कोरोना बना बाधा, पुलिस नहीं कर पा रही मूल काम

कोरोना से जहां छोटे-बड़े उद्योग धंधे प्रभावित हैं, वहीं पुलिस भी इससे अछूता नहीं है। थानों में दर्ज मामलों की जांच से लेकर वांछित अपराधियों की धरपकड़ तक का कार्य अस्त-व्यस्त हो गया है। थाने पहले से ही नफरी की कमी से जूझ रहे थे और फिर कोरोना ने अतिरिक्त ड्यूटी का बोझ बढ़ा दिया।

By: Ashish Sikarwar

Published: 24 Aug 2020, 11:37 PM IST

जयपुर/चौमूं. कोरोना से जहां छोटे-बड़े उद्योग धंधे प्रभावित हैं, वहीं पुलिस भी इससे अछूता नहीं है। थानों में दर्ज मामलों की जांच से लेकर वांछित अपराधियों की धरपकड़ तक का कार्य अस्त-व्यस्त हो गया है। थाने पहले से ही नफरी की कमी से जूझ रहे थे और फिर कोरोना ने अतिरिक्त ड्यूटी का बोझ बढ़ा दिया। इस कारण अतिरिक्त ड्यूटी के चलते वांछित अपराधियों की धरपकड़ तो दूर, दर्ज मामलों की पेंडेंसी भी कम होने का नाम नहीं ले रही है।
चौमूं थाने पर शहर के 35 वार्ड की 90 हजार और 14 गांवों की हजारों की आबादी की सुरक्षा की जिम्मेदारी है। इसके अलावा जयपुर-रींगस हाईवे सहित इलाके में दुर्घटना या हो फिर कोरोना मरीज की सूचना, पुलिस को अन्य कामकाज छोड़कर दौड़ लगानी पड़ रही है, जबकि थाने में स्वीकृत पदों के अनुरूप जाब्ता ही नहीं है। ऐसे में नफरी कम होने से अपराधों पर अंकुश लगाना भी मुश्किल हो रहा है। (निसं.)

 

हर माह 73 प्रकरण दर्ज, 136 पेंडेंसी
थाने में हर माह करीब 70 से 80 तक प्रकरण दर्ज हो रहे हंै। इनमें चोरी, नकबजनी, मारपीट सहित सहित अन्य धाराओं के शामिल हैं। वर्तमान में दर्ज मामलों में करीब 136 प्रकरणों की पेंडेंसी चल रही है।

3 उपनिरीक्षक, 7 सहायक उपनिरीक्षक नहीं
थाने में 3 उपनिरीक्षक और 7 सहायक उपनिरीक्षक के पद लंबे समय से खाली हैं। वर्तमान में 1 निरीक्षक के अलावा 3 उपनिरीक्षक और 5 सहायक उपनिरीक्षक ही कार्यरत हैं। कोरोना में ड्यूटी के अलावा दर्ज प्रकरणों की जांच, वांछित अपराधियों की धरपकड़ और शहर सहित 14 गांवों के हजारों लोगों की सुरक्षा की जिम्मेदारी है। हालांकि कांस्टेबल व हेड कांस्टेबल के पद भरे हुए है।

 

10 किमी की परिधि में करनी पड़ती दौड़
थाने के अधीन शहर के अलावा 14 गांवों की सुरक्षा का भी जिम्मा है। लोहरवाड़ा, हाड़ौता, जैतपुरा, अणतपुरा, रिसाणी, राजारामपुरा, भूरथल, टाटियावास, रामपुरा, डाबड़ी, भट्टा की गली, आकेड़ा, चिमनुपरा, जाहौता समेत १४ गांव आते हैं। इनमें अपराधिक घटनाओं के अलावा कोरोना मरीज की सूचना पर भी पुलिस को भागदौड़ करनी पड़ रही है।

 

पदों की फैक्ट फाइल एक नजर में
थाने में रिक्त पद
पद का नाम स्वीकृत पद खाली
निरीक्षक 1 0
उपनिरीक्षक 6 3
सहायक उपनिरीक्षक 12 7

 

थाने में उपनिरीक्षक व सहायक उपनिरीक्षक के 10 पद खाली हैं। पदों के संबंध में उच्चाधिकारियों को बताया हुआ है। सुरक्षा संबंधित कामकाज के अलावा कोरोना में भी ड्यूटी दी जा रही है। अपराधों पर अंकुश लगाने के साथ ही दर्ज प्रकरणों में पेंडेंसी भी कम करने का भरसक प्रयास है।
हेमराजसिंह, थाना प्रभारी, चौमूं

Corona virus
Ashish Sikarwar
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned