भगवान राम से जुड़े इस स्थल में लगवाए जा रहे बार बालाओं के ठुमके

जिले में लव कुश की जन्मस्थली सीताद्वार में कार्तिक पूर्णिमा के दिन लगने वाले पांच दिवसीय मेले में जमकर बार बालाओं के ठुमके लगवाए जा रहे हैं।

By: Abhishek Gupta

Published: 25 Nov 2018, 08:01 PM IST

Lucknow, Lucknow, Uttar Pradesh, India

श्रावस्ती. जिले में लव कुश की जन्मस्थली सीताद्वार में कार्तिक पूर्णिमा के दिन लगने वाले पांच दिवसीय मेले में जमकर बार बालाओं के ठुमके लगवाए जा रहे हैं। श्रद्धा का स्थल माने जाने वाले इस मेले में बार बालाओं द्वारा जमकर अश्लीलता परोसी जा रही है। जबकि प्रशासन से लोगों ने मेले के आयोजन से पहले ही इस तरह के अश्लील डांस पर प्रतिबंध लगाये जाने की मांग की थी और प्रशासन ने भी मेले के आयोजन से पहले इस पर कड़े लहजे में प्रतिबंध लगाया था, लेकिन सारे प्रतिबंध धरे के धरे रह गए। और मेले में बार बालाओं द्वारा ठुमके लगाए जा रहे हैं।

यह है मान्यता-

श्रावस्ती के इकौना थाना क्षेत्र के सीताद्वार में कार्तिक पूर्णिमा के दिन लगने वाले मेले में जमकर अश्लीलता परोसी जा रही है। बार बालाओं द्वारा ठुमके लगवाए जा रहे हैं। लोगों की मान्यता है कि भगवान श्री राम द्वारा सीता का त्याग किये जाने के बाद लक्ष्मण जी सीता जी को इसी सीताद्वार के जंगल में छोड़ कर गए थे। यहीं पर वाल्मीकि जी का आश्रम भी था और लव तथा कुश ने भी यहीं जन्म लिया था। ऐसे धार्मिक स्थल पर हो रहे बार बालाओं के ठुमकों की लोगों द्वारा निंदा की जा रही है।

प्रशासन ने रखा मौन-

आस्था का प्रतीक माने जाने वाले मेले में बार बालाओं के ठुमके हर साल लगवाए जाते हैं। और प्रशासन हर बार इसे रोकने की बात करता है। मेले में इन बार बालाओं के ठुमके पुलिस और प्रशासन के नाक के नीचे हो रहा है, मगर सभी इससे अनजान हैं। मेले को आस्था का केंद्र मानकर लाखों श्रद्धालु इस मेले में दर्शन करने आते हैं। मगर मेले में ये बार बालाओं के ठुमके सवाल खड़े कर रहे हैं।

वहीं इस मामले में एसडीएम इकौना राजेश मिश्रा बताते हैं कि इस बारे में जानकारी नही है।अगर मेले में अश्लील डांस हो रहा है तो इसकी जांच कराकर आवश्यक कार्रवाई की जाएगी।

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned