scriptSupport price is not getting the support of farmers, so far only 4 slo | समर्थन मूल्य को नहीं मिल रहा किसानों का समर्थन, अब तक सिर्फ 4 स्लाट बुक | Patrika News

समर्थन मूल्य को नहीं मिल रहा किसानों का समर्थन, अब तक सिर्फ 4 स्लाट बुक

बाजार भाव अधिक होने से एक दशक बाद सरकारी गोदामों के खाली रहने का अनुमान

बड़वानी

Published: April 01, 2022 01:50:49 am

बड़वानी. रबी सीजन की मु य गेहूं-चना की खेतों से कटाई जोरों पर है। वहीं गेहूं-चना खरीदी के लिए शासन के समर्थन मूल्य को किसानों का समर्थन नहीं मिल रहा है। इसके चलते खरीदी शुरु होने के बावजूद केंद्रों पर सन्नाटा पसरा है। मैसेज की समस्या दूर करने इस बार शासन ने नई तकनीक अपनाते हुए ङ्क्षलक पर स्लाट बुक करने की सुविधा शुरु करई हैं, लेकिन इसकी भी दुविधा बनी हुई है। जिले में अब तक मात्र चार किसानो ने स्लाट बुक किए हैं।
समर्थन मूल्य को नहीं मिल रहा किसानों का समर्थन, अब तक सिर्फ 4 स्लाट बुक
समर्थन मूल्य को नहीं मिल रहा किसानों का समर्थन, अब तक सिर्फ 4 स्लाट बुक
स्लाट बुक करने वाले किसानों में एक ने पांच अप्रैल, तो तीन किसानों ने 11 अप्रैल को गेहूं लाने की तिथि बुक की है। हालांकि समर्थन के मुकाबले बाजार मूल्य अधिक होने से स्लाट बुक करने वाले किसान भी शासन को गेहूं बेचेंगे, इस पर संशय बना हुआ है। वहीं देश की सरकार द्वारा विदेशों में गेहूं निर्यात करने की चर्चा किसानों में बनी हुई है। इससे किसानों को गेहूं के बाजार भाव और बढऩे की उम्मीद है। ऐसे में किसान शासन को गेहूं बेचने के मुड में नहीं दिख रहे हैं। इस बार बीते वर्ष के मुकाबले गेहूं का रकबा बढ़ा है। बावजूद समर्थन मूल्य पर गेहूं विक्रय के लिए 50 फीसदी किसानों ने ही पंजीयन करवाया है। उसमें से भी अब तक मात्र चार किसानों ने स्लाट बुक किए है। अब तक एक भी केंद्र पर गेहूं का एक दाना नहीं पहुंचा।
बाजार भाव अधिक: वर्तमान में बाजार में गेहूं का भाव 2200 से 2300 रुपए क्ंिवटल हैं। शासन के समर्थन मूल्य 2015 रुपए की ओर किसान कोई रुचि नहीं ले रहे हैं। मार्च माह से गेहूं कटाई शुरु हो गई है और बाजार में खरीदी-बिक्री हो रही हैं, लेकिन समर्थन मूल्य पर खरीदी को लेकर कोई हलचल नहीं दिख रही है। इससे अनुमान हैं कि एक-डेढ़ दशक के बाद शासन के गोदाम खाली रहने का अनुमान है।
लागत अनुसार 2600 रुपए क्ंिवटल मिले भाव
भारतीय किसान संघ के जिलाध्यक्ष मंशाराम पंचोले ने बताया कि देश की सरकार द्वारा कुछ देशों में गेहूं निर्यात किया है। आगे रुस को भी गेहूं भेजा जाने की बात सामने आ रही है। ऐसे में बाजार में गेहूं का मूल्य 25 से 30 रुपए किलो तक पहुंचने की आशंका है। ऐसे में शासन के समर्थन मूल्य 2015 रुपए में किसान गेहूं बेचने को राजी नहीं है। वर्तमान में इसके विरुद्ध बाजार भाव भी 22 से 23 रुपए प्रतिकिलो है। पंचोले ने बताया कि लागत अनुसार किसानों को गेहूं का लाभकारी मूल्य 2600 रुपए क्विटल तक मिलना चाहिए, लेकिन शासन का मूल्य इससे काफी कम है। वेयर हाउस के लोकेंद्रङ्क्षसह झाला ने बताया कि इस बार किसानों के पंजीयन कम हुए है। अब तक चार किसानों ने स्लाट बुक किए। वहीं बड़वानी व दवाना सोसायटी में हड़ताल का असर बना हुआ है।
1.20 लाख का लक्ष्य
वि पणन संघ के अनुसार इस बार जिले में गेहूं विक्रय के लिए कुल 4540 किसानों ने पंजीयन करवाय है। पंजीकृत किसानों का कुल रकबा 8378.173 हेक्टेयर है। इसके विरुद्ध शासन ने जिले में खरीदी का लक्ष्य 1.20 लाख क्ंविटल निर्धारित किया है।
308.50 क्विटल चना खरीद हुई
वहीं समर्थन मूल्य पर चना खरीदी धीरे-धीरे र तार पकड़ रही है। गुरुवार को चार किसानों से 121 क्ंविटल चना खरीदा गया। कुल 1485 किसानों ने पंजीयन करवाया है। 2434.472 हेक्टेयर ङ्क्षसचित रकबे के अनुपात 15 हजार क्ंिवटल खरीदी का लक्ष्य निर्धारित किया गया है। इसके विरुद्ध अब तक 412 किसानों को मैसेज मिल चुके है। तीन केंद्रों पर 17 किसानों से अब तक 308.50 क्ंविटल चना की खरीदी हुई है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

सीएम Yogi का बड़ा ऐलान, हर परिवार के एक सदस्य को मिलेगी सरकारी नौकरीचंडीमंदिर वेस्टर्न कमांड लाए गए श्योक नदी हादसे में बचे 19 सैनिकआय से अधिक संपत्ति मामले में हरियाणा के पूर्व CM ओमप्रकाश चौटाला को 4 साल की जेल, 50 लाख रुपए जुर्माना31 मई को सत्ता के 8 साल पूरा होने पर पीएम मोदी शिमला में करेंगे रोड शो, किसानों को करेंगे संबोधितराहुल गांधी ने बीजेपी पर साधा निशाना, कहा - 'नेहरू ने लोकतंत्र की जड़ों को किया मजबूत, 8 वर्षों में भाजपा ने किया कमजोर'Renault Kiger: फैमिली के लिए बेस्ट है ये किफायती सब-कॉम्पैक्ट SUV, कम दाम में बेहतर सेफ़्टी और महज 40 पैसे/Km का मेंटनेंस खर्चIPL 2022, RR vs RCB Qualifier 2: राजस्थान ने बैंगलोर को 7 विकेट से हराया, दूसरी बार IPL फाइनल में बनाई जगहपूर्व विधायक पीसी जार्ज को बड़ी राहत, हेट स्पीच के मामले में केरल हाईकोर्ट ने इस शर्त पर दी जमानत
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.