सिपाही के एक थप्पड़ ने करा दिया बवाल, युवक ने की आत्महत्या, 11 पुलिसकर्मियों पर FIR

वृद्ध मां काे बेटे ने पहले वैक्सीन लगाने की बात ही ताे वेक्सीनेशन केंद्र पर कहासुनी हाे गई। पुलिसकर्मी ने युवक काे थप्पड़ मार दिया। इस पर युवक और पुलिसकर्मी में हाथापाई हाे गई। पुलिस ने युवक के खिलाफ मामला दर्ज किया और उसके घर दबिश देते हुए ताेड़फोड़ कर दी। इससे क्षुब्ध होकर युवक ने फांसी लगा ली।

By: shivmani tyagi

Updated: 27 Jul 2021, 05:04 PM IST

पत्रिका न्यूज़ नेटवर्क
बागपत ( Bagpat ) रंछाड़ गांव में रातभर चले हंगामे के बाद एसपी ने बिनौली थाना प्रभारी समेत 11 पुलिसकर्मियों ( up police ) के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराते हुए 10 पुलिसकर्मी लाइन हाजिर कर दिया। आरोपी सभी पुलिसकर्मी रंछाड़ के रहने वाले युवक अक्षय के घर दबिश देने गए थे जहां उन्होंने तोड़फोड़ कर दी थी। इससे क्षुब्ध होकर बीए के छात्र ने खेतों में जाकर फांसी लगा ली थी। इस घटना से गुस्साए परिजनों ने शव नहीं उठने दिया था। रात भर चले हंगामे के बाद एसपी ने अक्षय के परिजनों को आरोपी पुलिसकर्मियों के खिलाफ कार्यवाही का आश्वासन दिया था। इसी क्रम में 11 पुलिसकर्मियों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया गया है।

जानिए पूरा मामला
बागपत के बिनौली थाना क्षेत्र के गांव रणछोड़ में सोमवार को कोविड-19 वैक्सीन सेंटर पर पुलिसकर्मियों और एक युवक के बीच हाथापाई हो गई थी। इसका वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया था, वीडियो वायरल होने के बाद पुलिस ने अक्षय नाम के इस युवक के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया था। मुकदमे में गिरफ्तारी के लिए पुलिस टीम अक्षय के घर दबिश देने गई। आरोप है कि यहां पर पुलिस ने अक्षय के परिवार वालों से अभद्रता की गाली गलौज की और घर में तोड़फोड़ कर दी। इससे अक्षय डर गया और उसने खेत में जाकर फांसी लगा ली।

यह भी पढ़ें: ब्राह्मण सम्मेलन से विरोधी पार्टियों की नींद उड़ गई : मायावती

परिजनों को जब इस बात का पता चला तो उन्होंने शव नहीं उठने दिया और आरोपी सभी पुलिसकर्मियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग करते हुए हंगामा कर दिया। रातभर हंगामा चलता रहा बाद में मंगलवार को अक्षय के पिता श्रीनिवास ने पुलिस को एक तहरीर दी। तहरीर के आधार पर इंस्पेक्टर चंद्र कांत पांडेय समेत एसएसआई उधम सिंह, कॉन्स्टेबल सलीम, अश्वनी और रंगरूट मुरली समेत अन्य के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया। इनके अलावा दस पुलिसकर्मियों को लाइन हाजिर कर दिया गया है। पुलिस कर्मियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई के आश्वासन के बाद ही ग्रामीण और अक्षय के परिजन शांत हुए थे। इस घटना के बाद से पूरे गांव में गुस्सा है जिसको देखते हुए गांव में पुलिस बल तैनात कर दिया गया है।

पुलिस में भर्ती होना चाहता था अक्षय
जिस युवक अक्षय ने पुलिस के खौफ से फांसी लगाकर आत्महत्या की, वह खुद पुलिस में भर्ती होना चाहता था। वह पुलिस भर्ती की तैयारी कर रहा था। इस घटना को लेकर रात भर रणछोड़ गांव में बवाल होता रहा। ग्रामीणों का गुस्सा शांत नहीं हो रहा था और ग्रामीण किसी भी कीमत पर शव नहीं उठने दे रहे थे। किसी तरह रात भर चले घटनाक्रम के बाद सुबह परिजन शांत हो सके और पुलिसकर्मियों के खिलाफ कार्रवाई के आश्वासन के बाद यह मामला ठंडा पड़ सका। रालोद से पूर्व विधायक वीरपाल राठी और अन्य कार्यकर्ता भी मौके पर पहुंच गए थे। देर रात तक सभी लोग पुलिसकर्मियों के खिलाफ एक्शन की मांग कर रहे थे।

एक थप्पड़ ने करा दिया बवाल
बताया जाता है कि वैक्सीनेशन सेंटर पर अक्षय अपनी मां को लेकर पहुंचा था अक्षय ने अपनी मां मधु की उम्र 62 वर्ष बताते हुए पहले टीकाकरण की मांग की थी। आरोप है कि इसी को लेकर सिपाही सलीम ने अक्षय के साथ अभद्रता कर दी और विरोध करने पर हुई कहासुनी के बाद सलीम ने अक्षय को थप्पड़ मार दिया। इस पर दोनों के बीच हाथापाई हो गई जिसका वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुआ। इस घटना के बाद पुलिस ने अक्षय के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया और उसके घर पहुंच गई। घर में तोड़फोड़ करने और अक्षय के घर पर ना मिलने पर उसकी मां मधु समेत आई कमलेश और धर्मवीर आदि को हिरासत में लेने का आरोप है इसी से आहत होकर अक्षय ने फांसी लगाई।

यह भी पढ़ें: छेड़छाड़ का विरोध करने पर महिला की आंखों को गर्म चाकू से दागा, आरोपी गिरफ्तार
यह भी पढ़ें: यूपी में 31 जुलाई तक इतिहास हो जाएंगे 13 विभागों के ये 48 कानून, केंद्र सरकार से मिला था निर्देश

shivmani tyagi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned