Gang rape : 15 दिन बाद जमीन से निकाला 12वीं की छात्रा का शव, फिर से कराया पोस्टमार्टम

- रेनवाल के रलावता गांव में छात्रा की मौत का मामला
- परिजनों ने जताई सामूहिक दुष्कर्म की आशंका

जयपुर. रेनवाल थाना इलाके के रलावता गांव में नाबालिग छात्रा की विषाक्त के सेवन से मौत के मामले में शुक्रवार को पुलिस ने शव को 15 दिन बाद जमीन से निकाल कर पोस्टमार्टम कराया है। मामले को लेकर बुधवार को नाथ समाज के लोगों ने जयपुर जिला कलक्टर से मिलकर मृतका के साथ सामूहिक दुष्कर्म किए जाने की आशंका जाहिर की थी। जिस पर कलक्टर ने फिर से पोस्टमार्टम के आदेश दिए।


जिला कलक्टर के आदेश के बाद जयपुर ग्रामीण एसपी शंकर दत्त शर्मा ने मामले की जांच फागी थानाधिकारी भंवरलाल को सौंप दी है। फागी सीआई ने मामले को गंभीरता से लेते हुए परिजनों द्वारा युवती का गैंगरेप कर हत्या करने का मामला दर्ज कराने पर पोस्टमार्टम करने की मांग पर शुक्रवार को शव को निकलवाया और मेडिकल बोर्ड से पोस्टमार्टम कराया। दुष्कर्म का खुलासा पोस्टमार्टम रिपोर्ट के बाद हो पाएगा। इस दौरान रेनवाल तहसीलदार सुमन चौधरी, रेनवाल थाना प्रभारी अनिल सिंह तंवर, नायब तहसीलदार भीमाराम, जोगी समाज के जयपुर जिला अध्यक्ष गजानंद योगी, प्रदेश अध्यक्ष राकेश बहेरिया व रवि शंकर योगी भी मौजूद रहे। अब पुलिस इस मामले में फिर से जांच करेगी और पोस्मार्टम के आधार पर आरोपियों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। ज्ञात रहे कि परिजनों ने इस मामले में कई अधिकारियों के समक्ष उपस्थित होकर फिर से पोस्टमार्टम की मांग की थी।


क्या था मामला


रेनवाल कस्बे के निकट ग्राम पंचायत रलावता में 27 जनवरी को एक 17 वर्षीय छात्रा की विषाक्त खाने का मामला सामने आया था। जिसके बाद किशोरी को जयपुर के एसएमएस अस्पताल में भर्ती कराया गया। 29 जनवरी को छात्रा की मौत के बाद पिता ने आत्महत्या के लिए उकसाने का मामला दर्ज कराया। लेकिन तीन दिन बाद छात्रा के पिता ने सात युवकों पर गैंगरेप तथा फोटो वायरल की धमकी देकर विषाक्त खिलाने का परिवाद दिया। जिसमें पिता ने बासड़ी खुर्द निवासी सुनील, नरेंद्र, मुकेश, नेमीचंद, अंकित, सुरेश, मुकेश पर देहशोषण करने तथा विषाक्त खिलाने का आरोप लगाया है। छात्रा 12वीं कक्षा में पढ़ती थी।

Kashyap Avasthi Desk/Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned