Reit 2021 - बीएड धारी बेरोजगारों ने किया विरोध प्रदर्शन

- 50 फीसदी अंक की अनिवार्यता को खत्म करने की मांग
- लाखों बेरोजगारों के सामने संकट हो गया खड़ा

By: Gourishankar Jodha

Published: 12 Jan 2021, 12:24 PM IST

आमेर/अचरोल। रीट 2021 के लिए आवेदन प्रक्रिया सोमवार को शुरू हो गई। माध्यमिक शिक्षा बोर्ड की ओर से जारी की गई संक्षिप्त विज्ञप्ति में स्नातकोत्तर में 50त्न अंक की अनिवार्यता करने से लाखों बेरोजगारों के सामने संकट खड़ा हो गया है।
कई सालों से शिक्षक भर्ती की तैयारी में जी जान से लगे लाखों बेरोजगारों में इस बदलाव के कारण भारी आक्रोश पैदा हो गया है। अंकों की अनिवार्यता से गुस्साए सैकड़ों बेरोजगारों ने सोमवार को आमेर के अचरोल में प्रदर्शन कर विरोध जताया।

पिछले 3 साल से शिक्षक भर्ती की तैयारी
आक्रोशित बेरोजगारों ने बताया कि इस तरह की अनिवार्यता से सरकार ने लाखों बीएड धारी अभ्यर्थियों के साथ कुठाराघात किया है। अचरोल निवासी मुकेश यादव, मंजू यादव, किरण यादव आदि ने बताया कि हम पिछले 3 साल से शिक्षक भर्ती की तैयारी कर रहे है। परिवार के हजारों रुपए प्रतियोगी परीक्षा तैयारी को लेकर कोचिंग संस्थानों में खर्च कर चुके है। अब जब नौकरी की आस जगी है तो शिक्षक भर्ती परीक्षा की जारी विज्ञप्ति में 50 प्रतिशत की अनिवार्यता करके लाखों बेरोजगारों के सामने संकट खड़ा कर दिया है, इसे बर्दाश्त नहीं किया जाएगा।

बिना अंक देखे प्रवेश तो नौकरी में भेदभाव क्यों
प्रकाश मीणा, सुरेश गुर्जर, सुमन यादव, ममता यादव आदि ने बताया कि रीट 2021 में बदलाव किया गया है कि जिन अभ्यर्थियों के स्नातक में 50 फ़ीसदी अंक नहीं है, लेकिन स्नातकोतर में अगर 50 फ़ीसदी अंक हैं तो ही वह रीट 2021 में आवेदन कर सकेगा। और जिनके स्नातक में 50 फीसदी से कम अंक है वह इसमें आवेदन करने के योग्य नहीं है। यह अनिवार्यता हम सबके साथ सरासर धोखा है। बेरोजगार बीएड धारियों ने आरोप लगाया कि जब पाठ्यक्रम में बिना स्नातक के अंक देखें प्रवेश दे दिया गया तो अब नौकरी के समय इस तरह की बाध्यता क्यों की जा रही है। ये बेरोजगारों के साथ बड़ा छल है।

50 फ़ीसदी अंक की अनिवार्यता खत्म करने की मांग
अभ्यर्थियों ने स्नातकोत्तर में 50त्न अंक की अनिवार्यता खत्म करने की मांग को लेकर करीब 1 घंटे विरोध प्रदर्शन के बाद मुख्यमंत्री के नाम ज्ञापन भेजा। अखिल भारतीय यादव महासभा ब्लॉक महासचिव रामजीलाल यादव व बेरोजगार बीएड धारियों ने मुख्यमंत्री से रीट 2021 परीक्षा के लिए जारी विज्ञप्ति में 50त्न फीसदी अंक की अनिवार्यता को खत्म करने, 50 फीसदी से कम अंक वाले अभ्यर्थियों को परीक्षा में शामिल करने, लेवल 2 में 10 हज़ार पद बढ़ाने तथा कोरोना महामारी को देखते हुए आवेदन नि:शुल्क करने मांग की है।

Gourishankar Jodha
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned