डीजीपी ओपी सिंह ने कहा- यूपी पुलिस में 2019 के अंत तक होंगी 1.10 लाख भर्तियां, अधिकारियों के ट्रांसफर को लेकर कही बड़ी बात

डीजीपी ओपी सिंह ने कहा- यूपी पुलिस में 2019 के अंत तक होंगी 1.10 लाख भर्तियां, अधिकारियों के ट्रांसफर को लेकर कही बड़ी बात

sharad asthana | Publish: Jun, 18 2019 03:24:29 PM (IST) | Updated: Jun, 18 2019 03:39:42 PM (IST) Bagpat, Bagpat, Uttar Pradesh, India

डीजीपी की प्रेस कांफ्रेंस की खास बातें-

  • दस मिनट में पहुंचेगी डायल 100
  • एक साल में 13 पुलिसवाले किए गए बर्खास्त
  • जल्द ही लागू होगी ई-कोर्ट व्यवस्था
  • जोन में सीनियर महिला पुलिस अफसर की होगी तैनाती

बागपत। पुलिस महानिदेशक (Director General of Police) ओपी सिंह सोमवार को उत्‍तर प्रदेश के बागपत में पहुंचे। यहां उन्‍होंने अपराधों पर अंकुश, न्याय दिलाने में अहम भूमिका, सुरक्षा और पुलिस के प्रति लोगों में विश्वास की बात कही। इसके साथ ही उन्होंने शामली में हुई पत्रकार के साथ मारपीट में पीड़ि‍त को न्याय दिलाने का भी भरोसा दिलाया।

52 हजार पुलिस कांस्टेबल की होगी भर्ती

उनका कहना है कि जल्द ही 52 हजार पुलिस कांस्टेबल की भर्ती होगी। वर्ष 2019 के अंत तक कुल 1.10 लाख भर्तियां होनी हैं। प्रदेश में सुल्तानपुर व जालौन में ट्रेनिग सेंटर खोले जा रहे हैं। अलीगढ़ जैसी घटनाओं को रोकने के लिए उन्‍होंने कहा कि पुलिस रणनीति बना रही है। कांवड़ मेला सकुशल संपन्‍न कराना व अपराध कंट्रोल करना उनकी चुनौती है। प्रदेश में बेहतर कानून-व्यवस्था ही उनका लक्ष्य है।

यह भी पढ़ें: वीर बहादुर ने देखा था एक सपना, तीन दशक बाद योगी आदित्यनाथ की कैबिनेट ने पूरा किया

फायर स्टेशन का किया उद्घाटन

बागपत में सोमवार को सबसे पहले डीजीपी खेकड़ा स्थित फायर स्टेशन पहुंचे। वहां उन्‍होंने फायर स्टेशन का उद्घाटन किया। इस फायर स्टेशन में 26 आवास बने हैं। यहां 13 कर्मचारी, 9 सिपाही, एक हवलदार, एक ड्राइवर, एक एफएसएसआई तैनात रहेंगे। यह फायर स्टेशन 282.52 लाख रुपये की लागत से बना है। इसका निर्माण यूपीसीएल मेरठ की कंपनी ने किया है। यहां दो अग्निशमन गाड़ि‍यां व एक अग्निशमन मोटर साइकल रखी गई हैं। डीजीपी ने फायर स्टेशन पर नीम का पौधा भी लगाया।

यह भी पढ़ें: युवक ने किया चचेरी बहन से रेप का प्रयास, फिर थाने में पहुंचकर किया यह काम

कहा- वारदात में आई कमी

डीजीपी ने पुलिस लाइन में पुलिस अधिकारियों की एक बैठक भी ली। इसके बाद उन्‍होंने प्रेसवार्ता में कहा कि पिछले वर्षों की तुलना में 2018 में हत्या, डकैती, लूट, रोड-होल्डअप आदि वारदातों में तेजी से गिरावट आई है। उनका कहना है क‍ि बागपत छोटा जरूर है, लेकिन अपराध की नजर में महत्वपूर्ण है। यहां पर फास्ट क्राइम की घटनाएं अधिक होती हैं इसलिए यहां पर पुलिस व्यवस्था जरूरी है।

यह भी पढ़ें: Video: सिगरेट एजेंसी संचालक से बाइक सवार बदमाशों ने दिनदहाड़े एेसे लूटे 11.56 लाख, मचा हड़कंप

पुलिस स्थानांतरण पर लगाम से बढ़ा है मनोबल

ओपी सिंह ने कहा कि पहले के मुकाबले बीते वर्ष कम पुलिस अधिकारियों के ट्रांसफर हुए हैं। इससे पुलिस का मनोबल बढ़ा है। अब लूट, चोरी आदि की घटनाओं में पीड़ितों को थाने आने की जरूरी नहीं है। यूपी कॉप मोबाइल ऐप पर घर बैठे एफआईआर दर्ज हो रही है। अभी तक 2000 मुकदमे दर्ज हुए हैं। बागपत में भी इलाहाबाद, मुरादाबाद, लखनऊ आदि जनपदों की तर्ज पर ऑनलाइन केस दर्ज हो रहे हैं।

यह भी पढ़ें: पीडब्ल्यूडी के कर्मचारी ने किया नाबालिग से रेप का प्रयास, देखें वीडियो

ई-कोर्ट व्यवस्था लागू

उन्होंने कहा कि जल्द ही ई-कोर्ट व्यवस्था लागू होगी। डायल-100 को हॉस्पिटल, फायर बिग्रेड आदि से जोड़ा जाएगा, ताकि जरूरत पड़ने पर अलग-अलग कॉल न करनी पड़े। पुलिस विभाग में स्टाफ की कमी को पूरा किया जा रहा है। गाजियाबाद की तर्ज पर नोएडा में भी डायल-100 पर एफआईआर की सुविधा होगी। पहली बार अर्धसैनिक बलों के ट्रेनिंग सेंटरों पर चयनित कांस्टेबल पद के अभ्यर्थियों का प्रशिक्षण चल रहा है।

महिला अपराध रोकना प्राथमिकता

डीजीपी ने बताया कि पहले के मुकाबले में दुष्कर्म, छेड़छाड़, चेन स्नैचिंग की घटनाओं में कमी आई है। इन घटनाओं पर और कंट्रोल करने के लिए प्रभावी कार्रवाई की जाएगी। जोन में सीनियर महिला पुलिस अफसर की तैनाती होगी और एंटी रोमियो स्क्वायड को सक्रिय किया जाएगा।

यह भी पढ़ें: शिकायतकर्ता को अपनी गाड़ी में लेकर थाने पहुंच गया ये तेज तर्रार IPS, तीन पर गिरी गाज

10 मिनट के अंदर घटनास्थल पर पहुुंचेगी यूपी 100

डीजीपी ने बताया कि यूपी-100 के शुभारंभ के समय सूचना के 23 मिनट के अंदर घटनास्थल पर पहुंचने का समय था, जो घटकर 14-15 मिनट हो गया है। आने वाले समय में 10 मिनट के अंदर यूपी-100 पहुंचेगी।

मेरठ जोन टॉप पर

डीजीपी के मुताबिक, निरोधात्मक कार्रवाई में मेरठ जोन टॉप पर रहा। एक साल में करीब 11 हजार अपराधियों को गिरफ्तार किया गया है। 197-198 करोड़ रुपये की संपत्ति जब्त की गई है। आठ अपराधियों पर रासुका, 1680 अपराधियों पर गैंगस्टर व 17000 लोगों पर गुंडा एक्ट की कार्रवाई की गई है।

यह भी पढ़ें: अवैध शराब बेचने पर बिफरी महिलाओं ने कोतवाली में किया जमकर हंगामा, कर दिया यह बड़ा ऐलान

पुलिसकर्मियों पर भी हुई कारवाई

डीजीपी ने कहा कि सुरक्षा के रखवाले भी यदि अपराध करेंगे तो उनके खिलाफ कार्रवाई होगी। एक साल में 13 पुलिसवाले बर्खास्त किए गए हैं। मुठभेड़ के सवाल पर डीजीपी का कहना है कि बदमाश को मुठभेड़ में गोली मारकर मारना या घायल करना पुलिस का उद्देश्य नहीं है। जब कोई अपराधी पुलिस की जान लेने की कोशिश करता है, उस समय आत्मरक्षा में गोली चलाई जाती है। मानवाधिकार आयोग के आदेशों का पालन किया जाता है। मुठभेड़ करना हमारा उद्धेश्य नहीं रहा है, अपराध रोकना हमारी प्राथमिकता है।

UP News से जुड़ी Hindi News के अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Uttar Pradesh Facebook पर Like करें, Follow करें Twitter पर

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned