रामगढ़ बांध : 6 घंटे चली कार्रवाई से बंधी पानी की आस

दम तोड़ते रामगढ़ बांध के कैचमेंट एरिया में हो रहे अतिक्रमण को लेकर अब जाकर जिम्मेदार प्रशासन और संबंधित विभाग हरकत में आ रहे हैं। इस मामले में राजस्थान पत्रिका में लगातार प्रमुखता से समाचार प्रकाशित करने के बाद जमवारामगढ़ उपखण्ड प्रशासन ने कार्रवाई शुरू की है।

By: Ashish Sikarwar

Published: 30 Aug 2020, 09:41 PM IST

जयपुर/गठवाड़ी . दम तोड़ते रामगढ़ बांध के कैचमेंट एरिया में हो रहे अतिक्रमण को लेकर अब जाकर जिम्मेदार प्रशासन और संबंधित विभाग हरकत में आ रहे हैं। इस मामले में राजस्थान पत्रिका में लगातार प्रमुखता से समाचार प्रकाशित करने के बाद जमवारामगढ़ उपखण्ड प्रशासन ने कार्रवाई शुरू की है। इसमें पटवारी व गिरदावर की रिपोर्ट के बाद राजस्व विभाग की टीम ने रामगढ़ बांध कैचमेंट एरिया में हो रहे अतिक्रमण को हटाने की कार्रवाई शुरू की है। इसके तहत रविवार को टोडालडी गांव से गुजर रही बाण गंगा नदी के बहाव क्षेत्र में करीब 90 बीघा भूमि से अतिक्रमण हटाया गया। गिरदावर हनुमान सहाय मीणा के नेतृत्व में 11 ट्रैक्टर के साथ करीब 6 घंटे तक कार्रवाई चली, जिसमें बहाव क्षेत्र में बोई गई फसल के अलावा मेड़बंदी व तारबंदी के अलावा अन्य अतिक्रमण को हटाया गया। इधर, कार्रवाई को लेकर ग्रामीणों ने प्रशासन पर महज कागजी खानापूर्ति करने का आरोप लगाया है। ग्रामीणों ने बताया कि मौके पर अगर जिम्मेदार अधिकारी, एसडीएम या तहसीलदार आते तो कार्रवाई जमीनी स्तर पर होती। ऐसे में राजस्व टीम व अतिक्रमियों की आपसी सांठगाठ से भी इनकार नहीं किया जा सकता है।

 

चहेतों के अतिक्रमण को छोड़ा
बहाव क्षेत्र से अतिक्रमण हटाने की कार्रवाई के दौरान कुछ लोगों ने राजस्व विभाग की टीम का विरोध किया। ग्रामीणों ने टीम के लोगों पर कार्रवाई के दौरान भेदभाव का आरोप लगाया। लोगों का कहना है कि टीम सदस्यों ने नापजोख के बाद भी बहाव क्षेत्र में अपने चहेते लोगों के अतिक्रमण को पूरी तरह से खाली नहीं करवाया। ऐसे में ग्रामीणों ने एसडीएम व तहसीलदार की मौजूदगी में दुबारा से कार्रवाई की मांग की है।

 

नहीं हटाई ग्रेवल सड़क
लोगों का कहना है कि रामगढ़ बांध कैचमेंट एरिया से अतिक्रमण हटाने गई राजस्व विभाग की टीम ने बाण गंगा नदी बहाव क्षेत्र के बीच में बनी ग्रेवल सड़क को नहीं हटाया। जब ग्रामीणों ने इसका विरोध किया तो उनकी भी एक नहीं सुनी गई। लोगों ने बताया कि जब राजस्व विभाग की टीम बहाव क्षेत्र से अतिक्रमण हटाने आई थी, तो केवल किसानों की फसल को अतिक्रमण मान कर क्यों रौंदा गया। बहाव क्षेत्र के बीच बनी ग्रेवल सड़क को हटाने की बात आई, तो अधिकारी इसकी अनसुनी कर चले गए।

 

आज यहां होगी कार्रवाई...
तहसील प्रशासन से मिली जानकारी के अनुसार सोमवार को धौला ग्राम पंचायत के बाडाडेहरा गांव से गुजर रही बाण गंगा नदी के बहाव क्षेत्र में अतिक्रमण हटाने की कार्रवाई होगी। पटवारी अमित कुमार ने बताया कि बहाव क्षेत्र में खसरा नम्बर 164 गैर मुमकिन नदी में अतिक्रमण है। इसे पुलिस जाप्ते की मौजूदगी में हटाया जाएगा।

बहाव क्षेत्र में करीब 6 घंटे कार्रवाई की गई है। लोगों द्वारा लगाए गए भेदभाव के आरोप गलत हैं। अगर नदी में पानी ही आएगा, तो बहाव क्षेत्र में बनी ग्रेवल सड़क तो अपने आप हट जाएगी।
हनुमान सहाय मीणा, गिरदावर, रायसर सर्किल

 

बहाव क्षेत्र में बनी सड़क किस एजेन्सी ने बनाई है, इसकी जानकारी करता हूं। अगर अतिक्रमण हटाने में भेदभाव किया है, तो जांच करवा उसे भी हटवा दिया जाएगा।
विश्वामित्र मीणा, उपखंड अधिकारी, जमवारामगढ़

Ashish Sikarwar
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned