scriptKhap Choudhary said on raising the age of marriage girls from 18 to 21 | Central Government Decision : लड़कियों के शादी की उम्र 18 से 21 करने पर खाप चौधरियों ने कही ये बड़ी बात | Patrika News

Central Government Decision : लड़कियों के शादी की उम्र 18 से 21 करने पर खाप चौधरियों ने कही ये बड़ी बात

Central Government Decision : खाप हमेशा से समाज का हिस्सा रही है। पश्चिमी उप्र हो या फिर हरियाणा, राजस्थान, पंजाब के अलावा अन्य राज्य। खाप का प्रतिनिधित्व हर जगह रहता है। खापें अपने निर्णयों को लेकर हमेशा से सुर्खियों में बनी रही हैं। आनर किलिंग और शादी—ब्याह को लेकर खापें अपने फैसले सुनाती रही हैं। जिसको माना भी जाता रहा है। अब एक बार फिर से खाप सुर्खियों में आ गई है।

बागपत

Published: December 18, 2021 03:25:07 pm

पत्रिका न्यूज नेटवर्क
बागपत . Central Government Decision : केंद्र सरकार ने कैबिनेट बैठक में लड़कियों की शादी की उम्र को 18 से बढ़ाकर 21 करने को मंजूरी दे दी है। कैबिनेट की इस मंजूरी के बाद यह विधेयक शीतकालीन सत्र में संसद में रखा जा सकता है। लड़कियों की शादी 18 बर्ष से बढ़ाकर 21 वर्ष करने के फैसले पर खापे भी अपनी राय दे रही हैं।
Central Government Decision : लड़कियों के शादी की उम्र 18 से 21 करने पर खाप चौधरियों ने कही ये बड़ी बात
Central Government Decision : लड़कियों के शादी की उम्र 18 से 21 करने पर खाप चौधरियों ने कही ये बड़ी बात,Central Government Decision : लड़कियों के शादी की उम्र 18 से 21 करने पर खाप चौधरियों ने कही ये बड़ी बात,Central Government Decision : लड़कियों के शादी की उम्र 18 से 21 करने पर खाप चौधरियों ने कही ये बड़ी बात
सरकार के इस फैसले पर खाप चौधरियों ने भी अपनी राय दी है। सर्वखाप के मुखिया सुभाष बालियान ने सरकार के इस फैसले का स्वागत तो किया है। लेकिन उन्होंने यह भी कहा है कि इससे समाज में गलत असर पड़ सकता है। उन्होंने कहा कहा कि सरकार के इस फैसले से बेटियां पढ़लिख सकेंगी वहीं अधिक उम्र में शादी होने पर इसका असर उनके स्वास्थ्य पर भी पड़ सकता है।
गठवाला खाप के मुखिया बाबा राजेंद्र मलिक सरकार के इस फैसले पर अपनी अलग ही राय रखते हैं। उनका कहना है कि सरकार का यह फैसला अच्छा है। 18 साल की उम्र में शादी के बाद लड़कियां पूरी तरह से शिक्षित नहीं हो पाती थी। वहीं ससुराल में भी उनको पढ़ने की आजादी नहीं होती है। सरकार के इस फैसले के बाद लड़कियां अपनी शिक्षा पूरी कर स्वालंबी बन सकेंगी और वे ससुराल में भी किसी पर आश्रित नहीं हो सकेंगी।
कालखंडे खाप के चौधरी संजय कालखंडे का कहना है कि लड़की की शादी-विवाह की आयु 21 वर्ष करने का सरकार का फैसला गलत है। यह फैसला करने का अधिकार मां बाप का होना चाहिए। लड़की के स्वास्थ्य को देखते हुए बालिका की शादी 18 में की जा सकती है। उन्होंने कहा कि जब लड़कियों की बालिग आयु 18 साल रखी गई है तो उनकी शादी की आयु भी 18 ही रखी जानी चाहिए। शादी की उम्र बढ़ाए जाने से लड़कियों के परिजनों को परेशानी का सामना करना पड़ेगा। ग्रामीण परिवेश में तो यह असंभव सा है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

कोरोना: शनिवार रात्री से शुरू हुआ 30 घंटे का जन अनुशासन कफ्र्यूशाहरुख खान को अपना बेटा मानने वाले दिलीप कुमार की 6800 करोड़ की संपत्ति पर अब इस शख्स का हैं अधिकारजब 57 की उम्र में सनी देओल ने मचाई सनसनी, 38 साल छोटी एक्ट्रेस के साथ किए थे बोल्ड सीनMaruti Alto हुई टॉप 5 की लिस्ट से बाहर! इस कार पर देश ने दिखाया भरोसा, कम कीमत में देती है 32Km का माइलेज़UP School News: छुट्टियाँ खत्म यूपी में 17 जनवरी से खुलेंगे स्कूल! मैनेजमेंट बच्चों को स्कूल आने के लिए नहीं कर सकता बाध्यअब वायरल फ्लू का रूप लेने लगा कोरोना, रिकवरी के दिन भी घटेCM गहलोत ने लापरवाही करने वालों को चेताया, ओमिक्रॉन को हल्के में नहीं लें2022 का पहला ग्रहण 4 राशि वालों की जिंदगी में लाएगा बड़े बदलाव

बड़ी खबरें

Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.