28 लीटर पानी से 'जल नेति'

28 लीटर पानी से 'जल नेति'

Narottam Sharma | Publish: Mar, 17 2019 07:48:35 PM (IST) Bagru, Jaipur, Rajasthan, India

वल्र्ड योगा बुक रिकॉर्ड संस्था के प्रतिनिधि रहे मौजूद
- सांस व नाक संबंधी बीमारियां हो सकती हैं दूर
- प्रशिक्षित व्यक्ति के मार्गदर्शन में ही करनी चाहिए ये क्रिया

चौमूं. यहां अशोक विहार कॉलोनी में रविवार को वल्र्ड योगा बुक रिकॉर्ड संस्था के प्रतिनिधियों की मौजूदगी में डॉ. देवांशु ने 28 लीटर जल नेति से वल्र्ड योगा रिकॉर्ड बनाया है। आयोजकों ने दावा किया है कि अब तक किसी ने भी इतने लीटर पानी से जल नेति नहीं की है। कार्यक्रम में मुख्य अतिथि अशोक शर्मा ने कहा कि योग ऋषि मुनियों के जमाने से चला आ रहा है। इससे मानव शरीर निरोगी रहता है। प्रत्येक व्यक्ति को प्रतिदिन योग जरूर करना चाहिए। विशिष्ट अतिथि अखिल भारतीय योग महासंघ के अध्यक्ष डॉ. राकेश भारद्वाज ने कहा कि ऐसे आयोजनों का उद्देश्य लोगों का योग के प्रति जागरूक करना है, जिससे वे स्वस्थ रह सकें। योग वल्र्ड के प्रधान अविनाश सिंह ने योग क्रियाओं की जानकारी दी। उन्होंने भौतिक युग में जीवन के लिए योग की महत्ता पर प्रकाश डाला। राष्ट्रीय मोटीवेटर शिवप्रसाद पालीवाल, इस्कॉन के प्रतिनिधि व कृषि विशेषज्ञ नवलकिशोर गुप्ता ने भी विचार व्यक्त किए। कार्यक्रम के कॉर्डिनेटर हितेश कूलवाल व आयोजक नंदकिशोर कूलवाल ने ने भी विचार व्यक्त किए।

क्यों करते हैं जल नेति

श्वसन प्रणाली को साफ रखने और नासिका के मार्ग से विषाक्त पदार्थों को दूर करने के लिए जल नेति क्रिया की जाती है। प्राचीन समय में योगी श्वसन रोगों को दूर करने के लिए इसका प्रयोग करते थे। इस क्रिया से नाक व सांस संबंधी कई बीमारियों और संक्रमण को दूर किया जा सकता है। इसे प्रशिक्षित व्यक्ति के मार्गदर्शन में ही करना चाहिए।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned