जानिएं कहां... तेज आंधी के साथ हुई बारिश ने मचाई तबाही, कई गांव का तहसील मुख्यालय से कटा संपर्क

बुधवार देर शाम को तेज हवा आंधी के साथ हुई बारिश, ग्रामीण क्षेत्रों में मची भारी तबाही, हुआ नुकसान

By: vishal yadav

Published: 10 Jun 2021, 08:12 PM IST

बड़वानी/खेतिया/पानसेमल. खेतिया सहित ग्रामीण क्षेत्रों में बुधवार देर शाम को तेज हवा आंधी के साथ जोरदार बारिश हुई। इस दौरान ग्रामीण क्षेत्रों में भारी तबाही हुई हैं। कई गांवों में गरीबों के आशियाने उजड़ गए हैं। कुछ पशु बह गए हैं। गुमटियों को नुकसान पहुंचा है। राहत की बात ये रही है कि कोई भी जनहानि नहीं हुई है। सूचना मिलने पर अतिरिक्त तहसीलदार हुकुमसिंह निंगवाल और प्रशासन के अधिकारी गांवों की ओर निकल पड़े है। पीडि़तों के पंचनामा बनाए जा रहे हैं। क्षेत्रीय विधायक चंद्रभागा किराड़े भी ग्रामीण क्षेत्रों में पहुंचकर हुए नुकसान का जायजा ले रही है।
ग्राम मलगांव में वनवासियों के मकानों की छत उड़ गई हैं। छत टूटने से कुछ को हल्की चोंट है। वहीं तेज बारिश से घर में रखा खाने का सामान पूरी तरह से भीग गया है। संतोष ने बताया कि तेज हवा से छत उड़ गई। तेज बारिश से खाने का सामान भीग गया। रातभर से घरों के बाहर बैठे है। भातकी गांव के निकट बनी पुलिया के दोनों ओर से कट जाने से आवागमन बंद हो गया है। खेतिया-पाटी निर्माणाधीन रोड पर बनी पुलिया बुरी तरीके से क्षति ग्रस्त हो गई है। इसके चलते निर्माण सामग्री के वाहन दोनों और खड़े रह गए हैं। धावड़ी से बड़वानी जाने वाले बस भी वही खड़ी रह गई। ग्रामीण सुभाष सोनिस ने बताया कि रोड की पुलिया कट गई। रोड बंद हो गया है।
विधायक निधि का टैंकर नाले में बहा
मलफा गांव में विधायक निधि द्वारा प्रदत्त टैंकर नाले में कुछ दूर बह गया है। सर्वाधिक नुकसानी का नजारा मोरतलाई गांव में है। जहां गांव में बनी विसंगति पूर्ण पुलिया के चलते लोगों के घरों व गांव में पानी भर गया। लोगों के घरों के सामने बंधे हुए जानवर बह गए। मोरतलाई में 21 मकान दुकान का नुकसान हुआ है। जहां 6 बकरी, 2 गाय, 2 बछड़े व मूर्गे-मूर्गी भी मृत हुए है। वहीं सार्वजनिक उचित मूल्य की राशन दुकान में पानी भर गया, जिससे सारा अनाज भीग गया है। सारे गांव में कीचड़ ही कीचड़ है। वहीं बिजली कंपनी का ट्रांसफॉर्मर नीचे गिर गया। गांव में खड़ा एक टैंकर पुलिया के नीचे आकर फंस गया है।
गांवों में पहुंचे अधिकारी
विधायक ने बताया कि जानकारी में आते ही उन्होंने प्रशासन को सक्रिय किया। गांवों में अधिकारी पहुंच गए है। हम भी नुकसान का जायजा ले रहे है। जिस किसी का भी नुकसान हुआ है, उसे मुआवजा मिले यही कोशिश है। मोरतलाई के ग्रामीणों ने तत्काल राहत की मांग भी विधायक से की है। ग्रामीणों ने बताया कि गांव में देर रात तेज हवा के बाद बारिश से गांव व घरों में पानी भर गया। गांव में नदी किनारे पुलिया बनने से ऐसा हुआ। पानी भरने से घरों के आगे बंधे पशु बह गए। घरों में मंदिर परिसर, गांव में कीचड़ ही कीचड़ हो गया। बिजली बंद है। बहुत अधिक नुकसान हुआ है।

जलगोन में बारिश से लाखों रुपए का हुआ नुकसान
पानसेमल. जलगोन गांव में बुधवार रात करीब 8 बजे बाद हुई भारी बारिश से भारी तबाही हुई है। नगर के समीपस्थ जलगोन में बन रहे पुलिया की स्लैब एक दिन पहले ही भरी गई थी, जो बाढ़ के पानी से धंस गई है। साथ ही बाढ़ के पानी में ठेकेदार का सामान जिसमें स्टील (लौहा) पाइप आदि भी बाढ़ में बह गया है। साइट के पीएम मुरली मोहन ने बताया कि भारी बारिश से पुलिया की स्लैब धस गई है। साथ ही डायवर्सन रोड भी पूरी तरह से क्षतिग्रस्त हो गया है। इस आपदा से करीब 15 से 20 लाख रुपए का नुकसान होने की आशंका है।
22 गांव का तहसील मुख्यालय से कटा संपर्क
डायवर्सन मार्ग बहने से जलगोन सहित करीब 8 पंचायतों और करीब 22 गांव का तहसील मुख्यालय से संपर्क कट गया है। जिसे स्थानीय निवासियों द्वारा ठेकेदार को डायवर्सन मार्ग शीघ्र दुरस्त करने को कहा गया है। स्लैब के धसने से उसे पूरी तरह से नवीन पुन: भरा जाएगा। डायवर्शन का कार्य अभी तुरंत चालू कर दिया गया है। जलगोन के किसान नरेंद्र जगताप ने बताया कि मेरे खेत में फल्ली की उपज रखी हुई थी, जो बारिश के पानी में बह गई है। साथ ही स्कूटी भी गई थी, जो ढूंढने पर रेत में दबी हुई मिली। कुल मिलाकर डेढ़ लाख रुपए का नुकसान नरेंद्र जगताप को होना बताया गया है। साइट पर तहसीलदार सहित सहित कंपनी के प्रतिनिधि मुआयना करने पहुंचे थे।

vishal yadav
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned