसे बनाया कप्तानName Astrology: अपने लव पार्टनर के लिए बेहद लकी मानी जाती हैं इन नाम वाली लड़कियां
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.