बजरी तस्करी में लिप्त ट्रैक्टर ने पद यात्रियों की ट्रॉली को मारी टक्कर

बजरी तस्करी में लिप्त ट्रैक्टर ने पद यात्रियों की ट्रॉली को मारी टक्कर

Ramakant Dadhich | Publish: Sep, 04 2018 11:11:22 PM (IST) Bagru, Rajasthan, India

- एक जना गंभीर घायल, दो दर्जन से अधिक लोग बाल-बाल बचे
- पदयात्रियों ने सजा रखी थी झांकी

रेनवाल मांजी. जिम्मेदारों की लापरवाही से सडक़ हादसों पर लगाम नहीं लग पा रही है। कभी जयपुर-अजमेर राजमार्ग खून से रंग रहा है तो कभी जयपुर-भलीवाड़ा मेगा हाईवे पर दुर्घटनाएं हो रही है, फिर भी जिम्मेदार नहीं चेत रहे। एक माह के आंकड़ों पर गौर करें तो औसतन दो हादसे प्रतिदन इन मार्गों पर हुए हैं। इनमें से बीस फीसदी दुर्घटनाएं बजरी भरे वाहनों की टक्कर से हुई है।
मंगलवार को भी जयपुर-भीलवाड़ा राजमार्ग पर बजरी खाली कर लौट रहे ट्रैक्टर-ट्रॉली ने पदयात्रा के साथ चल रहे ट्रैक्टर-ट्रॉली में टक्कर मार दी इससे ट्रॅाली सडक़ पर पलट गई और एक पदयात्री गंभीर घायल हो गया।
जानकारी के अनुसार कालवाड़ के निकट मुंड़ोता गांव से खेड़ापति बालाजी की पदयात्रा जयपुर-भीलवाड़ा मेगा हाइवे पर स्थित रेनवाल मांजी कस्बे से गुजर रही थी, इसी दौरान गंगाजी घुमाव पर बजरी खाली कर सांगानेर की ओर से आए तेज रफ्तार ट्रैक्टर ने पदयात्रा के टै्रक्टर-टॉली को पीछे से टक्कर मार दी।
इससे लालाराम गुर्जर निवासी राणोली जिला टोंक गम्भीर घायल हो गया। जिसे रेनवाल मांजी टोलप्लाजा की एंबुलेंस से जयपुर के एसएमएस अस्पताल में भर्ती करवाया गया है। पदयात्रा में शामिल श्रद्धालुओं ने बताया कि पदयात्री टै्रक्टर-टॉली से करीब 10 मीटर दूर थे, अन्यथा बड़ा हादसा हो सकता था। मौके पर पहुंचे रेनवाल मांजी चौकी इंचार्ज गोपाललाल बैरवा ने घटना स्थल का जायजा लेकर दोनों टै्रक्टर-टॉलियों को रेनवाल मांजी पुलिस चौकी पर खड़ा करवाया है।


बजरी भरे सैकड़ों वाहन गुजरते हैं

ग्रामीणों ने बताया कि पुलिस प्रशासन की लापरवाही के चलते जयपुर-भीलवाड़ा मेगा हाइवे से बजरी से भरी सैकड़ों ट्रैक्टर-टॉलियां रोजाना तेज रफ्तार में गुजरती है। इससे कई दुहपहिया वाहन चालक इनकी चपेट में आकर घायल हो रहे हैं।

इन कारणों से भी बढ़ रहे हादसे

ग्रामीणों व वाहन चालकों के अनुसार जयपुर-भीलवाड़ा मेगा हाइवे के सडक़ मार्ग की चौड़ाई कम होने से भी हादसे बढ़े हैं, वहीं सडक़ मार्ग पर डिवाइडर नहीं है। वहीं सडक़ के दोनों किनारे पर निकले नुकीले पत्थर भी दुर्घटना में सहायक बन रहे हैं।

दो माह, दस मौत

जयपुर-भीलवाड़ा मेगा हाइवे पर पिछले दो महिनों के दौरान हुई सडक़ दुर्घटनाओं में १० से अधिक लोगों की मौत हो चुकी है। इसके बावजूद मेगा हाइवे प्रबंधन के अधिकारियों की ओर से रोकथाम के कोई कदम नहीं उठाए जा रहे हैं।


इनक कहना है...

- सडक़ मार्ग की समस्याओं को लेकर विभाग के उच्चाधिकारियों को अवगत करवाया जा चुका है।
गोपालसिंह, पैट्रोलिंग इंचार्ज जयपुर-भीलवाड़ा मेगा हाइवे रूट रेनवाल मांजी

- बजरी का अवैध खनन रोकने के लिए जाप्ता मंगवाकर नदी में मौके पर ही कार्रवाई की जाएगी।
शीशराम मीणा थानाधिकारी, फागी

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

Ad Block is Banned