Dr. Bhimrao Ambedkar Jayanti : युवाओं ने श्रमदान कर बोरियों से बना दिया बंधान

भारतीय संविधान के जनक भारत रत्न बाबा साहेब की जयंती पर किया बोरीबंधान

By: vishal yadav

Published: 14 Apr 2021, 07:49 PM IST

बड़वानी/राजपुर. नेहरू युवा केंद्र के जिला अधिकारी नितेश कुमार और लेखाकार जितेंद्र सैनी के निर्देशानुसार राजपुर ब्लॉक के गांव दानोद में भारतीय संविधान के जनक, भारत रत्न बाबासाहेब डॉ. भीमराव रामजी अंबेडकर की 130वीं जयंती अनौखे तरीके से मनाई।
जल शक्ति मंत्रालय की ओर से संचालित कैच द रैन-2 परियोजना के तहत तहसील राजपुर ग्राम दानोद के मोरी फल्या में नाले का बहता हुआ पानी, घटते जल स्तर को बढ़ाने के लिए 20 युवाओं ने श्रमदान करके बोरी बंधान का निर्माण किया। इस प्रयास से इससे आसपास के कई गांवों को जल स्तर का लाभ होगा। इस दौरान लोगों ने जल संरक्षण का संकल्प भी लिया। राष्ट्रीय युवा स्वयंसेवक दिनेश मोरे के नेतृत्व में बोरी बंधान का कार्य किया। उन्होंने बताया कि जल के बिना जीवन संभव नहीं है यदि हम पानी की बर्बादी नहीं रोक सके तो आने वाले वर्षों में पानी एक ज्वलन्त समस्या होगी।

बाबा साहेब के व्यक्तित्व और योगदान पर परिचर्चा
बड़वानी। पीजी कॉलेज के स्वामी विवेकानंद कॅरियर मार्गदर्शन प्रकोष्ठ द्वारा बुधवार बाबा साहेब भीमराव आ बेडकर की 130वीं जयंती के अवसर पर 'डॉ. अंबेडकर- व्यक्तित्व एवं योगदानÓ विषय पर पीपीटी से गुगलमीट के जरिये ऑनलाइन परिचर्चा की गई। परिचर्चा के लिए पीपीटी निर्माण के लिए सामग्री के संचयन और अनुसंधान में पुस्तकालय विशेषज्ञ सदस्या प्रीति गुलवानिया एवं अंतिम मौर्य ने सहयोग दिया। डॉ. मधुसूदन चैबे ने परिचर्चा में कहा कि बाबा साहेब मानते थे कि दिमाग का विकास मानव अस्तित्व का परम लक्ष्य होना चाहिए। वे यह भी कहते थे कि जीवन लंबा होने की अपेक्षा महान होना चाहिए। शासकीय महाविद्यालय पाटी के इतिहास विभाग के अध्यक्ष्य डॉ. अनिल पाटीदार ने भी विचार व्यक्त किए। आभार कोमल सोनगड़े ने माना। सहयोग प्रीति गुलवानिया, अंकित काग, राहुल मालवीया, रवीना मालवीया, जितेंद्र चैहान, रेहदिया अलावे, संजय सोलंकी ने दिया।

vishal yadav
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned