बीजेपी सांसद सावित्री बाई फूले ने खोला बड़ा राज, क्यों बनीं साध्वी...

बीजेपी सांसद सावित्री बाई फूले ने खोला बड़ा राज, क्यों बनीं साध्वी...
BJP MP Savitri Bai Phule

Shatrudhan Gupta | Publish: Dec, 11 2017 08:16:15 PM (IST) Lucknow, Uttar Pradesh, India

बहराइच की मौजूदा भाजपा सांसद सावित्री बाई फूले की कामयाबी के पीछे नारी सशक्ति करण की एक बड़ी छाप देखने को मिल रही है।

बहराइच. भारत-नेपाल बार्डर के जिले बहराइच की मौजूदा भाजपा सांसद सावित्री बाई फूले की कामयाबी के पीछे नारी सशक्ति करण की एक बड़ी छाप देखने को मिल रही है। आप को बता दें की भले ही आज इस महिला सांसद को सरकार की तरफ से तमाम तरह के प्रोटोकॉल मिल रहे हों, लेकिन ये भी कड़वा सत्य है कि इस कामयाबी के पीछे एक नारी शक्ति ? के भेष में जोश, लगन, दृढ़ इच्छाशक्ति के साथ ही सामाजिक दायित्यों की फेहरिस्त में अपनी अहम जिम्मेदारी निभाने के लिए तमाम तरह के त्याग और समर्पण की एक अजब कहानी भी जुड़ी हुई है।

कुप्रथा का दंश बीजेपी सांसद ने भी झेला है

आप को बता दें की बहराइच जिले के रिसिया ब्लॉक जैसे अति पिछड़े क्षेत्र के हुसैनपुर मृदंगी गांव के रहने वाले दलित समाज से जुड़े आज्ञा राम ने कभी सपने में भी नहीं सोचा था की एक दिन उनकी बेटी सांसद बनकर उनका और उनके परिवार का नाम रोशन करेगी। सावित्री बाई फूले नाम की भाजपा सांसद की सच्ची कहानी यही है कि इन्होंने मजदूर बनकर अपना पेट पाला है। इस इलाके में फैली बाल विवाह जैसी कुप्रथा का सबसे बड़ा उदाहरण यही है कि इस अभिशाप का दंश इस महिला सांसद ने अपने बाल्य काल में स्वयं झेला है।

3 बार जिला पंचायत सदस्य निर्वाचित

मालूम हो कि जब भाजपा सांसद सावित्री बाई फूले की उम्र महज छह वर्ष की थी, जिसका खुलासा खुद बीजेपी सांसद सावित्री बाई फूले से नारी सशक्तिकरण के एक सेमिनार कार्यक्रम में स्वयं साझा किया। इस मौके पर महिला सांसद सावित्री बाई फूले ने बताया की उनके जेेहन में समाज के प्रति समर्पण का भाव कूट-कूट कर भरा था। जिस जिम्मेदारी का निर्वहन किसी कीमत पर हांथों में चूडिय़ां पहनकर और दुल्हन बनकर पारिवारिक बंदिशों के बीच कभी नहीं किया जा सकता था। इसके लिये हमने अपना सब कुछ त्याग दिया, जिस व्यक्ति के साथ हमारा विवाह हुआ था। उसके साथ हमने अपनी छोटी बहन का दोबारा विवाह कराकर अपने पति के साथ बहन को विदा करा दिया। साथ ही ये संकल्प लिया की मैं कभी शादी नहीं करूंगी समाज की सेवा के लिये आजीवन साध्वी बनकर जीवन जियूंगी। बहराइच की सांसद सावित्री बायीं फूले 3 बार जिला पंचायत सदस्य निर्वाचित हुईं। इसके बाद बलहा सुरक्षित सीट से भाजपा के टिकट से विधायक बनीं और मौजूदा समय में भाजपा से बहराइच की सांसद हैं।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned