लॉकडाउन से बर्फ का धंधा हो गया 'ठंडाÓ

जैतपुरा क्षेत्र के उद्योग विहार स्थित बर्फ के उद्योगों में लॉकडाउन ने लाखों रुपए का नुकसान करवा दिया। वही इस सीजन की भरपाई होना तो अभी मुश्किल है।

By: Ashish Sikarwar

Published: 28 May 2020, 11:09 PM IST

जयपुर. जैतपुरा क्षेत्र के उद्योग विहार स्थित बर्फ के उद्योगों में लॉकडाउन ने लाखों रुपए का नुकसान करवा दिया। वही इस सीजन की भरपाई होना तो अभी मुश्किल है।
जानकारी के अनुसार बर्फ फैक्ट्री वाले वर्ष में 2 महीने ही सीजन का कमाते हैं बाकी 10 महीने बैठे रहते हैं। यह 2 महीने गर्मी के सीजन वाले आते हैं जिनमें ज्यूस, कुल्फी व शादी विवाह वाले सीजन का माल उठाते हैं। यह सीजन पूर्णतया निकल गई जिससे इन फैक्ट्री वालों को अब उम्मीद नहीं है।

2 महीनों का बिल मात्र हजारों में आया
जहां एक और हर वर्ष सीजन में बर्फ फैक्ट्री वालों के बिजली के बिल लाखों रुपए के आते थे। वही इन 2 महीने में मात्र 50 से ७० हजार रुपए तक के बिल आए हैं। जहां हर सीजन में लाखों रुपए बिजली खर्च के रूप में चुकाने पड़ते थे, वहीं मात्र 2 महीने में केवल बिजली का औसत खर्च ही चुकाना पड़ा है।

कच्चा माल भी हो गया खराब
जानकारी के अनुसार इन उद्योग वालों की गर्मी के सीजन के लिए तैयारी पूरी थी। यह सभी लोग सीजन के लिए कैन की रिपेयरिंग, प्लांट रिपेयरिंग, नए कैन बनवाना, समेत अनेक तरीके से सीजन का काम करने के लिए तैयार थे। एक बार बर्फ का टैंक बनने में हजारों रुपए का खर्चा होता है, लॉकडाउन होने के पहले यह दिनभर भरा रहता था। लॉकडाउन होने से यह टैंक खाली करना पड़ा जिससे हजारों रुपए का नुकसान हो गया। अब दोबारा भरने में भी हजारों रुपए खर्च होंगे। यह भी इन लोगों के लिए नुकसान ही है।

ज्यूस, कुल्फी व शादी वाले लेते हैं सबसे ज्यादा माल
जानकारी के अनुसार यह उद्योग वाले वर्ष के 2 माह में पूरे वर्ष जितना कार्य कर लेते हैं। वर्ष में दो माह सीजन के आते हैं, जिसमें सबसे अधिक बर्फ ज्यूस, कुल्फी वाले व शादी समारोह वाले उठाते हैं। इन दो माह अप्रैल व मई में यह काम पूर्णतया बंद रहा। इससे इनका माल बिल्कुल भी नहीं बिक सका।

इस सीजन से तो कोई उम्मीद नहीं
उद्योगपतियों ने कहा कि इस सीजन से तो अब कोई उम्मीद नहीं रही। आने वाले कुछ समय तक जब तक शादी समारोह चालू नहीं होंगे तब तक भी कोई उम्मीद नहीं है। सरकार अगर बिजली के बिलों में कुछ राहत दे व कटौती करे तो हमें बिजनेस रीस्टार्ट करने में काफी सहूलियत रहेगी।

Ashish Sikarwar
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned