कोरोना संक्रमण से हारे अधिकारी-कर्मचारी, अनुकंपा नियुक्ति में देरी, मृतक के परिजन चिंतित

कोरोना संक्रमण के भेंट चढ़े 95 सरकारी अधिकारी-कर्मचारी, सबसे अधिक 72 शिक्षक हारे कोरोना से जंग, हर स्तर पर में कर रहा हूं मॉनिटरिंग

By: vishal yadav

Updated: 10 Jun 2021, 12:00 PM IST

सेंधवा/बड़वानी. बड़वानी जिले में सैकड़ों कर्मचारी-अधिकारी कोरोना के खिलाफ जंग में मैदान में डटे रहे। संक्रमण की इस लड़ाई में कई लोग अपना कर्तव्य निभाते हुए कोरोना वायरस से जिंदगी की जंग हार चुके है। कई परिवार बिखर चुके हैं। किसी ने अपने पति को खोया तो किसी की पत्नी साथ छोड़ गई है। कई बच्चे अपने परिजनों को याद कर रहे है। इन सभी वेदनाओं के अब मृतक के परिजन परिवार भविष्य को लेकर चिंतित है।
सरकारी योजनाओं सहित कई तरह की सहूलियतों की घोषणा तो की जाए चुकी है, लेकिन इन सभी के बीच मृतक के परिजनों को सूचनाओं का अभाव सता रहा है। सूचनाओं और नियमों की जानकारी के बीच खाई दिख रही है। इस कमी के चलते शासन की योजनाओं का फायदा जो आसानी से मिलना चाहिए वह परिजनों की परेशानी को बढ़ा रहा है। हालांकि कलेक्टर ने इस गंभीर विषय पर अधिकारियों को सहयोगी होने और मानवीयता से काम करने की नसीहत दी है।
95 कर्मचारियों में सबसे अधिक 72 शिक्षक हुए प्रभावित
बड़वानी जिले में कोरोना की दूसरी लहर कितनी भयावह थी ये सभी ने देखा है। विपरीत समय में कई अधिकारी-कर्मचारी कोरोना संक्रमण का शिकार हुए है। कई संक्रमित तो ठीक हो गए, लेकिन जिले में 95 कर्मचारी ऐसे भी थे, जो कोरोना से जंग हार गए। कई लोगों की संदिग्ध मौत हुई है, वे इस आंकड़ें में शामिल नहीं है। सूत्रों के अनुसार जिले में कोरोना से कुल 95 अधिकारी-कर्मचारियों की मौत हुई है। जिसमें कलेक्टर कार्यालय के तहत जनजातीय कार्य विभाग के सबसे अधिक कर्मचारियों की मौत हुई है। जिले के 7 विकासखंड में कुल 72 शिक्षकों या शिक्षा विभाग के कर्मचारियों की मृत्यु कोरोना से हुई है। कर्मचारियों में महिलाऐं भी शामिल है।
अनुकंपा और अनुदान राशि के नियमों में उलझन बनी परेशानी
कोरोना संक्रमण से अपनी जान गवाने वाले लोगों को राज्य सरकार द्वारा कई तरह से राहत देने का प्रयास किया है। खास कर सरकारी कर्मचारियों को अनुकंपा नियुक्ति, अनुग्रह और अनुदान राशि दिए जाने के वादे किए गए है। अब जब मृतक के परिजन सरकारी योजनाओं के लिए अपना दावा प्रस्तुत करना चाहते है, तो नियमों और सूचनाओं की कमी रोड़ा बन रही है। अनुकंपा नियुक्ति, अनुग्रह राशि सहित मुख्य मंत्री अनुदान राशि योजना के प्रचार-प्रसार की कमी दिख रही है। लोगों को दो अलग-अलग योजनाओं को समझने में परेशानी हो रही है।
इन विभागों में इतने कर्मचारी हुए कोरोना से प्रभावित
कार्यालय कलेक्टर जनजातीय कार्य विभाग बड़वानी 72
कार्यालय प्राचार्य शहीद भीमा नायक शासकीय पीजी कॉलेज बड़वानी 1
कार्यालय कृषि उपज मंडी समिति बड़वानी 3
कार्यालय कार्यपालन यंत्री लोक निर्माण विभाग 2
कार्यालय अधीक्षक भू-अभिलेख 2
कार्यालय उप संचालक किसान कल्याण तथा विकास 5
उप संचालक पशुपालन एवं डेयरी विभाग 1
कार्यालय जिला कोषालय अधिकारी 1
कार्यालय जिला शिक्षा अधिकारी 1
कार्यालय सहायक आयुक्त सहकारिता 5
महिला एवं बाल विकास विभाग 1
कार्यपालन यंत्री जल संसाधन विभाग 1
वर्जन...
जिन कर्मचारियों की मृत्यु कोरोना संक्रमण से हुई है, उसमें सरकारी योजनाओं और घोषणाओं का लाभ दिलाए जाने के लिए सभी अधिकारियों को निर्देश देंगे कि परिजनों को कोई परेशानी नहीं आए। अनुकंपा, अनुग्रह राशि सहित अनुदान योजना का फायदा पात्र हितग्राहियों को जल्द मिले प्रयास करेंगे। मैं स्वयं मॉनिटरिंग करुंगा।
-शिवराजसिंह वर्मा, कलेक्टर, बड़वानी

Show More
vishal yadav
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned