बीमारियों पर अव्यवस्थाओं का ‘मकडज़ाल’

बीमारियों पर अव्यवस्थाओं का ‘मकडज़ाल’
बीमारियों पर अव्यवस्थाओं का ‘मकडज़ाल’

Ramakant Dadhich | Updated: 18 Sep 2019, 11:49:13 PM (IST) Bagru, Jaipur, Rajasthan, India

जयपुर जिले के चौमूं व आमेर उपखंड क्षेत्र में मौसमी बीमारियां इस कदर पैर जमा चुकी हैं, जिससे घर-घर में रोगी बढ़ रहे हैं। स्थिति ये है कि सरकारी और निजी चिकित्सालयों में आउटडोर बढ़ गया है, लेकिन जिम्मेदार चिकित्सा विभाग के अधिकारी, ग्राम पंचायत एवं नगरपालिका इसे लेकर गंभीर नजर नहीं आ रहे हैं।

चौमूं. जयपुर जिले के चौमूं व आमेर उपखंड क्षेत्र में मौसमी बीमारियां इस कदर पैर जमा चुकी हैं, जिससे घर-घर में रोगी बढ़ रहे हैं। स्थिति ये है कि सरकारी और निजी चिकित्सालयों में आउटडोर बढ़ गया है, लेकिन जिम्मेदार चिकित्सा विभाग के अधिकारी, ग्राम पंचायत एवं नगरपालिका इसे लेकर गंभीर नजर नहीं आ रहे हैं। जनजागरूकता की कमी के कारण ग्रामीण व शहरी लोग भी रोगों से बचने के कोई उपाय नहीं कर पा रहे हैं। हालात ये हैं कि फोङ्क्षगग तक नहीं करवाई जा रही है।

सूत्रों के अनुसार चौमूं के राजकीय चिकित्सालय में वायरल बुखार, सर्दी-जुखाम, उल्टी, खांसी, हाथ-पैर में दर्द, सिर दर्द आदि के रोगियों की संख्या में बढ़ोत्तरी हो रही है। हालांकि डेंगू व मलेरिया के रोगी नहीं मिले हैं। यही स्थिति निजी चिकित्सालयों की हैं, जहां मौसमी बीमारियों से पीडि़त रोगी इलाज करवाने पहुंच रहे हैं। राजकीय चिकित्सालय में जरूर रोगियों को इलाज करवाने में दिक्कतों का सामना करना पड़ता है। इस कारण ये है कि यहां पर न तो चिकित्सकों व कार्मिकों का ड्यूटी चार्ट लगाया जाता है। चिकित्सकों के कक्ष भी निर्धारित नहीं हैं। यहां से जा चुके चिकित्सकों के नाम अब भी कक्षों के बाहर व अंदर लगे हुए हैं, जिससे मरीज गुमराह होते हैं। पर्ची काउंटर पर भी कार्मिक नहीं बनाए, जिससे मरीजों को पर्ची बनवाने में काफी समय लगता है।

गोविन्दगढ़ में बढ़ा आउटडोर

गोविंदगढ़ कस्बे सहित आसपास के क्षेत्र में फैल रही मौसमी बीमारियों ने कस्बे के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र का आउटडोर व इनडोर बढ़ा दिया है। पहले जहां आउटडोर 500 से 600 के बीच चल रहा था। वहीं आउटडोर मौसमी बीमारियों के कारण एक हजार के करीब पहुंच गया है। इनमें मुख्य रूप से वायरल बुखार, सिर दर्द, पेट दर्द, उल्टी आदि के रोगी अधिक हैं। हालांकि क्षेत्र में चिकनगुनिया, मलेरिया, डेंगू, स्वाइन फ्लू जैसी बीमारियों के पीडि़त लोग सामने नहीं आए हैं। हालांकि चिकित्साधिकारी बताते हैं कि इन बीमारियों को लेकर चिकित्सा विभाग गंभीर है। आशा सहयोगिनी, आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं को क्षेत्र में मॉनिटरिंग करने का आदेश दे रखा है, जिससे संभावित मरीज के सामने आते ही तत्काल प्रभाव से इलाज मिल सके। गोविन्दगढ़ सीएचसी प्रभारी डॉ. आरके विजयवर्गीय का कहना है कि अभी क्षेत्र में मौसमी बीमारियों के कारण आउटडोर में वृद्धि हुई है। क्षेत्र में चिकनगुनिया, मलेरिया, डेंगू, स्वाइन फ्लू जैसी बीमारियों के मरीज सामने नहीं आए हैं।

दौलतपुरा में भी रोगियों की भीड़
दौलतपुरा. राजकीय प्राथमिक आदर्श स्वास्थ्य केंद्र बगवाड़ा में पहले की तुलना में इन दिनों मरीजों का आउटडोर बड़ा है। चिकित्साधिकारी नवीन शर्मा का कहना है कि इन दिनों मौसमी बीमारियां चल रही है। आउटडोर में ज्यादातर मरीज बुखार, खांसी-जुखाम व सिर दर्द आदि बीमारियों के हैं।

आंकड़ा दो सौ पहुंच रहा

मानपुरा माचैडी. कस्बे के राजकीय आदर्श प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में इन दिनों मौसमी बीमारियों को लेकर आउटडोर में रोगियों की संख्या 200 तक पहुंच गई है। चिकित्सा प्रभारी संजय गोयल ने बताया कि इन दिनों प्रतिदिन आउटडोर करीब 180 से 200 तक पहुंच रहा है, जिसमें खांसी, जुखाम, बुखार आदि के मरीज ज्यादा है। ग्रामीणों की शिकायत ै है कि स्वास्थ्य केंद्र पर 24 घंटे प्रसूताओं के अलावा अन्य बीमारी के मरीजों को देखने की सुविधा नहीं है। आस-पास के निजी क्लिनिकों में भी मरीज बढ़े हैं।


सीबीसी मशीन दस दिन से खराब

सामोद. कस्बे के राजकीय सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पर इन दिनों मौसमी बीमारियों के चलते मरीजो का आउटडोर रोजाना 400 के पार हो रहा है। वहीं इनडोर मरीजों की संख्या भी रोजाना 20 के पार हो रही है, लेकिन समुतिच सुविधाएं नहीं मिलने से मरीज आहत हैं। सामोद सीएचसी की सीबीसी जांच मशीन भी पिछले दस दिनों से खराब पड़ी है, जिनकी सुध लेने वाला कोई नहीं है, जिसके चलते जहां एक ओर मरीजों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। वहीं निजी जांच केन्द्र के संचालक मनमाना शुल्क वसूल कर चांदी कूट रहे हैं।


फोगिंग तक नहीं

चौमूं उपखंड क्षेत्र में चिकित्सा विभाग की ओर से जमा गंदे पानी एवं गंदे स्थानों समेत अन्य स्थानों पर फोङ्क्षगग तक नहीं की गई है, जबकि कई बार पार्षद व पंचायतीराज के जनप्रतिनिधि सरकार से मांग कर चुके हैं। इसके बावजूद ढिलाई बरती जा रही है। सूत्रों की मानें तो विभाग की यह लापरवाही लाखों लोगों पर भारी पड़ सकती है। दूसरी तरफ ग्रामपंचायत एवं नगरपालिका प्रशासन भी हाथ पर हाथ धरे बैठे हैं।

मौसम ने बिगाड़ी सेहत
कालाडेरा. क्षेत्र में इन दिनों बदलते मौसम परिवर्तन ने कस्बे के सरकारी अस्पताल में मरीजों की संख्या में इजाफा कर दिया है। कालाडेरा कस्बे के राजकीय सामुदायिक केन्द्र के आउटडोर में मौसमी बीमारियों के चलते मरीजों की कतार देखने को मिल रही है। चिकित्सकों ने बताया कि इन दिनों मौसम परिवर्तन के चलते आउटडोर में वृद्धि हुई है। अस्पताल प्रशासन की माने तो यहां इन दिनों अधिकांश मरीज वायरल बुखार, खांसी, जुकाम आदि बीमारियों का इलाज करानेे आ रहे हंै। मौसमी बीमारियों के पैर पसारने से यहां रोगियों का आउटडोर बढ़ा है। सामान्यत यहां प्रतिदिन का आउडडोर 300 तक रहता है। लेकिन इन दिनों यहां मरीजों का आउटडोर 600 के पार पहुंच गया है।

आठ दिन का आउटडोर

चौमूं 7903
कालाडेरा 3602

गोविंदगढ़ 5700
मानपुरा माचैड़ी 1553

दौलतपुरा 809
सामोद 3103

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned