सीओ श्रेष्ठा ठाकुर ने छात्राओं को पढ़ाया विकास का पाठ

सीओ श्रेष्ठा ठाकुर ने छात्राओं को पढ़ाया विकास का पाठ
CO shrestha thakur

Shatrudhan Gupta | Updated: 06 Dec 2017, 09:17:50 PM (IST) Lucknow, Uttar Pradesh, India

फेशबुक आईडी से फोटो लेकर किसी मनचले द्वारा उसे बदनाम करने की कोशिश की गई।

बहराइच. उत्तर प्रदेश के डीजीपी सुलखान सिंह के निर्देश पर पूरे सूबे में पुलिस महकमें की तरफ से आधी आबादी को उनके अधिकार और महिला कानून की शक्ति के प्रति विश्वास जगाने के लिये चार से लेकर 10 दिसम्बर तक निरन्तर नारी सुरक्षा सप्ताह कार्यक्रम को बड़े धूम धाम के साथ मनाया जा रहा है। इंडिया-नेपाल बार्डर के जिले बहराइच में तैनात पुलिस महकमे के तमाम जिम्मेदार वर्दी धारी अफसर जिले के गल्र्स कॉलेजों में प्रोजेक्टर के पर्दे पर बाकायदा टेलीफिल्म दिखाकर स्कूल कॉलेजों में पढऩे वाली छात्राओं को अबला से सबला बनाने की दिशा में बड़ी तन्मयता के साथ जुटे हुए हैं।

... तो आपका पूरा समाज साथ देगा

बहराइच के महिला डिग्री कॉलेज में आयोजित नारी सुरक्षा सप्ताह की गोष्ठी में उपस्थित सैकड़ों छात्राओं का आत्मबल मजबूत करने के लिये जहां बहराइच एसपी जुगुल किशोर ने नारी को नारायणी की संज्ञा से नवाजते हुए उनका जमकर उत्साह वर्धन किया, वहीं नारी सुरक्षा सप्ताह कार्यक्रम के दौरान महिला कॉलेज की एक छात्रा द्वारा उपस्थित अफसरों के बीच इस बात की शिकायत की गई कि उसकी फेशबुक आईडी से फोटो लेकर किसी मनचले द्वारा उसे बदनाम करने की कोशिश की गई और जब उसकी शिकायत महिला थाने में की गई तो थाने पर मौजूद महिला इंस्पेक्टर द्वारा कोई कार्रवाई नहीं की गई। इस शिकायत के सामने आते ही कार्यक्रम में मौजूद रिसिया सर्किल की सीओ श्रेष्ठा ठाकुर ने बड़ी शालीनता से उस छात्रा को समझाते हुए बताया कि जिस तरह एसपी साहब ने नारी के बारे में उदाहरण पेश किया है कि नारी सोने, चांदी, हीरे-मोती जैसे अनमोल खजाने की तरह होती हैं, जिन्हें छुपाकर रखा जाता है। जूतों और चप्पलों की तरह खुला नहीं फेंका जाता। इसलिये हम सबका भी दायित्व बनता है कि हमें कैसे रहना है। किससे बात करना है। हम सही होते हैं तो पुलिस ही नहीं पूरा समाज हमारा साथ देने से पीछे कत्तई नही हटता है।

अपना किमती वक्त जाया न करें

सीओ श्रेष्ठा ठाकुर ने कहा कि जब एक लड़की घर से बाहर निकलती है तो उसकी स्टाइल ही सब बता देती है कि लड़की का व्यक्तित्व कैसा है। क्योंकि समाज सब कुछ देखता और समझता है। रही बात फेसबुक और व्हाट्सएप की तो फेसबुक और व्हाट्सएप किसी को डॉक्टर या इंजीनियर बनने से नहीं रोक सकता, लेकिन ये भी सच है कि आज जो भी कोई ऊंचाई पर पहुंचे हैं, उनका इतिहास देख लो किसी ने फेसबुक और व्हाट्सएप नहीं चलाया होगा। अभी आप की पढऩे-लिखने की उम्र है, इन सब चोचलों में फंसकर आप खुद की अपना कीमती वक्त जाया करने का काम कर रहे हैं। इसलिये आप को चाहिए कि किसी अंजान से फेसबुक या व्हाट्सएप की दोस्ती में यकीन रखने के बजाय अपने भविष्य के बारे में लंबा लक्ष्य साधने का काम करें। कुछ इस तरह बहराइच जिले में सीओ श्रेष्ठा ठाकुर ने छात्राओं को जागरूकता का सबक रटाया।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned