चाईना से भारत में खपाई जा रही ज़हरीली मटर और दाल, देखें वीडियो

Akansha Singh

Publish: May, 18 2019 08:00:45 AM (IST)

Lucknow, Lucknow, Uttar Pradesh, India

बहराइच. रुपईडीहा बार्डर पर नेपाल से तस्करी कर लायी गयी चाइनीज़ मटर की खेप को पिकअप गाड़ी नम्बर up 40 t 8714 में भरकर 139 बोरी में भारी लगभग 38 कुन्तल ले जाते समय मुखबिर की सूचना पर SBI बैंक के पास से पकड़ लिया। चाइना में तैयार हुई नकली हरी मटर, जो कि स्नोपीस, सोयाबीन आदि से बनाई जाती है, जिस पर सोडियम मेटाबाईसल्फेट नाम का केमिकल चाईना की मटर पर हरे रंग में चढ़ाया जाता है, ताकि वह लंबे समय तक सुरक्षित रहे और देंखने में असली मटर सी लगे। सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक जहरीले केमिकल वाला मटर लोगों में कैंसर से लेकर नपुंसक और महिलाओं को बांझपन का रोगी बना सकता है। जिसका कारण यही है कि इस तरह के चाइनीज मटर को उबालने पर भी ये असली मटर की तरह नर्म नहीं होते।

 

 

भारत नेपाल की खुली सीमा का लाभ उठा कर चाईना भारत मे तस्करो के जरिये मटर की खेप भेज रहा है। इसका खुलासा रुपईडीहा सीमा से पकड़ी गई एक पिकअप गाड़ी पर लदी लगभग 37 कुन्तल 36 किलो चाइनीज़ मटर की खेप की बरामदगी से हुआ है। इसके साथ ही सुरक्षा एजेंसियों ने एक तस्कर को भी गिरफ्तार कर लैंड कस्टम के सुपुर्द किया है। रुपईडीहा SSB प्रभारी ने बताया कि नेपाल से तस्करी कर ले जाई जा रही चाइनीज़ मटर की खेप को एसएसबी और पुलिस की संयुक्त टीम के द्वारा पकड़ा गया है। चाईनीज मटर के खेप के साथ मौके से दो लोगों को गिरफ्तार किया गया है। जिनकी पहचान आलोक कुमार अग्रवाल पुत्र स्वः ओम प्रकाश अग्रवाल निवासी पुरानी बाजार नानपारा व चालक दीपक गुप्ता पुत्र कन्हैया गुप्ता को मौके से गिरफ्तार किया गया है। पूछताछ के दौरान पकड़े गये दोनों ने बताया कि आलोक ट्रेडर्स के मालिक राज कुमार अग्रवाल उर्फ रज्जु लाला का यह सारा माल है। मटर को सीज कर कस्टम के हवाले कर दिया गया है।

 

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned